fbpx

शहीद दिवस के मौके पर कार्यकर्ताओं को वर्चुअल रैली के माध्यम से ममता बनर्जी का संबोधन

शहीद दिवस के मौके पर कार्यकर्ताओं को वर्चुअल रैली के माध्यम से ममता बनर्जी का संबोधन
  • अलग अलग भाषाओं ने हुआ इसका प्रसारण

  • गुजरात तक पहुंच रही है तृणमूल कांग्रेस अब

  • जासूसी से बचने के लिए मोबाइल का कैमरा ढका

  • दिल्ली से भाजपा को हटाने तक यह खेला जारी रहेगा

राष्ट्रीय खबर

नईदिल्लीः शहीद दिवस के मौके पर अपनी ही पार्टी के कार्यकर्ताओं को पश्चिम बंगाल की

मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने संबोधित किया। देश भर और

खास कर पश्चिम बंगाल में पार्टी की तरफ से उनके इस संबोधन को सुनने के लिए खास

इंतजाम किये गये थे। उन्होंने वर्चुयल प्लेटफॉर्म पर सभी को संबोधित करते हुए सीधा

सीधा भाजपा पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल के चुनाव में खेला होबे

नारा जनता को पसंद आया है और जनता ने भाजपा को असली खेल दिखाया है। इसलिए

खेला होबे का नारा तब तक जारी रहेगा जबतक केंद्र से भाजपा को बेदखल नहीं कर दिया

जाता। प्रमुख बात यह रही कि शहीद दिवस पर अपनी बातों को राष्ट्रीय स्तर पर पहुंचाने

के लिए ममता ने अपने इस भाषण का अलग अलग भाषाओं में अनुवाद भी कराते हुए

उनका दिल्ली, तमिलनाडू, पंजाब, त्रिपुरा, गुजरात और उत्तर प्रदेश में भी प्रसारण

कराया। इसमें मुख्य बात खेला होबे नारे को दिल्ली की गद्दी से भाजपा को उतार फेंकने के

साथ जुड़ा रहा। उन्होंने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार ने अपने मनमाने फैसलों से देश

को अंधकार में धकेल दिया है। इस अंधकार से देश को मुक्त कराने के लिए भी खेला जारी

रखने की जरूरत है। शहीद दिवस के अपने संबोधन के क्रम में उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि

आगामी 16 अगस्त को खेला होबे दिवस के समारोह का आयोजन भी किया जाएगा। इस

क्रम में दूरस्थ इलाकों के बच्चों के बीच खास तौर पर फुटबॉल का वितरण भी किया

जाएगा।

शहीद दिवस के इस कार्यक्रम का अन्य भाषाओं में भी प्रसारण

केंद्र सरकार पर ताजा हमला बोलते हुए सुश्री बनर्जी ने कहा कि अब इस सरकार की

कारगुजारियों का नया खुलासा पिगासूस के जरिए हो चुका है। दरअसल भाजपा अपनी

गंदी और संकीर्ण सोच की वजह से पूरे देश को एक जासूसी का इलाका बना देना चाहती है,

जहां लोग आजादी से सांस तक नहीं ले सकें। उन्होंने साफ साफ कहा कि उन्हें इस बात की

जानकारी थी कि उनका फोन टैप किया जाता है। अन्य विरोधी दलों के नेता भी यह जानते

हैं कि उनके फोन टैप किये जाते हैं। इस जानकारी की वजह से भी विरोधी दल के नेता

आपस में खुलकर टेलीफोन पर बात भी नहीं कर पाते हैं। हर समय केंद्र की जासूसी अन्य

विरोधी नेताओं पर किसी अच्छे लोकतंत्र का संकेत तो नहीं है। शहीद दिवस के संबोधन में

ममता बनर्जी ने पिगासूस फोन हैकिंग विवाद को लेकर कहा कि उन्होंने अपने फोन के

कैमरे को कवर कर लिया है ताकि उसकी हैकिंग के जरिए उनकी जासूसी न की जा सके।

केंद्र को निशाने पर लेते हुए इसी क्रम में उन्होंने कहा कि आप जासूसी के लिए बहुत सारा

पैसा खर्च कर रहे हैं। मैंने इससे बचने के लिए अपने फोन को प्लास्टर कर लिया है। इसी

तरह से हमें केंद्र सरकार को भी ढक देना है, वरना देश बर्बाद हो जाएगा।

ईंधन के टैक्स का पैसा जासूसी पर खर्च कर रही केंद्र सरकार

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि ईंधन के मद में जो कर एकत्रित हो रहा है, वह

भाजपा अपनी इसी जासूसी पर खर्च कर रही है ताकि वह अपने विरोधियों की जासूसी से

उन्हें परास्त कर सके। उन्होंने इस मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट को भी अपने स्तर से हस्तक्षेप

करने की अपील की। अपने इस वर्चुअल भाषण में उन्होंने जिन नेताओं के अलावा

अधिकारियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और पत्रकारों की इस तरीके से पिगासूस साफ्टवेयर

के जरिए जासूसी की गयी है, उनका उल्लेख भी किया। पश्चिम बंगाल में अपनी जीत का

श्रेय जनता को देते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा द्वारा हर किस्म की साजिश किये जाने

की वजह से भी जनता में उल्टी प्रतिक्रिया हुई है। जनता इन साजिशों और चालों को

समझ रही थी इसी वजह से जनता ने आगे बढ़कर तृणमूल का समर्थन किया है। इसी क्रम

में आज की रैली में ऑनलाइन शामिल होने वाले कांग्रेस, एनसीपी, सपा, शिवसेना और

अन्य दलों के नेताओं का भी उन्होंने आभार व्यक्त किया।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Rkhabar

Rkhabar

One thought on “शहीद दिवस के मौके पर कार्यकर्ताओं को वर्चुअल रैली के माध्यम से ममता बनर्जी का संबोधन

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: