Press "Enter" to skip to content

शहर में चीता देखकर लोग घरों में कैद मुश्किल से काबू में आया




  • राष्ट्रीय खबर

शिलिगुड़ीः शहर में चीता दिखने की सूचना पर पहले तो लोगों को भरोसा नहीं हुआ लेकिन




जब अपनी आंखों से वह जंगली जानवर छलांग लगाता नजर आया तो लोग अपने अपने

घरों में कैद हो गये। इस घटना के बाद यहां के चंपासारी इलाका के समरनगर इलाके में

दहशत का माहौल हो गया था। दरअसल आज सुबह एक व्यक्ति घर साफ करने के बाद

कचड़े को फेंकने पास के झाड़ी की तरफ गया। वहीं पर चीता ने अचानक उस पर हमला

बोल दिया। उसके द्वारा शोर मचाने पर आस पास के लोग दौड़ पड़े। जब तक भीड़ आती,

चीता दूसरी तरफ गायब हो चुका था। लोगों के शोर मचाने पर वह चीता एक घर के अंदर

घुस गया था। उसके बाद लोगों ने समझदारी से काम लेते हुए चीता को वहीं छोड़ दिया।

स्थानीय नागरिकों की सूचना पर वन विभाग के कर्मचारी भागे भागे वहां पहुंचे। वे अपने

साथ चीता पड़ने के लिए जाल और पिंजड़ा भी ले आये थे। बड़ी तरीके से चीता के चारों




तरफ जाल बिछा देन के बाद उसे कैद किया गया और पिंजड़े में डालकर ले जाया गया।

वैसे लोगों का कहना है कि इस इलाके के मिलन मोड़ के पास ही एक चीता कुआं में गिरकर

मर गया था। इससे साफ है कि शहरी इलाकों में इनदिनों चीता का आना जाना बढ़ गया है,

जो आम नागरिकों के लिए आतंक का विषय है।

शहर में चीता के अलावा जंगली भैसा और हाथी भी

उत्तर बंगाल के कई इलाकों में शहर में चीता के अलावा जंगली भैसा और जंगली हाथी का

हमला भी इनदिनों बढ़ गया है। आम तौर पर ऐसे वन्य प्राणी जंगलों से ज्यादा दूर नहीं

जाते। लेकिन इस समय अत्यधिक शांति होने तथा गाड़ियों की आवाज कम होने की वजह

से वे बिना किसी रूकावट के आगे बढ़ते हुए आबादी की तरफ चले आते हैं। सुबह की

रोशनी में जब इंसानों से उनका सामना होता है तो वे भी चौकन्ने हो जाते हैं। कई इलाकों

में चीता के दवारा लोगों पर हमला किये जाने की घटनाएं सबसे अधिक यहां के चाय

बगानों में पायी गयी है।



More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from पश्चिम बंगालMore posts in पश्चिम बंगाल »

Be First to Comment

Leave a Reply