fbpx Press "Enter" to skip to content

लोकनायक जयप्रकाश नारायण के बाद दूसरा जेल ब्रेक हजारीबाग में

  • पूरे राज्य के जिले और थाना क्षेत्र हाई अलर्ट पर

  • सभी थानों को भेजे गए फरार बंदी की तस्वीर

  • जिले के सीमा सील, सघन चेकिंग अभियान जारी

  • 1942 में फरार हुए थे लोकनायक जयप्रकाश नारायण

अशोक कुमार शर्मा / इंद्रजीत कुमार गिरी

हजारीबाग: लोकनायक जयप्रकाश नारायण के बाद पहली बार ऐसा साहस और कमाल

किसी ने कर दिखाया है। वर्ष 1942 में पहली बार लोकनायक ने इस जेल से भागने का

रिकार्ड बनाया था। उसके बाद से अब तक कोई ऐसा साहस नहीं कर पाया है।

वीडियो में समझिये यह सारा माजरा

बाद में इसी हजारीबाग सेट्रल जेल का नाम भी लोकनायक को समर्पित किया गया था।

लेकिन आज हज़ारीबाग स्थित लोक नायक जय प्रकाश नारायण केंद्रीय कारागार के

डिटेंशन सेंटर से मो0 अब्दुला पिता अबु सुफियान वर्मा म्यांमार निवासी रविवार को सुबह

4 बजे खिड़की की रड को हैक्सॉ ब्लेड से काट कर फरार हो गया। फरारी के बारे में जेल

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मो0 अब्दुला शनिवार के रात में रोजाना की तरह

खाना पीना खाकर सो गया। रविवार के सुबह 8 बजे तक सोए हुए मानकर जेल कर्मी अपने

काम में लगे गए। 8-9 बजे तक सो कर नहीं उठने पर जगाने के ख्याल से जेल कर्मी गए।

इस दरम्यान जेल कर्मियों को अब्दुल के बिस्तर नाटकीय घटनाक्रम देखने को मिला।

तकिया के आदमी रूप बनाकर चादर ढक फरार हो गया। आनन फानन में घटना की

जानकारी हवलदार गोपाल सिंह को दी गई। हवलदार द्वारा बंदी फरारी की सूचना जेल

अधीक्षक को दी गई। जेल सुपरिटेंडेंट ने घटना की जानकारी जिले के आला अधिकारियों

को दी।

लोकनायक जयप्रकाश जेल का एसपी ने किया दौरा

जिला के अधीक्षक एस कार्तिक ने जेल का दौरा कर घटना का जायजा लिया । कारा

अधीक्षक द्वारा पुलिस कप्तान हजारीबाग को दिए गए जानकारी के अनुसार बर्मा

म्यांमार के निवासी मो0 अब्दुल पिता मो सुफियान को रेलवे पुलिस द्वारा अवैध घुसपैठ

के आरोप में गिरफ्तार किया गया था । सजा के तौर पर दुमका केंद्रीय कारागार में

सज्याफ्ता बंदी था। 24 जनवरी 2020 को अब्दुला समेत तीन बंगला देशी विदेशी बंदियों

की सजा पूरी हो चुकी थी। 26 फरबरी 2020 को हजारीबाग जेल के डिटेंशन सेंटर लाया

गया था । घटना के उपरांत हजारीबाग जिले की सीमा को शील कर पुलिस द्वारा सघन

चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। साथ ही राज्य के सभी जिलों के थानों को हाई अलर्ट

पर रखा गया है। फरार बंदी की तस्वीर राज्य के सभी थानों को भेजकर तलाश तेज कर दी

गयी है। समाचार लिखे जाने तक फरार कैदी का कुछ पता नहीं चला है। 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अदालतMore posts in अदालत »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from म्यांमारMore posts in म्यांमार »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »
More from हजारीबागMore posts in हजारीबाग »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!