Press "Enter" to skip to content

लॉकडाउन की रात की बंदी से कुत्तों के सामने भोजन का संकट

  • स्वयंसेवी संस्था के लोग अब खिलाते हैं कुत्तों को खाना

राष्ट्रीय खबर

जलपाईगुड़ीः लॉकडाउन की रात की बंदी से कुत्तों के सामने भी भोजन का संकट गहरा

गया है। पहले रात को वे इधर उधर तलाश करते हुए कहीं से कुछ भोजन हासिल कर लिया

करते थे। अब तो शाम के बाद से ही सब कुछ बंद होने की वजह से उनके लिए भोजन का

यह संकट गहरा गया है। इस स्थिति को भांपते हुए एक स्थानीय स्वसंसेवी संस्था के

लोगों ने कुत्तों की मदद का बीड़ा उठाया है। वॉयस फॉर दा एनिमल नामक संस्था के

सदस्य अपनी मदद से सड़क पर रहने वाले आवारा कुत्तों को नियमित तौर पर रात का

भोजन करा रहे हैं। अब तो हालत ऐसी हो गयी है कि दूर से इस संस्था की गाड़ी नजर आते

ही कुत्ते भी भोजन आने की सूचना पर सतर्क हो जाते हैं। वैसे इस संस्था के सदस्यों की

अपनी आर्थिक स्थिति भी कोई अच्छी नहीं है। इसके बाद भी किसी तरह वे इस अभियान

को चला रहे हैं। इस संगठन की सदस्या रजनी सरकार ने बताया कि इंसानों के लिए तो

लगातार नेता, राजनीतिक दल और सामाजिक संगठन काम कर रहे हैं। इन जानवरों की

परेशानी है कि वे अपनी परेशानी हमें बता भी नहीं सकते। हर जगह आंशिक लॉकडाउन

की वजह से रात को सारी दुकानें बंद हो जाती हैं। ऐसे में इन आवार कुत्तों को पहले जो

भोजन जुट जाता था, वह पूरी तरह बंद हो गया है। अब हालात देखते हुए इस संस्था के

सदस्यों ने अब दुर्घटना में घायल पशुओं के ईलाज की जिम्मेदारी भी उठायी है।

लॉकडाउन की रात को अब कुत्ते भी गाड़ी का इंतजार करते हैं

इस शहर की मुख्य सड़कों के अलावा गली के कुत्तों तक को अपने आप ही इस बात की

जानकारी हो गयी है कि किस समय इस संस्था की गाड़ी उनके इलाके में आयेगी। वे भी

समय पर दूर से इस संस्था की गाड़ी के आने का इंतजार करते हुए देखे जा सकते हैं। शहर

के इंजीनियरिंग कॉलेज कैंपस, पांडापाड़ा, डीवीसी रोड, नेताजीपाड़ा, पातकाटा कॉलोनी

जैसे इलाकों भी कुत्तों के भोजन की यह सेवा अब नियमित तौर पर चल रही है।

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from भोजनMore posts in भोजन »

One Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
Exit mobile version