Press "Enter" to skip to content

केजरीवाल ने की वैक्सीन का फॉर्मूला सार्वजनिक करने की मांग

Spread the love



अभी की गति से हरेक को टीका लागने में दो साल लगेंगे




नईदिल्लीः केजरीवाल ने वैक्सीन का फॉर्मूला ही सार्वजनिक करन की मांग की है। उन्होंने

कहा कि देश में टीका संकट को देखते हुए अन्य कंपनिओं को इस फार्मूले से टीका तैयार

करने की पहल केंद्र सरकार को करनी चाहिए। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने

मंगलवार को डिजिटिल प्रेस ब्रिफ्रिंग की। इस दौरान उन्होंने कहा कि तीन लाख से ज्यादा

लोगों को रोज वैक्सीन देंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि वैक्सीन बनाने का फार्मूला

सार्वजनिक हो और सभी कंपनी को मिले। उन्होंने कहा कि भारत सरकार दूसरी कंपनी को

भी वैक्सीन बनाने का आदेश दे। दिल्ली वैक्सीन की कमी से जूझ रही है। सीएम

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना के मामले अब कम होने लगे हैं। आप लोगों के

सहयोग से लॉकडाउन भी सफल रहा। कल ही जीटीबी अस्पताल के सामने 500 आईसीयू

का अस्पताल शुरू हुआ है। अब दिल्ली में आईसीयू और ऑक्सीजन बेड्स की कमी नहीं

है। उन्होंने कहा कि अभी रोजाना 1.25 लाख लोगों को वैक्सीन लगा रहे हैं। जल्द ही

रोजाना 3 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण शुरू करेंगे। हमारा लक्ष्य अगले 3 महीने के




अंदर दिल्ली के सभी लोगों का टीकाकरण करना है। लेकिन हम टीके की कमी का सामना

कर रहे हैं। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि अभी सिर्फ 2 कंपनियां ही टीके का उत्पादन

कर रही हैं। वे एक महीने में केवल 6-7 करोड़ वैक्सीन का उत्पादन कर रहे हैं। इस तरह, हर

किसी को टीका लगाने के लिए 2 वर्ष से अधिक का समय लगेगा। तब तक कई लहरें आ

चुकी होंगी। युद्धस्तर पर वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाना होगा। जब तक हर भारतीय को

वैक्सीन नहीं लग जाती तबतक यह जंग नहीं जीती जा सकती। इसलिए वैक्सीन बनाने

का काम में कई कंपनियों को लगाया जाए।

केजरीवाल के अलावा सत्येंद्र जैन बोले खत्म हो गई कोरोना की पीक

वहीं स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि रविवार को भी 66,000 टेस्ट हुए थे। प्रतिदिन

करीब 80,000 टेस्ट हो रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि दूसरी लहर की पीक अब धीरे धीरे कम

हो रही है। दिल्ली में कोरोना के 23,000 के करीब बेड हैं, जिसमें 3,500 के करीब बेड खाली

हैं। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों में दिल्ली की पॉजिटिविटी रेट 36 प्रतिशत से घटकर

19 प्रतिशत के करीब आ गई है। प्रतिदिन अधिकतम 28,000 करीब मामले आए थे अब ये

कम होकर 12,500 के पास आ गए हैं।



More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

Be First to Comment

Leave a Reply