बिहार से आया गाड़ियों का काफिला, शराब के ठेकों पर लगी भीड़

बिहार से आया गाड़ियों का काफिला, शराब के ठेकों पर लगी भीड़
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • सभी ने ठेके पर लगाई प्रतिष्ठा की बोली

  • पीसीसार व पेट्रोलिंग को देख भी नहीं छोड़ी बेशर्मी

  • गाड़ियों के नेम प्लेट पर चढ़ी थी पट्टियां

चतरा: बिहार से आया गाड़ियों का काफिला यहां चर्चा का विषय बना हुआ है।

इसी क्रम में यह चर्चा भी फैल रही है कि बिहार का एक शहंशाह जल्द ही लोकसभा क्षेत्र में अवतरित होने वाला है।

इस तथाकथित दिग्गज के साथ बिहार की राजनीति में विभिन्न बड़े पदों पर विराजमान

दर्जनों राजनीतिक महारथी भी जिले में पधारने वाले हैं।

जो दिन रात धनबल का प्रयोग कर चतरा लोकसभा के सीधी साधी मतदाताओं को रिझा कर

अगले पांच साल के लिए अपनी जीत सुनिश्चित कर पार्टी प्रत्याशी को लोकतंत्र की मंदिर में भेजेंगे।

दिन में तारे देखने वाले इस महानुभाव के सपने को साकार करने के लिए जिला मुख्यालय में

विभिन्न स्थानों पर उनके कर्ता-धर्ताओं ने मोटी रकम देकर किराए का मकान भी ले लिया है।

इतना ही नहीं जिला मुख्यालय के कई बड़े होटलों और रेस्ट हाउसों को भी उन लोगों ने अपना ठिकाना बना लिया है

जहां प्रतिदिन शराब के साथ-साथ कबाब उड़ाए जा रहे हैं।

बिहार की नेताओं का जमघट शाम को शराब के ठेकों पर ज्यादा दिखा

बिहार से आया गाड़ियों का काफिला, शराब के ठेकों पर लगी भीड़

बिहार से आया गाड़ियों का काफिला, शराब के ठेकों पर लगी भीड़
अष्टमी के मौके पर योजना के मुताबिक बिहारी महानुभव दल बल के साथ चतरा भी पहुंच गए।

यहां उनका स्वागत जोरदार तरीके से किया गया।

इतना ही नहीं झारखंड में प्रवेश करने से पूर्व तथाकथित नेता जी को उनके पार्टी नेताओं

और कार्यकर्ताओं ने झारखंड-बिहार सीमा पर स्थित गोसाईडीह में फूल और माला से लाद दिया।

कार्यकर्ताओं का उत्साह देख कर नेता जी भी गदगद हो गए और गाड़ी छोड़कर पैदल ही चल दिए।

कुछ दूर पैदल चलने के बाद धूप में जब धूल के बीच नेताजी की सांसे फूलने लगी तो वह भागे-भागे फिर से अपनी ऐसी गाड़ी में बैठ गए।

बिहार के नेताजी की नजर चतरा की लोकसभा सीट पर

और फिर वहां से उनका काफिला जिला मुख्यालय स्थित गृह प्रवेश कार्यक्रम स्थल पहुंच गया।

लेकिन इन सबों के बीच सबसे मजे की बात तो यह रही कि नेता जी की अगुवाई करने

गोसाईडीह पहुंचे राजद नेताओं में से लगभग 80 प्रतिशत श्रीमान जी लोकसभा क्षेत्र से बाहर के थे।

कोई रामगढ़ कोई बोकारो तो कोई रांची और हजारीबाग से नेताजी की अगुवाई कर

उनका उत्साहवर्धन करने हजारों रुपये खर्च कर चतरा पहुंचे थे।

इस पूरे कार्यक्रम से राजद जिला कमेटी के अलावे उसके वरीय अधिकारी और नेता गायब रहे।

यूं कहे तो पार्टी के केंद्रीय सचिव सह पूर्व विधायक जनार्दन पासवान व जिला अध्यक्ष सलीम गोल्डेन

समेत पार्टी के लगभग सभी सक्रिय वरिष्ठ नेताओं ने महानुभाव के गृह प्रवेश कार्यक्रम का सीधे तौर पर बहिष्कार कर दिया।

हालांकि इसके बाद भी नेताजी की खुशी कम ना हो इसका अतिथि नेताओं ने भरपूर ख्याल रखा।

विभिन्न जिलों व राज्यों से पहुंचे ये अतिथि नेता व कार्यकर्ता नेताजी की आवभगत में दिन भर लगे रहे।

लेकिन शाम होते ही मेहमानों के आगमन का माजरा समझ मे आ गया।

सफेद खादी के लिबास में ये लोग भी इंसान ही थे। शाम होते-होते इनकी फुर्ती जवाब दे गई।

बिहार में शराबबंदी तो यहां छककर पी गयी शराब

बिहार से आया गाड़ियों का काफिला, शराब के ठेकों पर लगी भीड़उसके बाद धीरे-धीरे अतिथि कार्यक्रम स्थल से खिसकने लगे और दिनभर की भागदौड़ से

थक कर चूर हो चुके अपने शरीर को पुनः रिचार्ज करने के लिए शराब के अड्डे पर पहुंच गए।

भाई पहुंचते भी क्यों नहीं…? ये लोग जिस राज्य से नेता जी की जी हजूरी के लिए आए थे वहां शराब प्रतिबंधित है।

इसका उन लोगों ने भरपूर ध्यान रखा और शाम ढलते ही ठेके के इर्द-गिर्द संचालित फास्ट फूड, चखना व अन्य दुकानों में जम गए।

इस दौरान क्या आम और क्या खास सभी दुकान से लेकर सड़क तक शराब की चुस्की ली।

सबसे मजे की बात तो यह रही कि शराब सेवन के दौरान इन बेशर्म नेताओं को अपनी मर्यादा तक का ख्याल नहीं रहा।

विभिन्न नेम प्लेट व शीला पट्ट लगे वाहनों को बीच सड़क पर ही खड़ा कर लोग शराब पीने में घंटों मशगूल रहे।

हालांकि इस दौरान पुलिस की पीसीआर और पेट्रोलिंग गाड़ी को देख कर इन्हें थोड़ा बहुत शर्म भी बीच-बीच में आता रहा।

ये लोग पुलिस को देख कर थोड़े शर्माते तो थोड़े इतराते भी रहे।

मतलब की साफ साफ शब्दों में कहा जाए तो अतिथि नेता और कार्यकर्ताओं के बहाने

लोकसभा सीट पर अपनी दावेदारी पेश करने के उद्देश्य से शक्ति प्रदर्शन करने पहुंचे

नेताजी की योजना दिन भर तो थोड़ी बहुत सफल रही लेकिन शाम होते ही खंड खंड विखंडित हो गई।

महाशय के गृह प्रवेश कार्यक्रम में दिनभर जितनी भीड़ नहीं दिखी

उससे ज्यादा उनके अतिथि शराब के ठेकों के इर्द-गिर्द दुकानों व फुटपाथों पर

खुलेआम अपनी ईज्जत व प्रतिष्ठा का शराब के पैग के साथ चियर्स करते दिखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.