fbpx Press "Enter" to skip to content

त्रिस्तरीय मास्क, एन 95 मास्क, पीपीइ, सेनेटाइजर व थर्मो स्कैनर की हो रही आपूर्ति

  • सीएम ने कहा आपदा की घड़ी में सहायता करने वालें धन्यवाद के पात्र
  • राज्यवासियों से एक-दूसरे से दूर रहने पर दिलों से जुड़े रहने की अपील
  • लॉक डाउन के दौरान घरों में रह कर ही सुरक्षित रहा जा सकता है

रांची : त्रिस्तरीय मास्क, एन 95 मास्क, पीपीइ, सेनेटाइजर व थर्मो स्कैनर की नई दिल्ली

स्थित झारखंड भवन में जरूरत के अनुसार पूर्ण आपूर्ति की जा रही है। सीएम हेमंत सोरेन

ने आम जनता से शुक्रवार को अपील करते हुए कि दिलों से सबसे जुड़ाव बनाए रखे लेकिन

सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी है। राज्य सरकार हर गरीब-जरूरतमंदों को भोजन उपलब्ध

कराने की दिशा में कार्य कर रही है। इस आपदा की घड़ी में जरूरतमंदों की सहायता करने

वाले युवाओं की सराहना की और कहा कि राज्य में कोई भी व्यक्ति भूखा न सोये, इस

भावना के तहत काम होना चाहिये। उन्होंने राज्यवासियों से एक-दूसरे से दूर रहने पर

दिलों से जुड़े रहने की अपील की है। इस आपदा की घड़ी में दूसरे राज्यों में फंसे

राज्यवासियों की सेवा में लगे युवा धन्यवाद के पात्र हैं। कोरोना महामारी जात-पात, धर्म,

अमीरी-गरीबी में भेद नहीं करती है, बीमारी किसी को भी हो सकती है। इस संघर्ष में

अमीर-गरीब सब एक हैं। लॉकडाउन के दौरान घरों में रहना सुरक्षित कदम है।

त्रिस्तरीय मास्क के साथ कॉल सेंटर भी

सीएम ने कहा कि कोरोना से बचाव के लिये नयी दिल्ली स्थित झारखंड भवन में कॉल

सेंटर गठित किया गया है। इससे दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों, गरीबों को मदद पहुंचायी

जा रही है। इसके लिये हेल्पलाइन नंबर 08826652716 एवं 011-26739000 जारी किया

गया है । इन पर पूरे देश से झारखंड के निवासियों के कॉल कर रहे हैं । उन्होंने कहा कि

स्थानिक आयुक्त एमआर मीणा की अध्यक्षता में गठित टीम लगातार मॉनिटरिंग कर

रही है। जरूरतमंदों को भारत सरकार के गाइडलाइन के अनुसार सहायता पहुंचायी जा रही

है। इधर, झारखंड भवन की ओर से तीन अप्रैल को त्रिस्तरीय मास्क, 15 हजार एन 95

मास्क, 4986 पीपीइ, सात हजार 500 सेनेटाइजर, सौ थर्मो स्कैनर एयर इंडिया के कार्गो से

रांची भेजा गया है। इसके पहले 30 मार्च को 1200 वीटीएम किट एवं 25 हजार एन 95

मास्क भेजा जा चुका है। आवश्यकतानुसार चिकित्सकीय उपकरण भी मंगाये जायेंगे।

दुमका के चड़कापाथर में पहुंचेगा राहत सामग्री

सीएम ने दुमका डीसी को चड़कापाथर गांव की स्थिति का मुआयना कर लोगों तक जरूरी

मदद पहुंचाते का निर्देश दिया है। दरअसल, दुमका के चड़कापाथर गांव में गरीबों को

अनाज नहीं मिलने की शिकायत मिली थी। उन्होंने डीसी को प्राथमिकता के आधार पर

दाल-भात केंद्र संचालित करने को कहा है। दुमका डीसी को गरीबों तक अविलम्ब अनाज

उपलब्ध कराने को कहा गया है। इधर, सीएम के निर्देश के बाद थैलेसीमिया पीड़ित

बच्चियों का ईलाज शुरू कर दिया गया है। पूर्वी सिंहभूम के डीसी ने जानकारी दी है कि

मुसाबनी बीडीओ के देख-रेख में दोनों बीमार बच्चों को एमजीएम अस्पताल भेजा गया है।

पीडित बच्चों को अविलंब दो यूनिट ब्लड भी उपलब्ध करा दिया गया है। मालूम हो कि

मुसाबनी प्रखंड के गोहला गांव के दो गरीब बच्चियां थैलेसीमिया से पीड़ित हैं। पीड़ित

बच्चियों की जान बचाने की गुहार सीएम से की गयी थी, जिससे परिजनों में खुशी है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from बयानMore posts in बयान »
More from रक्षाMore posts in रक्षा »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!