Press "Enter" to skip to content

कुजू के जर्जर जल मीनारों की जांच रिपोर्ट पर तय होगा उनका क्या करना है

  • अभियंताओं ने जांची मजबूती, रिपोर्ट के बाद होगा मरम्मत या ध्वस्त

कु्जू : कुजू के जर्जर जलमीनारों की जांच करने शुक्रवार को रांची सीसीएल मुख्यालय के आदेश के बाद ओमेगा

कंसलटेंट कंपनी के जांच टीम दल कुजू पहुंचे। सीसीएल कुजू क्षेत्रीय सिविल विभाग के अधिकारियों के साथ दल

कुजू कोलियरी न्यू कॉलोनी पूर्वी और केबी गेट के जल मीनारों की जांच की। इस दौरान दल ने दो मशीनों के

माध्यम से जलमीनार के मजबूती की जांच के लिए रिपोर्ट तैयार किया। वही बारिश के कारण क्षेत्र के आरा काटा

स्थित दो जलमीनार, तोपा स्थित दो जलमीनार और पुंडी के जलमीनार की जांच बाधित हुई। जिसे पुनः शनिवार

को कराया जाएगा। इस संबंध में एसओ सिविल विवेक कुमार ने बताया कि कुजू के जर्जर जलमीनारों की मजबूती

की स्थिति की जांच कर रिपोर्ट तैयार किया जा रहा है। जिसके बाद जल मीनार की मजबूती के आधार पर ही तय

किया जाएगा कि जल मीनार की मरम्मत की जाएगी या इसे ध्वस्त किया जाएगा। मौके पर कंपनी के जांच टीम

के साथ एसओसी विवेक कुमार सहित ओवरसियर राकेश मीणा, लिमस तिर्की आदि मौजूद थे।

कुजू के जर्जर जल मीनारों का क्या है मामला

रांची से प्रकाशित दैनिक अखबार में 7 जून को छपी खबर के बाद सीसीएल प्रबंधन हरकत में आई। जिसके बाद

महाप्रबंधक कुजू ईश्वर चंद मेहता कु्जू कोलियरी स्थित पूर्वी न्यू कॉलोनी के जर्जर जलमीनार का जायजा लिया।

इस दौरान उन्होंने मौजूद अधिकारियों को फटकार लगाते हुए तुरंत जलमीनार की जांच कर ध्वस्त करने की

प्रक्रिया प्रारंभ करने की बात कही थी। जिसके दूसरे दिन ही जल मीनार के 30 मीटर के दायरे को डेंजर जोन घोषित

करते हुए 52 क्वार्टरों को खाली करने का आदेश सीसीएल प्रबंधन ने दिया था। साथ ही जल मीनार की वास्तविक

स्थिति की जांच करने के लिए कागजी कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई थी।

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from रामगढ़More posts in रामगढ़ »

One Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
Exit mobile version