Press "Enter" to skip to content

सांसद महुआ मोइत्रा का राज्यपाल धनखड़ पर जोरदार हमला

  • अंकलजी राजभवन को पारिवारिक बना लिया है क्या आपने

राष्ट्रीय खबर

कोलकाताः सांसद महुआ मोइत्रा ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ पर

गंभीर आरोप लगाये हैं। पश्चिम बंगाल सरकार के काम काज पर लगातार टीका टिप्पणी

करने वाले राज्यपाल से टीएमसी की सांसद मोइत्रा ने वहां बहाल लोगों के साथ उनके

रिश्ते का सवाल उठा दिया है। इस क्रम में ट्विटर पर उन्होंने किस व्यक्ति का किससे क्या

संबंध है, यह सूची भी जारी कर राज्यपाल को संकट में डाल दिया है। सांसद महुआ मोइत्रा

वैसे भी संसद सहित अन्य स्थानों पर मुखर टिप्पणी के लिए जानी जाती हैं। पहली बार

उन्होंने राज्यपाल धनखड़ से यह सीधा सीधा पूछ लिया है कि इस पश्चिम बंगाल के

राजभवन को क्या उन्होंने अपने रिश्तेदारों का इलाका बना लिया है। उन्होंने जो सूची जारी

की है, उसके मुताबिक राजभवन में तैनात छह लोग सीधे तौर पर उनके रिश्तेदार हैं।

राज्यपाल द्वारा राज्य की विधि व्यवस्था और सरकार के काम काज पर लगातार

टिप्पणी करने के बाद पहली बार वह खुद गंभीर किस्म के आरोपों से घिरे हैं। सांसद महुआ

मोइत्रा ने इस राजभवन को राज्यपाल का विस्तारित परिवार करार देते हुए इस मुद्दे पर न

सिर्फ राज्यपाल से सफाई मांगी है बल्कि स्वजन पोषण करने वाले राज्यपाल को यहां से

हटाने तक की मांग कर दी है। इस बीच राज्यपाल ने आज पश्चिम बंगाल के नये मुख्य

सचिव एच के त्रिवेदी से राज्य की विधि व्यवस्था के मुद्दे पर बात की है।

सासंद महुआ मोइत्रा ने आरोप के दस्तावेज भी जारी किये

सांसद महुआ मोइत्रा ने अपने रिश्तेदारों को राजभवन में बहाल करने के मुद्दे पर कठोर

भाषा का इस्तेमाल करते हुए लिखा है कि अंकल जी अब कोई दूसरी नौकरी तलाश

लीजिए। राजभवन में अपने रिश्तेदारों को बहाल करने का यह कारोबार ज्यादा दिनों तक

चल सकता। अब तो स्वजन पोषण के सबूत भी सामने आ चुके हैं। इसलिए दूसरों पर

कीचड़ उछालने से पहले अपने दामन को साफ कीजिए। राज्यपाल को हटाने की मांग

करते हुए उन्होंने कहा है कि ऐसे लोग भी राज्य में विधि व्यवस्था के खराब होने का हौवा

खड़ा कर रहे हैं। भाजपा का यह कुप्रचार पहले से ही चल रहा था और राजभवन भी

लगातार एक चुनी हुई सरकार को बदनाम करने के अपने अभियान में जुटा हुआ है।

इसलिए राजभवन से अंकलजी (श्री धनखड़) को अपने रिश्तेदारों के साथ अन्यत्र चले

जाएं, राज्य की स्थिति पहले से ही बेहतर रही है और कुप्रचार बंद होने से भ्रम भी दूर हो

जाएगा। इस पर राज्यपाल ने ट्विटर पर सफाई देते हुए सारे आरोपों को गलत बताया है।

श्री धनखड़ के मुताबिक यह सिर्फ ध्यान भटकाने  वाली बात है। राजभवन में उनके

रिश्तेदार नहीं बहाल हुए हैं। 

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from नेताMore posts in नेता »
More from बयानMore posts in बयान »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!