एके 47 तस्करी के मुख्य आरोपी मंजर पटना में गिरफ्तार

एके 47 तस्करी के मुख्य आरोपी मंजर पटना में गिरफ्तार
Spread the love
  • कई अन्य इलाकों की पुलिस सतर्क

  • कई राज्यों से जुड़े हैं तस्करों के तार

दीपक नौरंगी



भागलपुर : एके 47 की तस्करी करने वाले गिरोह के मुख्य आरोपी मंजर आलम उर्फ मनजी को

बिहार की पटना पुलिस ने आज गिरफ्तार कर लिया।

पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनु महाराज ने यहां मंजर की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए

बताया कि उसके खिलाफ राजधानी के जक्कनपुर थाना में पहले से ही दो मामले दर्ज हैं।

मंजर राजधानी के बुद्धा कालोनी थाना क्षेत्र में छिपकर रह रहा था।

गिरफ्तार मंजर के पास से बिहार के मुंगेर निर्मित पिस्टल भी बरामद किया गया है।

गिरफ्तार मंजर को इस मामले की जांच कर रही मुंगेर पुलिस रिमांड में लेकर पूछताछ करेगी।

मंजर की गिरफ्तारी के संबंध में मुंगेर पुलिस को सूचना दे दी गयी है

और संभवत: आज ही मुंगेर पुलिस की टीम पहुंचेगी।

इससे पूर्व इस मामले की जांच में लगी पुलिस ने शेखपुरा और गया जिले में

छापेमारी कर दो हथियार तस्करों को गिरफ्तार किया था।

इसी मामले में पुलिस ने मुंगेर के मकसूसपुर से भी एक अन्य हथियार तस्कर को दबोचा था।

उसी हथियार तस्कर की निशानदेही के आधार पर मंजर को गिरफ्तार किया गया है।

एके 47 तस्करी की जांच अब एनआइए कर रही है

इस मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) कर रही है।

सूत्रों ने बताया कि शेखपुरा और गया जिले से गिरफ्तार दोनों हथियार तस्करों से

पूछताछ के दौरान पुलिस को कई महत्वपूर्ण जानकारियां मिली थी ।

पूछताछ में यह खुलासा हुआ था कि जबलपुर से तस्करी कर लायी गयी

अत्याधुनिक एके 47 में से 20 को सिर्फ मुंगेर के अपराधियों को बेची गयी है।

मुंगेर के पुलिस अधीक्षक बाबू राम ने पिछले दिनों बताया था कि झारखंड के रामगढ़ से

गिरफ्तार कर लाये गये मंजर उर्फ मंजी के साले मोनाजिर से पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर

शेखपुरा जिले के चेवड़ा में छापेमारी कर उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के हलदरपुर थाना क्षेत्र के जगदीशपुर के रहने वाले आकाश को गिरफ्तार किया गया था।

आकाश के खिलाफ मऊ जिले के कई थानो में हथियार तस्करी के मई मामले दर्ज हैं।

पुलिस ने खुलासा किया था कि मंजर पुलिस से बचने के लिए 15-16 तथा 20 से 25 सितम्बर तक

आकाश के पास छिपकर रह रहा था और उस दौरान वह आकाश के मोबाइल का इस्तेमाल कर रहा था।

जानकारी मिलते ही आकाश को गिरफ्तार कर लिया गया।

इसके बाद आकाश ने पुलिस को बताया कि मंजर उसके पास आया था

लेकिन वह बिहार के गया में सक्रिय हथियार तस्कर राजीव रंजन के साथ कहीं अन्य ठिकाने पर शरण लिये हुए है।

पुलिस लगातार छापेमारी कर गया जिले के मेडिकल थाना क्षेत्र के शोभन बिगहा के रहने वाले राजीव रंजन को गिरफ्तार कर लिया।

गिरफ्तारी के बाद राजीव ने पुलिस को बताया कि मंजर उसके वाहन चालक एवं औरंगाबाद के हथियार तस्कर के साथ पुलिस के पहुंचने से पहले ही फरार हो गया।

राजीव गया जिले एक बड़े हथियार तस्कर के माध्यम से मंजर के संपर्क में आया था।

एके 47 मरम्मत के नाम पर गायब किये जाते थे

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के जबलपुर आर्डिनेंस फैक्ट्री के डीपो से करीब 70 अत्याधुनिक एके 47 गायब किये गये थे जिनमें से मुंगेर से पुलिस ने अबतक 20 बरामद कर लिये हैं ।

मुंगेर जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के बरदह गांव से पुलिस ने एके 47 के भारी मात्रा में कलपुर्जे भी बरामद किये थे।

इस गांव में मध्य प्रदेश के जबलपुर आर्डिनेंस फैक्ट्री के डीपो से लाये गये इन हथियारों की मरम्मत कर इसे अपराधियों को बेचा जाता था।

Please follow and like us:


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.