यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी ने रद्द किए 6 बिल्डर्स के 17 प्रॉजेक्ट्स

सैकड़ों बायर्स को झटका

0 1,027

यमुना एक्सप्रेस-वे डिवेलपमेंट अथॉरिटी ने 6 बिल्डर्स को तगड़ा झटका देते हुए 17 ग्रुप हाउसिंग प्रॉजेक्ट्स को रद्द कर दिया है। ले-आउट अप्रूवल ना लेने की वजह से हुई इस कार्रवाई से सैकड़ों बायर्स भी फंस गए हैं, जो इन प्रॉजेक्ट्स में निवेश कर चुके हैं। जिन बिल्डर्स के प्रॉजेक्ट रद्द किए गए हैं, उनमें जेपी, गौड़ सन्स प्राइवेट लिमिटेड, वीजीए डिवलेपर्स, अजनारा इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, ओरिस इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड, अरबेनिया प्राइवेट लिमिटेड शामिल हैं।बता दें कि जेपी समूह को 168 किलोमीटर लंबे यमुना एक्सप्रेस-वे बनाने की एवज में निर्माण शर्तों के अनुसार नोएडा से लेकर आगरा तक पांच जगहों पर पांच-पांच सौ हेक्टेयर जमीन दी गई थी। समूह ने दनकौर के पास मिली जमीन में से कुछ हिस्से गौड़ सन्स प्राइवेट लिमिटेड, वीजीए डिवलेपर्स, अजनारा इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, ओरिस इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड, अरबेनिया प्राइवेट लिमिटेड को बेच दी। वहीं, बाकी जगह पर कमर्शल और रेजिडेंशल प्रॉजेक्ट लॉन्च किए।

इन बिल्डर्स ने ले-आउट पास नहीं कराया था। अब यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी ने इन प्रॉजेक्ट्स को रद कर दिया है। गौड़ सन्स के सेक्टर-19, जेपी ग्रुप के सेक्टर-25, अजनारा के सेक्टर-22ए, ओरिस के सेक्टर-22 डी और अरबेनिया के सेक्टर-25 एसडीजेड में सैकड़ों बायर्स फ्लैट और प्लॉट की बुकिंग करा चुके हैं। वहीं, इससे पहले जेपी ग्रुप के पांच प्रोजेक्ट के ले-आउट रिजेक्ट किए जा चुके हैं। इन प्रोजेक्ट में फंसे बायर्स ने जेपी समूह के अधिकारियों के खिलाफ दनकौर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई हुई है।
रद्द होने वाले प्रोजेक्टस है-गौर सन्स सेक्टर 19 ग्रुप हाउसिंग, जेपीएसआई सेक्टर 25 ग्रुप हाउसिंग, जेपीएसआई सेक्टर 25 ग्रुप हाउसिंग, जेपीएसआई इंफ्राटेक सेक्टर 25 ग्रुप हाउसिंग, जेपीएसआईसेक्टर 25 ग्रुप हाउसिंग, ऑरिस इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर 22 डी टाउनशिप, वीजीए डिवेलपर्स सेक्टर 25 ग्रुप हाउसिंग, गौर सन्स सेक्टर 19, अजनारा इंडिया सेक्टर 22 ए ग्रुप हाउसिंग, उरबानिया सेक्टर 25 ग्रुप हाउसिंग, जेपीएसआई इंफ्राटेक सेक्टर 19 कमर्शल, जेपीएसआई इंफ्राटेक सेक्टर 19 ग्रुप हाउसिंग, जेपीएसआई इंफ्राटेक सेक्टर 19 कमर्शल, जेपीएसआई इंफ्राटेक सेक्टर 22बी ऐंड सी ग्रुप हाउसिंग।

You might also like More from author

Comments

Loading...