fbpx Press "Enter" to skip to content

मैट्रिक के नतीजे कल, 15.29 लाख स्टूडेंट्स के भाग्य का फैसला लॉकडाउन 4.0 में

पटना (बिहार) : मैट्रिक के नतीजों पर बिहार बोर्ड अपनी कमर कस चुकी है। और जाहीर है

की कल बच्चों के भविष्य की घोषणा कर दी जाएगी। हालांकि यह नतीजा सिर्फ बिहार बोर्ड

के बच्चों का है पर कोरोना महामारी के कारण जारी लॉकडाउन में बिहार बोर्ड से मैट्रिक की

परीक्षा देने वाले 15.29 लाख स्टूडेंट्स के लिए अच्छी खबर है। इस संबंध में कोई प्रेस

कॉन्फ्रेंस नहीं की जाएगी, बल्कि नतीजे ऑनलाइन जारी कर दी जाएगी। जिसकी

जानकारी बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (BSEB)  के अध्यक्ष आनंद किशोर ने

सोमवार को दी। ईद के खास मौके पर अपने जारी बयान में आनंद किशोर ने बताया कि

लॉकडाउन के कारण 15.29 लाख बच्चों को अपने भविष्य में आने वाले बदलाव का काफी

इंतजार करना पड़ा। जिसके लिए बोर्ड खेद प्रकट करता है। हालांकि इसकी वजह पूरा देश-

विदेश सब जान रहा है पर परीक्षाफल की घोषणा के इंतजार में बैठे बच्चों को काफी

कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है। चूंकि यह एक मात्र विकल्प होता है जिसके बाद

बच्चे तय कर पाते है कि उन्हे किस फील्ड में आगे अपना परचम लहराना है।

मैट्रिक रिज़ल्ट का विवरण जाने

बिहार स्कूल एजुकेशन बोर्ड (BSEB) यानि बिहार बोर्ड अपनी ओर से मैट्रिक के नतीजे

कल यानी मंगलवार को घोषित करेगा। बोर्ड कल दोपहर 12:30 बजे वार्षिक माध्यमिक

परीक्षा, 2020 के परीक्षाफल की घोषणा करेगा। कोरोना वायरस महामारी के कारण लागू

हुए लॉकडाउन की वजह से इस परीक्षाफल की घोषणा के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन

नहीं किया जाएगा। बच्चों के परीक्षाफल के नतीजे ऑनलाइन ही जारी किए जाएंगे। बिहार

बोर्ड के मैट्रिक के परिणाम BSEB की आधिकारिक वेबसाइट्स http://onlinebseb.in एवं

http://biharboardonline.com पर कल 12:30 बजे के बाद देखा जा सकता है।

परीक्षा में 7.83 लाख लड़कियां हुई थी शामिल

अध्यक्ष श्री किशोर ने बताया कि रिजल्ट की घोषणा शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा

द्वारा की जाएगी। इस मौके पर आर. के. महाजन, अपर मुख्य सचिव, शिक्षा विभाग भी

मौजूद रहेंगे। वहीं मैट्रिक परीक्षा में शामिल छात्राओं का विवरण देते हुए अध्यक्ष ने बताया

कि कुल 15.29 लाख छात्र-छात्राएं में 7.83 लाख सिर्फ लड़कियां इस वर्ष परीक्षा में शामिल

हुई थी, जिसकी बोर्ड ने 17 फरवरी से 24 फरवरी के बीच परीक्षा आयोजित कारवाई थीं।

योजना के अनुसार नहीं हो पाया मूल्यांकन

बोर्ड को योजना अप्रैल के पहले सप्ताह में मैट्रिक का रिजल्ट जारी करने की थी। लेकिन

कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के चलते  कॉपियों के मूल्यांकन कार्य रोक दिया

गया था। इसके बाद 6 मई से फिर कॉपियों का मूल्यांकन कार्य शुरू किया गया। बोर्ड ने

अब तक रिजल्ट की पोस्ट इवैल्यूएशन प्रक्रिया, वेरिफिकेशन और रिजल्ट अपलोडिंग से

जुड़े कार्य पूरे कर लिए हैं। अब बस बच्चों के भविष्य का फैसला जारी करना बाकी है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!