fbpx Press "Enter" to skip to content

सीधे नियोजन की मांग को लेकर उग्र आंदोलन करने को मजबूर ना करें प्रबंधन: शाहिद

बोकारो: सीधे नियोजन की मांग को लेकर विस्थापित अप्रेंटिस संघ के द्वारा सेक्टर-4

स्थित गांधी चौक में एक दिवसीय धरना दिया गया। धरना को संबोधित करते वक्ताओं ने

कहा कि बीएसएल प्रबंधन की विस्थापित विरोधी मानसिकता के कारण हम विस्थापित

दर दर की ठोकरे खाने को मजबूर हैं। हमारे बाप दादाओं ने अपनी जमीन, खेत और घर-

बारी इसलिए कुर्बान नही किया कि उनकी औलादे भूखे मर जाये। बोकारो इस्पात संयंत्र

निर्माण के वक्त हमसे वायदा किया गया था कि चतुर्थ वर्ग की नौकरी विस्थापितों के लिए

सुरक्षित व आरक्षित रहेगी। पर प्रबंधन अपने वायदे से मुकर गया। लंबे चले आंदोलन और

जद्दोजहद के बाद, प्रबंधन ने हम विस्थापितों को अप्रेंटिस कराकर नियोजन देने की बात

कही। परीक्षा लेने की कोई बात नही हुई थी, बल्कि अप्रेंटिस कराकर सीधे नियोजन देने की

बात हई थी। बावजूद इसके उच्च स्तरीय परीक्षा से गुजर कर हम विस्थापितों का

प्रशिक्षण के लिए चुनाव हुआ था। हम पांच सौ विस्थापितों का प्रशिक्षण पूरा हो चुका है,

अभी बीएसएल मैनपावर की भारी कमी से जूझ रहा है। अविलंब हमें सीधे नियोजित

किया जाए। बार बार परीक्षा लेकर हमें छांटने और नियोजन से वंचित रखने का षड्यंत्र ना

करे प्रबंधन। अब हम कोई परीक्षा नही देंगे। बाकियों का प्रशिक्षण अधर में लटका हुआ है,

वो जल्द शुरू किया जाए। अन्यथा आने वाले समय में हमारा आंदोलन उग्र रूप धारण कर

लेगा। कार्यक्रम को सीटू महामंत्री बीडी प्रसाद, झानसे अध्यक्ष गुलाब चंद्र, विस्थापित

साझा मंच के संयोजक राजकुमार गोराई, बोविग्रास अध्यक्ष बासुदेव महतो, विनय कुमार

सिंह, प्रदीप सोरेन, शाहिद राजा, प्रमोद कुमार, कन्हैया कुमार, अमजद हुसैन, किशोर, रवि

आदि ने भी संबोधित किया। मौके पर धनराज कुमार, कैसर इमाम, असलम अंसारी,

विकास, बसंत नारायण मांझी, कुणाल पांडेय, सत्यजीत सोरेन, अनिल सोरेन, रमेश

हेम्ब्रम समेत दर्जनों विस्थापित अप्रेंटिस मौजूद थे।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बोकारोMore posts in बोकारो »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!