fbpx Press "Enter" to skip to content

देश के अन्य हिस्सों में अब तेजी से फैलते जा रहे हैं टिड्डी,फसल खराब

  • जयपुर में अंधेरा छा गया जब उनका झूंड पहुंचा
  • लोगों में भय के साथ साथ कौतुहल का माहौल

जयपुरः देश के अन्य हिस्सों में अब टिड्डी तेजी से फैलते जा रहे हैं। राजस्थान के जयपुर

शहर में आज टिड्डियों के आने से लोगों में दहशत और कौतूहल का माहौल बन गया।

जयपुर जिले में पिछले दो दिनों से टिड्डियों के आने से किसानों की फसल खराब हो रही है

तथा कोरोना के कारण पहले से ही परेशान किसानों को टिड्डियों ने काफी नुक्सान

पहुंचाया। कृषि मंत्री लालचन्द कटारिया भी आज हरमाडा के पास सरनाडुंगर पहुंचे तथा

केमिकल का छिडकाव करवाया। जिससे टिड्डी शहर की तरफ आ गई तथा चांदपोल,

किशनपोल बाजार, सी स्कीम सहित कई स्थनों पर मंडराने लगी। भारी संख्या में

टिड्डियों ने अंधेरा सा कर दिया तथा पेड़ पौघों को नुकसान पहुंचाया । उल्लेखनीय है कि

राज्य के अन्य सस्थानों पर भी टिड्डीयों ने आक्रमण कर रखा है।तथा बाजरा एवं

मूंगफली की फसल को नुकसान पहुंचाया।

धौलपुर टिड्डी आक्रमण प्रभावित जिला घोषित

राजस्थान में धौलपुर जिले को टिड्डी आक्रमण के खतरे से प्रभावित जिला घोषित किया

गया है। जिला कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट ने इस आशय की अधिसूचना जारी की है।

जिला कलेक्टर द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार कृषि विभाग से प्राप्त सूचनाओं और

फीडबैक के आधार पर जिले को राजस्थान एग्रीकल्चर पेस्ट एंड डिजीज एक्ट, 1951 के

अंतर्गत टिड्डी आक्रमण के खतरे वाला जिला घोषित किया गया है। इस एक्ट के दायरे में

जिले में टिड्डी रोकथाम एवं नियंत्राण के लिए यथोचित उपाय किए जाएंगे। उपनिदेशक

कृषि विस्तार डॉ. दयाशंकर शर्मा ने बताया कि जिले में टिड्डी दल के आगमन की आशंका

बनी हुई है। टिड्डीयों के आगमन से पूर्व टिड्डी नियंत्राण के सम्बंध में जिला स्तर पर सभी

तैयारियॉ पूरी कर ली गई है जिसमें 20 ट्रेक्टरचलित स्प्रे मशीन, 6 पानी के टेंकर तथा

करीब 400 लीटर कीटनाशक रसायनों का प्रबंध किया गया है। उन्होनें बताया कि जिले के

सीमावर्ती क्षेत्रा में विभाग के 25 कार्मिकों को तैनात कर टिड्डी नियंत्रण के लिए निर्देशित

किया गया है।

देश में टिड्डी फैला तौ मप्र के पन्ना तक पहुंचा झूंड

राजस्थान की सीमा से मध्यप्रदेश के पश्चिमी हिस्से में कुछ दिनों पहले प्रवेश करना वाला

टिड्डी दल बुंदेलखंड अंचल के पन्ना जिले में भी पहुंच गया है। हवा के रुख पर सवार होकर

टिड्डियों का दल आज सुबह  नौ बजे देश में मध्यप्रदेश के पन्ना शहर में प्रवेश कर गया

और उसने रिहायशी इलाकों में जमकर उत्पात मचाया। देश में टिड्डियों का यह

विशालकाय दल पड़ोसी जिला छतरपुर में पेड़ पौधों को चट करते हुये रविवार की शाम

पन्ना जिले के पर्यटन ग्राम मड़ला पहुंचा था। रात में यह दल मड़ला और बगौंहा के जंगल

में डेरा डाले रहा और सुबह होते ही पन्ना शहर की तरफ कूच कर दिया। कृषि और राजस्व

विभाग के अधिकारियों ने बताया कि टिड्डी दल ने छतरपुर जिले में भी कहर बरपाया है।

जंगली पौधों को चट करने के बाद दल ने कई स्थानों पर फसलों को भी नुकसान पहुंचाया।

सोमवार की सुबह जैसे ही पन्ना शहर में टिड्डी दल का आगाज हुआ, सायरन की आवाजें

गूंजने लगीं। कुछ ही देर में जब कई सौ वर्ग मीटर क्षेत्र में फैले करोड़ों की तादाद में

टिड्डियाँ शहर के रिहायशी इलाकों में मंडराने लगीं तब लोगों ने भी टिड्डियों को भगाने के

लिए अपने अपने तरह से प्रयत्न किए।

प्रारंभिक जानकारी में बताया गया है कि

टिड्डी दल ने  ग्रामीण इलाकों में मूंग की फसल पर हमला किया है और वह इसकी फसल

चट करते जा रहे हैं। इसके अलावा फलों और सब्जियों की नर्सरियों को भी वे साफ कर रहे

हैं। टिड्डी दल के आगमन की आशंका के चलते पन्ना और आसपास के जिलों में प्रशासन

को पहले ही सतर्क किया गया था। कुछ दिनों पहले टिड्डी दल ने राजस्थान की सीमा से

सटे मध्यप्रदेश के मंदसौर, नीमच, रतलाम और अन्य जिलों में प्रवेश किया था। इसके

बाद से यह राज्य के अनेक जिलों को पार करते हुए बुंदेलखंड अंचल में पहुंच गया है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!