fbpx Press "Enter" to skip to content

पंडित जसराज के निधन पर बोकारो के संगीतज्ञों ने जताया शोक

  • शिखर शास्त्रीय गायक व बहुत अच्छे संगीत गुरु थे: डॉ राकेश

  • संगीत मार्तंड जसराज भारतीय शास्त्रीय संगीत के गौरव: अरुण

बोकारोः पंडित जसराज के निधन पर बोकारो के संगीतज्ञों ने गहरा शोक प्रकट किया है।

संगीतज्ञ डॉ राकेश रंजन, पं बच्चन महाराज, बब्बनजी विश्वकर्मा, धनंजय चक्रवर्ती,

अरुण पाठक, रंजू सिंह, राकेश कुमार सिंह, अमरजी सिन्हा, स्वराज राय, प्रसेनजीत शर्मा,

धीरज तिवारी, विक्की आनंद पाठक, भास्कर रंजन डे, निमेश राठौर, संजीव मजुमदार,

जय प्रकाश सिन्हा, बलराम मजुमदार, रुपक कुमार झा आदि ने शोक-संवेदना प्रकट करते

हुए पं जसराज के निधन को संगीत जगत के लिए अपूरणीय क्षति बताया। भारतीय

संगीत कला अकादमी, बोकारो के सचिव व प्रसिद्ध तबला वादक डॉ राकेश रंजन ने कहा

कि पं जसराज शास्त्रीय गायकी के शिखर कलाकारों में से थे। मेवाती घराने से ताल्लुक

रखनेवाले पंडित जसराज शिखर शास्त्रीय गायक के साथ ही बहुत अच्छे संगीत गुरु भी

थे। उनके निधन से शास्त्रीय संगीत में जो रिक्तता आई है उसकी भरपाई संभव नहीं है। डॉ

रंजन ने कहा कि पं जसराज के निधन से एक दिन पूर्व संगीतज्ञ, लेखक व इलाहाबाद

विश्वविद्यालय के पूर्व प्राध्यापक गिरीश चन्द्र श्रीवास्तव का निधन भी संगीत जगत के

लिए गहरा आघात है। कवि, गायक व मिथिला सांस्कृतिक परिषद्, बोकारो के सांस्कृतिक

कार्यक्रम निदेशक अरुण पाठक ने कहा कि संगीत मार्तंड पंडित जसराज भारतीय शास्त्रीय

संगीत के गौरव थे। उनका जीवन शास्त्रीय संगीत के लिए समर्पित था। देश-विदेश में

शास्त्रीय गायक के रुप में जो उन्हें आदर प्राप्त था वह विरले को ही प्राप्त होता है। चर्चित

तबलावादक पं बच्चनजी महाराज ने कहा कि शास्त्रीय संगीत में योगदान के लिए पंडित

जसराज सदैव याद किए जाएंगे।

पंडित जसराज को उनके योगदान के लिए सदा याद किया जाएगा

शास्त्रीय संगीत में उनके अवदान के लिए उन्हें कई सम्मानों से नवाज़ा गया था। वरिष्ठ

संगीतज्ञ बब्बनजी विश्वकर्मा ने कहा कि पं जसराज ने अपनी सांगीतिक प्रतिभा व

साधना की बदौलत जो ख्याति अर्जित की उसके लिए वह सदैव आदर के साथ याद किए

जाएंगे। युवा तबलावादक रुपक कुमार झा ने कहा कि अप्रतिम प्रतिभा के धनी पं जसराज

शास्त्रीय संगीत में युवाओं के प्रेरणास्रोत थे। धीरज तिवारी ने कहा कि शास्त्रीय संगीत के

कद्रदानों के दिलों में पं जसराज हमेशा जीवित रहेंगे। संस्कार भारती, बोकारो महानगर

इकाई के संगीत प्रमुख संजीव मजुमदार ने कहा कि पंडित जसराज शास्त्रीय गायन व

संगीत के प्रति समर्पण के लिए सदैव स्मरणीय रहेंगे।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from इतिहासMore posts in इतिहास »
More from कला एवं मनोरंजनMore posts in कला एवं मनोरंजन »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »
More from बयानMore posts in बयान »
More from बोकारोMore posts in बोकारो »
More from लाइफ स्टाइलMore posts in लाइफ स्टाइल »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!