Press "Enter" to skip to content

उत्तराखंड सहित कई राज्यों के लोगों के 25 शवों की हुई पहचान

  • बचाव और राहत अभियान अब भी जारी

  • वैज्ञानिक तौर पर साक्ष् संरक्षित करने का काम

  • अब भी जारी है  बचाव और राहत का अभियान वहां 

देहरादून: उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों के जो लोग चमोली हादसे में मारे गये हैं, उनकी

पहचान का काम भी युद्धस्तर पर चल रहा है। दरअसल इस हादसे में कई शव ऐसे क्षत

विक्षत हुए हैं कि उनकी पहचान में समय लग रहा है। उत्तराखंड के चमोली जिले में

ग्लेशियर टूटने से हुई त्रासदी में लापता 204 व्यक्तियों में से मिले 25 शवों की पहचान

रविवार को हो गई। मृतकों में उत्तराखंड सहित उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और जम्मू

कश्मीर के लोग शामिल हैं। मृतकों में उत्तराखंड पुलिस के दो जवान भी शामिल हैं। अभी

25 शवों की पहचान किये जाने के अलावा, अन्य लापता व्यक्तियों की तलाश की जा रही

है। पुलिस प्रवक्ता और उप महानिरीक्षक (कानून व्यवस्था) नीलेश आनन्द भरणे ने

बताया कि चमोली में आयी प्राकृतिक आपदा में स्थानीय पुलिस, एसडीआरएफ, फायर

सर्विस, एफएसएल रेस्क्यू, खोज, बचाव राहत एवं डीएनए सैम्पलिंग के कार्यों में लगी हुई

है। उन्होंने बताया कि इस प्राकृतिक आपदा में लापता कुल 204 लोगों में से 50 (चमोली-

41, रूद्रप्रयाग- सात, पौड़ी गढ़वाल- एक, टिहरी गढ़वाल- एक) के शव अलग-अलग स्थानों

से बरामद किये जा चुके हैं, जिनमें से 25 लोगों की शिनाख्त हो गई है और 25 लोगों की

शिनाख्त नहीं हो पायी है। उन्होंने बताया कि आज तपोवन टनल से पांच, रैंणी गांव से छह

और रूद्रप्रयाग से एक शव समेत कुल 12 शव बरामद किये गये हैं। उन्होंने बताया कि

लापता समस्त लोगों के सम्बन्ध में अब तक कोतवाली जोशीमठ में 32 एफआईआर

पंजीकृत की जा चुकी है। इसके साथ ही जनपद चमोली के विभिन्न स्थानों से ही 23

मानव अंग भी बरामद किये गये हैं। बरामद सभी शवों एवं मानव अंगों का डीएनए

सैम्पलिंग और संरक्षण के सभी मानदंडों का पालन कर सीएचसी जोशीमठ, जिला

चिकित्सालय गोपेश्वर एवं सीएचसी कर्णप्रयाग में शिनाख्त हेतु रखा गया था।

उत्तराखंड सहित अन्य इलाकों के शवों का अंतिम संस्कार हुआ

शवों को नियमानुसार डिस्पोजल हेतु गठित कमेटी द्वारा अभी तक 32 शवों एवं 11

मानव अंगों का पूरे धार्मिक रीति रिवाजों एवं सम्मान के साथ दाह संस्कार करा दिया गया

है। श्री भरणे ने बताया कि आपदा में लापता हुए लोगों की सूची एवं बरामद हुए शवों की

पहचान के लिए अन्य राज्यों की पुलिस से भी लगातार पत्राचार किया गया है। उन्होंने

बताया कि बरामद 50 शव, 22 अंगों में से 24 शवों तथा 01 अंग की शिनाख्त की जा चुकी

है। यह काम अब भी जारी है। 

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from उत्तराखंडMore posts in उत्तराखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »

Be First to Comment

... ... ...
Exit mobile version