fbpx Press "Enter" to skip to content

जनता इस बार वोट की झाड़-फूंक से सारे भूत-प्रेत छुड़ा देगी : लालू

पटनाः जनता इस बार वोट की झाड़-फूंक से सारे भूत प्रेत भगा देगी।

चारा घोटाला मामले में जेल में बंद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष

लालू प्रसाद यादव ने बिहार में उनके मुख्यमंत्री आवास छोड़ने से पहले

दिए गए बहुचर्चित बयान कि वह आवास में भूत छोड़ आए हैं को लेकर

एक बार फिर गर्म हुई प्रदेश की राजनीति के बीच आज राज्य की

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार पर निशाना साधते हुए

कहा कि जनता इस बार वोट की झाड़-फूंक से इनके सारे भूत-प्रेत छुड़ा

देगी।

श्री यादव के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर आज ट्वीट कर कहा गया, ‘‘इस बार जनता कसके वोट की झाड़-फूंक से इनके सारे भूत-प्रेत छुड़ा देगी। विकराल बेरोजगारी,

महंगाई, ध्वस्त विधि व्यवस्था, बदहाल शिक्षा व्यवस्था और घूसख़ोरी

जैसे सतही भूत-प्रेती और डरावने मुद्दों की बात नहीं करके छलिया

लोग जनता को भ्रमित करने के लिए भुतही बातें कर रहे है।’’ वहीं,

पूर्व मुख्यमंत्री एवं राजद अध्यक्ष की पत्नी राबड़ी देवी ने ट्वीट कर

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला और कहा, ‘‘गरीबों

के खेवनहार (लालू प्रसाद यादव) जब वर्ष 2005 में मुख्यमंत्री आवास

से निकले थे तब उसमें एक भूत घुसा था।’’

श्रीमती राबड़ी देवी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘मुख्यमंत्री आवास में

भूत छोड़कर आया हूं। साहब (राजद अध्यक्ष) के इस वाक्य का भावार्थ

नीतीश जी शायद समझ नहीं पाए। 15 वर्ष बाद भी नीतीश जी आवास

में सुबह-सुबह आइना देखते हैं तो उन्हें भूत ही नजर आता है।’’

जनता इस बार कहा तो मंगल पांडेय का पलटवार 

वहीं, स्वास्थ्य मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता

मंगल पांडेय ने श्री यादव एवं श्रीमती राबड़ी देवी के ट्वीट पर पलटवार

करते हुए आज कहा कि राजद अध्यक्ष का हाल ‘नौ सौ चूहे खाकर

बिल्ली हज को चली’ वाला है। खुद तो चारा और लारा घोटाले में

सजायफ्ता बन बिरसा मुंडा जेल की शोभा बढ़ा रहे हैं लेकिन दार्शनिक

बन लोगों को रोजगार, भ्रष्टाचार और राजनीतिक शुचिता पर उपदेश

बांचने से बाज नहीं आ रहे हैं।

श्री पांडेय ने कहा कि बिहार को जंगलराज दिखाने का श्रेय जिनके माथे

पर है, वह अब जेल में बैठकर कानून पर थोथली बयानबाजी कर रहे

हैं। प्रदेश की जनता 15 सालों तक पति-पत्नी की सरकार के

आतंकराज से पूरी तरह वाकिफ है। अखंड बिहार की स्थिति यह थी कि

रोजगार तो जा ही रही था, पलायन भी जोरों पर था। हर दिन हत्या,

अपहरण, लूट और बलात्कार आम बात थी। कल-करखाने बंद हो रहे

थे लेकिन अपराध एवं अपहरण ने कुटीर उद्योग का रूप ले लिया था।

भाजपा नेता ने कहा कि जिस व्यक्ति ने अपने परिवार और घोटाले से

इतर कुछ नहीं सोचा, उस व्यक्ति के मुंह से ऐसा बयान लगता है कि

जेल जाने के बाद उन्हें सदबुद्धि मिली है। बिहार की जनता अब उनकी

बातों में आने वाली नहीं है। इसलिए, अब श्री लालू प्रसाद यादव काल

कोठरी से प्रवचन न वांचे और पाश्चाताप करें। फिर भी, भविष्य में

उनकी सरकार नहीं बनने वाली है।

सत्रह करोड़ जनता अपना मन बना चुकी है

राज्य की 12 करोड़ से अधिक जनता राजद की सरकार बनाने का मन

बना चुकी है। इसलिए 2020 में राजग की ही सरकार मुख्यमंत्री नीतीश

कुमार के नेतृत्व में बनेगी। उल्लेखनीय है कि नववर्ष के पहले दिन 01

जनवरी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने एक अणे मार्ग स्थित

सरकारी आवास में बधाई देने आए नेता एवं पत्रकारों के बीच वर्ष 2006

का वाकया याद करते हुए कहा था कि जब लालू-राबड़ी यहां से दूसरे

आवास में शिफ्ट हुए थे तब जादू- टोना करने के बहाने जगह-जगह

पुड़िया छोड़ गए थे। वह तो समझ भी नहीं पाए कि इन सबका क्या

मतलब था लेकिन बाद में श्री यादव ने मजाक में बताया था वह

मुख्यमंत्री आवास में भूत छोड़ आए थे। वहीं उप मुख्यमंत्री एवं

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता सुशील कुमार मोदी ने कल

ट्वीट कर कहा था, ‘‘बिहार में 15 साल राज करने वाले लालू प्रसाद

यादव को जब जनता ने सत्ता से बाहर किया था, तब काफी दिनों तक

उन्होंने मुख्यमंत्री आवास नहीं छोड़ा और श्री नीतीश कुमार को सर्किट

हाउस से सरकार चलानी पड़ी थी। जाते समय श्री यादव आवास की

मिट्टी तक ले गए थे। भूत-प्रेत और तंत्र-मंत्र को मानने वाले लालू प्रसाद

ने बाद में एक तांत्रिक को पार्टी का उपाध्यक्ष तक बना दिया था। जिन्हें

जनता पर भरोसा नहीं, वे राज्य का भला क्या करेंगे।’’

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बयानMore posts in बयान »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

3 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!