जन्माष्टमी में लें लड्डू गोपाल का नाम, लल्ला करेंगे हर मुराद पूरी

जन्माष्टमी में घर-घर पधारेंगे कान्हा

0 247
जन्माष्टमी
फाइल फोटो
भगवान कृष्ण के जन्म दिवस को ही जन्माष्टमी के रुप में मनाया जाता है। इस दिन भगवान कृष्ण के बाल रुप की पूजा होती है। सृष्टि में जब जब धर्म की हानि होती है तो उसकी रक्षा के लिए भगवान अवतार लेते है। मान्यता है कि जब द्वापर युग में राजाओं के अभिमान बहुत बढ़ गये। पृथ्वी दुष्टों के अधीन होने लगी, तो भगवान विष्णु ने कृष्ण अवतार लेकर पापियों का नाश किया।
यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत। अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ॥
परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्। धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ॥
  • श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व का विशेष महत्व है।
  • कहते हैं इस दिन भगवान पूजा से बहुत प्रसन्न होते हैं।
  • भगवान हर मनोकामना पूरी कर देते हैं।
  • इस दिन कृष्ण की पूजा करने से संतान प्राप्ति होती है।
  • यही नहीं, पूजन करने वाले को दीर्घायु का वरदान मिलता है
  • और समृद्धि की प्राप्ति होती है।

जिन लोगों का चंद्रमा कमजोर हो वे जन्माष्टमी पर विशेष पूजा से लाभ पा सकते हैं।

also read: previous post

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी उत्सव पूरे परिवार के साथ मनाएं।

मूर्ति को चांदी या लकड़ी के पटिए पर स्थापित करना चाहिए।

इसलिए आप उनके जन्मदिवस पर उनका खूब श्रृंगार करें।

श्रृंगार में फूलों का प्रयोग करें।

पीले रंग के वस्त्र, गोपी चन्दन और सुगंध से इनका श्रृंगार करें।

यशोदा के लल्ला को भोजन बहुत प्रिय है।

इसलिए जन्माष्टमी के दिन लोग कई तरह के पकवान चढ़ाते हैं।

जन्माष्टमी पर मुरलीधर की मन से पूजा करें।

लड्डू गोपाल को पंचामृत अर्पित करें, और उसमें तुलसी भी जरूर डालें। कृष्ण को मेवा, माखन और मिसरी बेहद प्रिय है।  इसलिए इनका भोग भी लगाएं। कहीं-कहीं इन्हे धनिये की पंजीरी भी अर्पित की जाती है।

सुबह-सुबह स्नान करके जन्माष्टमी के दिन व्रत या पूजा का संकल्प लें। मध्यरात्रि को भगवान कृष्ण की धातु की प्रतिमा को किसी पात्र में रक्खें। उस प्रतिमा को पहले दूध से, फिर दही से, फिर शहद से, फिर शर्करा से और अंत में घी से स्नान कराएं।

इसी को पंचामृत स्नान कहते हैं, इसके बाद जल से स्नान कराएं। पीताम्बर, पुष्प और प्रसाद अर्पित करें।  ध्यान रखें की अर्पित की जाने वाली चीजें शंख में डालकर ही अर्पित की जाए। इसके बाद अपनी मनोकामना के अनुसार मंत्र जाप करें।

You might also like More from author

Comments

Loading...