fbpx Press "Enter" to skip to content

‘ खेला होबे’ के गीत ने बदल दिये हैं सारे चुनावी नारे




  • जय श्री राम के नारों पर भारी पड़ गयी युवक की कविता

  • सामाजिक समारोहों में भी लीड धुन बन गया गीत

  • हर उम्र को इसके साथ नाचते देखा जा सकता है

  • भाजपा के सारे नारे अचानक से कमजोर पड़ गये

विशेष प्रतिनिधि

कोलकाताः ‘खेला होबे’ अब सोशल मीडिया का एक वायरल शब्द है। ऐसा होगा यह तो

शायद उस गीत को लिखने वाले ने भी नहीं सोचा था। लेकिन तृणमूल के इस युवा नेता ने

गीत को लिखने के बाद उसे जब स्वर दिया तो यह जनसभाओं में उत्साह संचार करने का

नया हथियार बनकर उभरा है। इसके साथ ही दोगुने उत्साह के साथ टीएमसी के कार्यकर्ता

भी मैदान में उतर आये। अब हालात यह है कि जय श्री राम के नारों के बीच पश्चिम बंगाल

में यह ‘खेला होबे’गीत अधिक प्रभावी बन चुका है। हालात यह है कि अब भाजपा के

नेताओं को भी इसे दोहराना पड़ रहा है।

वीडियो में देख लीजिए गीत के दो अलग अलग तेवर

‘खेला होबे’गीत को लिखा था एक युवा इंजीनियर देवांशु भट्टाचार्य ने। गीत के लोकप्रिय

होने के प्रथम चरण में भी भ्रम फैलाने की कोशिश कुछ बड़े चैनलों और मीडिया घरानों

द्वारा की गयी। हजारों लोगों को इस गीत के धुन पर नृत्य करते देख ही यह पता चल

गया था कि बाजार में यह सुपरहिट होने जा रही है। भाजपा की तरफ से पहले तो इसकी

खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत की गयी। उसके बाद यह भ्रम फैलाया गया कि जिसने

यह गीत लिखा, उसी के साथ ‘खेला होबे’ हो गया यानी उसे पार्टी ने टिकट ही नहीं दिया है।

इस बार में खुद देवांशु कहते हैं कि न तो मैंने कभी टिकट की मांग की और न ही पार्टी के

किसी अन्य नेता ने मुझसे इस बारे में बात की। फिर यह बात बार बार कुछ चैनल ही क्यों

प्रसारित कर रहे हैं, जिनके प्रसारण से स्पष्ट है कि वे भाजपा के लिए माहौल बनाने का

काम करते रहते हैं।

खेला होबेके रचनाकार पर भी कुप्रचार का दौर चला

‘खेला होबे’के रचनाकार ने कहा कि अगर मैं चुनाव लड़ता तो एक विधानसभा में फंसकर

रह जाता। अब तो सभी क्षेत्रों में जाकर दीदी के समर्थन में प्रचार करने की आजादी है।

देवांशु कहते हैं कि दीदी के लड़ाई करने की क्षमता का कोई जोड़  नहीं है। हर समझदार

व्यक्ति यह समझ सकता है कि जबर्दस्त संघर्ष के क्रम में ममता दीदी ने इस राज्य को

क्या कुछ दिया है। भाजपा में जो लोग चले गये हैं, उन्हें निशाना बनाकर लिखा गया गीत,

बंगाल के लोगों को अच्छी तरह समझ में आ रहा है।

बंगाल में हर चुनावी भाषण में इसका जिक्र जरूर हो रहा है। इंटरनेट पर भी जमकर

वायरल है। इसका डीजे वर्जन तो पश्चिम बंगाल में शादियों में भी बज रहा है। टीएमसी के

युवा वोटर्स में बेहद लोकप्रिय हो चुके ‘खेला होबे’ गीत को 25 साल के सिविल इंजीनियर

और टीएमसी के युवा नेता देबांगशु भट्टाचार्ज ने लिखा है। खुद ममता बनर्जी ने इसका

इस्तेमाल शुरू किया तो बीजेपी के बड़े-बड़े नेताओं ने भी ‘खेला होबे’ के जरिए ही ममता को

जवाब दिया।

बांग्ला में लिखे गये इस गीत में परोक्ष तौर पर टीएमसी से भाजपा में गये नेताओं के प्रति

भी नाराजगी है। गीत में कैलाश विजयवर्गीय से लेकर उन नेताओँ को चेतावनी दी गयी है,

जो टीएमसी छोड़कर भाजपा में चले गये हैं। इसके भाव में कहा गया है कि जब उनके पीछे

से दीदी की तस्वीर हट जाएगी तब पता चलेगा कि ‘खेला होबे’क्या होता है। इस गीत में

ममता बनर्जी की लोकप्रिय योजनाओं को बेहतर तरीके से पेश करने के साथ साथ नरेंद्र

मोदी तक को लपेट दिया गया है। सोशल मीडिया में वायरल हो चुके इस बांग्ला गीत के

कई संस्करण आ चुके हैं।

गीत के बोल तो अब शादी समारोहों में भी बजने लगे हैं

इस गीत के बोल इस तरह हैं
बाइरे थेके वर्गी आसे नियम कोरे प्रति मासे

आमिओ आछि तुमिओ रबे, बंधु एबार खेला होबे

‘खेला होबे’खेला होबे

तृणमूलेर भांगिये नेता, नयको सहज भोटे जेता

दीदीर छवि सरबे जबे, बंधु सेदिन खेला होबे

‘खेला होबे’ खेला होबे, ‘खेला होबे’ खेला होबे

कन्याश्री बोनटा आमार, हच्छे जखन इंजीनियर

जुद्धो से बोन जीतते होबे, बंधु एबार खेला होबे
खेला खेला खेला होबे

बुड़ी मायेर स्वास्थ्य साथी, फुलिये बले बुकेर छाति

ऑपरेशन फ्री तेई होबे, खेला खेला खेला होबे

खेला खेला खेला होबे

कब्जी जोदि शक्तिशाली, माठे आछे लड़ने वाली

बंधु बलो आसछो कबे, खेला खेला खेला होबे

आमार माटि सोइबे ना, यूपी बिहार हईबे ना
बांग्ला आमा बांग्ला रबे, भीषण रकम खेला होबे

खेला खेला खेला होबे, खेला होबे, खेला होबे
खेला खेला खेला होबे, खेला होबे, खेला होबे
हाथरसेते बोनके जालाओ, मोदी बलेन थाला बाजाओ

एइ माटितेओ बाजना होबे

नोतुन रकम खेला होबे

खेला खेला खेला होबे, खेला होबे, खेला होबे
खेला खेला खेला होबे, खेला होबे, खेला होबे
पेयांज, आलू, गैसेर दामे, देशके भांगो रामेर नाम

रामेर देवी दुर्गा तबे, बोंधु जेनो खेला होबे

खेला खेला खेला होबे, खेला होबे, खेला होबे
आठारोटा एमपी निये, बांग्ला मोर भूलले गिये

रिटार्न तुमि आसबे कबे , बंधु सेदिन खेला होबे

खेला खेला खेला होबे, खेला होबे, खेला होबे
खेला खेला खेला होबे, ‘खेला होबे’, खेला होबे

मुकुल, शोभन, सब्बोसाची, बिजेपी आज आस्तो रांची
मुकुल, शोभन, सब्बोसाची, बिजेपी आज आस्तो रांची
दिलीप कि फेर कांदबे तबे, खेला होबे, खेला होबे

बंधु सेदिन खेला होबे, ‘खेला होबे’खेला होबे

सबुज आबीर खेला होबे, खेला खेला खेला होबे

बंदु एसो खेला होबे, खेला खेला खेला होबे

भीषण रकम खेला होबे, खेला खेला खेला होबे,

सबुज आबीर खेला होबे, बांग्लाते भाई दीदीइ रबे

खेला खेला खेला होबे, खेला होबे, खेला होबे।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अजब गजबMore posts in अजब गजब »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from चुनाव 2021More posts in चुनाव 2021 »
More from साइबरMore posts in साइबर »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: