fbpx Press "Enter" to skip to content

महेश्वर हजारी बने विधानसभा के उपाध्यक्ष, गैरहाजिर रहा विपक्ष

  • सीएम, डिप्टी सीएम व मंत्रियों सहित अन्य ने दी बधाई

राष्ट्रीय खबर

पटना : महेश्वर हजारी को आज बिहार विधानसभा का उपाध्यक्ष चुन लिया गया। बिहार

विधानसभा के उपाध्यक्ष पद पर सत्तारूढ़ दल जदयू के पूर्व मंत्री महेश्वर हजारी को

निर्वाचित हो गये। इस प्रक्रिया के दौरान विपक्ष गैरहाजिर रहा, जिससे मतदान की नौबत

नहीं आई। विधानसभा उपाध्यक्ष पद का चुनाव निर्धारित समय से पूर्व शून्यकाल के

दौरान चुनाव की प्रक्रिया शुरू करने की अपील संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी ने

की तो स्पीकर विजय कुमार सिन्हा ने इस पर मुहर लगाते हुए शून्यकाल में चुनावी

प्रक्रिया विपक्ष के गैर हाजिर में शुरू करा दी। हालांकि विपक्ष ने विधानसभा में पुलिसिया

कार्रवाई के खिलाफ सदन का बहिष्कार किया था। इसका फायदा उठाते हुए सत्तापक्ष ने

आनन-फानन में निर्धारित समय से पूर्व चुनाव प्रक्रिया पूरा ही नहीं किया, बल्कि

ध्वनिमत से निर्वाचन प्रक्रिया की खानापूर्ति करते हुए 124 वोट से निर्वाचित होने की

घोषणा कर दी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उपाध्यक्ष पद पर महेश्वर हजारी को निर्वाचित

होने पर शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उपाध्यक्ष का चुनाव निर्वाचन प्रक्रिया की

औपचारिकताएं पूरी कर आम जनता का दिल जीता ही नहीं, बल्कि दलित के बेटा को इस

पद पर बैठाकर एनडीए सरकार सराहनीय कार्य किया है। विपक्ष पर हमला बोलते हुए

उन्होंने कहा कि कल की जो घटनाएं घटी है वह ठीक नहीं, विपक्ष किसके सलाह पर इस

तरह का अमर्यादित कार्य किया है। सदन में सरकार बहुमत के हिसाब से बनती है फिर भी

विपक्ष ने सदन में टांग अड़ाने के लिए उम्मीदवार देकर सदन में उपस्थित नहीं हुआ।

जिस दिन से पुलिस बिल विधेयक सदन में आया है उसी दिन से विपक्षी भारी हंगामा कर

गतिरोध उत्पन्न किया है। लोकतंत्र की मर्यादा है इसमें सबकी भागीदारी है।

महेश्वर हजारी के चुने जाने के बाद राजग नेताओं ने दी बधाई

उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष ने उपाध्यक्ष पद का

चुनाव की परंपरा शुरू की है वह स्वागतयोग्य कदम है। अंततः उपाध्यक्ष पद पर विपक्ष के

गैर मौजूदगी में निष्पक्ष एवं पारदर्शी तरीके से चुनाव कराकर सदन के नियम प्रक्रिया का

पालन कर चुना जाना गौरवशाली इतिहास है। पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि

आज वह ऐतिहासिक क्षण है जिसमें विधानसभा के उपाध्यक्ष पद पर किसी दलित को

बैठाकर गौरवशाली इतिहास बनाया है। इससे पूरे देश में आम जनता के बीच अच्छा संदेश

गया है। नीतीश कुमार ने ऐसे कई मौके पर दलितों को कुर्सी देकर सम्मान बढ़ाया है।

इसके लिए हार्दिक शुभकामनाएं। बधाई देने वालों में उपमुख्यमंत्री रेणु देवी, सुमित कुमार

‌सिंह, लोजपा विधायक दल के नेता राजकुमार सिंह, बीआईपी के मंत्री मुकेश सहनी, सवर्ण

सदस्य इत्यादि शामिल थे

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: