fbpx Press "Enter" to skip to content

बढ़ती हिंसा से अफगानिस्तान में दोनों तरफ से कई मरे

हेरातः बढ़ती हिंसा से अफगानिस्तान में फिर से चिंत की स्थिति है। अफगानिस्तान में

हिंसा का प्रमाण वहां होने वाली झड़पें और मौतों का आंकड़ा है। पहले यह समझा गया था

कि शांतिवार्ता के बाद वहां की स्थिति में सुधार होगा। चंद दिनों की शांति के बाद वहां फिर

से टकराव बढ़ता नजर आने लगा है। अफगानिस्तान में पश्चिमी हेरात प्रांत के कुश्क

रूबत सांगी जिले में तालिबान आतंकवादियों के हमले में सात लोगों की मौत हो गयी और

17 अन्य घायल हो गये। जिला गवर्नर लाल मोहम्मद उमरजई ने शनिवार को बताया कि

तालिबानी आतंकवादियों ने शुक्रवार देर रात ख्वाजा नूर इलाके में आम नागरिकों पर

हमला कर दिया जिसमें सात लोगों की मौत हो गयी। हमले के बाद हमलावर भाग

निकले। हेरात की प्रांतीय सरकार के प्रवक्ता जिलानी फरहाद ने हमले की पुष्टि करते हुए

बताया कि हमले में मारे गए लोगों में एक शिक्षक भी थे। तालिबान ने हमले के संबंध में न

तो कोई टिप्पणी की है और न ही इसकी जिम्मेदारी ली है। शांति वार्ता में अफगान सरकार

के प्रतिनिधियों के नहीं जाने के बाद तालिबान के आग्रह पर ही सरकार ने अपना

प्रतिनिधिमंडल वहां भेजा था। इस वार्ता में अमेरिकी सैनिकों की वापसी के साथ साथ जेल

में बंद तालिबान आतंकवादियों की रिहाई के मुद्दे पर भी चर्चा हुई है।

बढ़ती हिंसा का दूसरी कार्रवाई में आठ आतंकवादी मारे गये

अफगानिस्तान में उत्तरी प्रांत बाल्ख के चामताल जिले में तालिबानी आतंकवादियों के

ठिकानों पर सुरक्षा बलों की हवाई कार्रवाई में आठ आतंकवादी मारे गये। उत्तरी क्षेत्र में

सेना के प्रवक्ता मोहम्मद हनीफ रेजाई ने शनिवार को बताया कि सुरक्षा बलों ने खुफिया

सूचना के आधार पर जिले के चारसाई अलबुर्ज इलाके में शुक्रवार को तालिबानी ठिकानों

पर हवाई हमले किये। इस कार्रवाई में आठ आतंकवादी मारे गये और पांच अन्य घायल हो

गये। तालिबान से इस पर अब तक कोई टिप्पणी नहीं की है। इससे स्पष्ट है कि बढ़ती

हिंसा की घटनाओं की वजह से वहां सुरक्षाबल अब भी पूर्ण सतर्कता की अवस्था में हैं।

इससे पूर्व कई बार युद्ध विराम की घोषणा के तुरंत बाद तालिबान हमले में सुरक्षा बलों को

काफी नुकसान उठाना पड़ा है। इस वजह से अफगानिस्तान के सैनिक दोबारा यह गलती

करना नहीं चाहते।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from आतंकवादMore posts in आतंकवाद »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!