fbpx Press "Enter" to skip to content

विदेशी सांसदों की बजाय विपक्ष को भेजना उचित होता: मायावती

लखनऊः विदेशी सांसदों के बदले विपक्षी दलों को कश्मीर में भेजना ज्यादा उचित होगा। यह

बयान बसपा प्रमुख मायावती का है। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के खात्मे के बाद यूरोपियन

संघ के सांसदों के एक  प्रतिनिधिमंडल को पर्वतीय राज्य के दौरे की इजाजत देने के केन्द्र सरकार

के फैसले पर सवालिया निशान लगाते हुये बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने

मंगलवार को कहा कि विदेशी सांसदो के बजाय विपक्षी दलों के नेताओं को घाटी जाने की अनुमति

बेहतर निर्णय साबित होता।

सुश्री मायावती ने ट्वीट किया ‘‘ संविधान की धारा 370 को समाप्त करने के उपरान्त

वहाँ की वर्तमान स्थिति के आकलन के लिए यूरोपीय यूनियन के सांसदों को जेके

भेजने से पहले भारत सरकार अगर अपने देश के खासकर विपक्षी पार्टियों के सांसदों

को वहाँ जाने की अनुमति दे देती तो यह ज्यादा बेहतर होता। ’’

गौरतलब है कि 31 अक्टूबर से जम्मू कश्मीर केन्द्र शासित प्रदेशों की सूची में

शामिल हो जायेगा। यूरोपीय संघ के सांसदों के एक दल ने हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल से अलग-अलग मुलाकात की थी।

विदेशी सांसदों के वहां जाने से फायदा क्या यह भी बताना चाहिए

श्री मोदी ने साफ किया था कि सीमा पार से संचालित आतंकवाद से निपटने के लिये अनुच्छेद

370 हटाने का फैसला जरूरी हो गया था। सांसदों के दल में पोलैंड, फ्रांस, ब्रिटेन, इटली, जर्मनी,

चेकोस्लवाकिया, बेल्जियम, स्पेन और स्लोवाक के सांसद शामिल थे। कश्मीर से

अनुच्छेद 370 हटाने के बाद पहली बार भारत किसी विदेशी दल को कश्मीर जाने की इजाजत दे रहा है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

3 Comments

Leave a Reply

Open chat
Powered by