fbpx Press "Enter" to skip to content

मध्यप्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने दिया त्यागपत्र




  • कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद वर्तमान में विधायक भी नहीं थे मध्यप्रदेश

भोपाल: मध्यप्रदेश के जल संसाधन और मछुआ कल्याण तथा मत्स्य विकास मंत्री

तुलसीराम सिलावट ने मंत्री पद से त्यागपत्र दे दिया है। श्री सिलावट ने 20 अक्टूबर की

तिथि में लिखा अपना त्यागपत्र मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भेज दिया है।

त्यागपत्र में श्री सिलावट ने ‘स्वेच्छा’ से मंत्री पद छोड़ने की बात का जिक्र किया है। साथ ही

उन्होंने अनुरोध किया है कि त्यागपत्र 20 अक्टूबर की अपरान्ह से स्वीकार किया जाए।

त्यागपत्र आज मीडिया के समक्ष आया। दरअसल श्री सिलावट वर्तमान में विधायक नहीं

हैं। संवैधानिक प्रावधान के अनुसार कोई भी व्यक्ति विधायक बने बगैर अधिक छह माह

के लिए मंत्री पद पर रह सकता है। वे छह माह पहले शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल में

मंत्री के रूप में शामिल हुए थे। श्री सिलावट वर्तमान में इंदौर जिले की सांवेर विधानसभा

सीट पर हो रहे उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रत्याशी के तौर पर चुनाव

मैदान में हैं। उनका मुख्य मुकाबला कांग्रेस के प्रेमचंद गुड्डू से है। राज्य में सभी 28 सीटों

के साथ सांवेर में भी मतदान तीन नवंबर को होगा और नतीजे 10 नवंबर को सामने

आएंगे। श्री सिलावट वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में सांवेर से कांग्रेस के टिकट पर

चुनाव जीते थे। इसके बाद वे तत्कालीन कमलनाथ सरकार में मंत्री बने थे। राज्य में इस

वर्ष के राजनैतिक घटनाक्रमों के चलते श्री सिलावट ने मार्च माह में विधायक पद से

त्यागपत्र देकर श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के नक्शेकदम पर चलते हुए भाजपा का दामन

थाम लिया था। मार्च माह में ही राज्य में सत्ता बदली और भाजपा सरकार के गठन के

साथ ही श्री शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री बने। इसके बाद अप्रैल माह में श्री चौहान ने श्री

सिलावट को मंत्री बनाया था।

मध्यप्रदेश के जल संसाधन मंत्री के अलावा भी कई बागी थे

कांग्रेस के बागी विधायकों के कड़े तेवर की वजह से ही राज्य में कमलनाथ की सरकार गिर

गयी थी। इन नाराज विधायकों को मनाने का प्रयास काफी देर से प्रारंभ हुआ था। लेकिन

इन बागियों में से अनेक लोग इस बार होने वाले विधानसभा उपचुनावों में भाजपा की

तरफ से मैदान में है। प्रारंभिक सर्वे के मुताबिक इनमें से अधिकांश सीटों पर भाजपा की

स्थिति अच्छी नहीं मानी जा रही है।


 



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from मध्यप्रदेशMore posts in मध्यप्रदेश »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: