fbpx Press "Enter" to skip to content

कथारा वाशरी न्यू रेलवे साइडिंग बना हंगामे का अड्डा







  • दो पक्षों के बीच जमकर हुई धक्का मुक्की व गाली गलौज

  • ट्रांसपोर्टिंग कंपनी के आदमी पर लगा सुरक्षा कर्मी को पिटने का आरोप

बेरमो /कथारा: कथारा वाशरी न्यू रेलवे साइडिंग मे उस समय अफरा तफरी मच गई जब स्थानीय विस्थापितो ने यह

कहते हुए रैक की लोडिंग बंद करवाने पहुचे कि रिजेक्ट कोल के जगह सीसीएल के अधिकारियो की मिलीभगत से

सैलरी जैसे कोयले की धड़ल्ले से लुट हो रही है।

रेलवे साइडिंग मे जब विस्थापित मोर्चा के सैकड़ों महिला पुरूष काम बंद करवाने पहुचे तो मौके पर मौजूद ट्रांसपोर्टिंग

कंपनी के लोगो ने विरोध किया।

जिसके बाद दोनो पक्ष आपस में ही भिड़ गए और दोनो ओर से धक्का मुक्की व गाली-गलौज आरंभ हो गई।

सूचना पाते ही स्थानीय कथारा ओपी पुलिस मौके पर पहुच मामले को शांत करवाया।

वही दूसरी तरफ रिजेक्ट साइडिंग से कोयला लेकर रेलवे साइडिंग आने वाले ट्रकों को चेक नाके से पास करवाने को

लेकर ट्रांसपोर्टिंग कंपनी के एक आदमी सेठी यादव के साथ साइडिंग रिसिवर शंकर नोनिया के बीच तीखी नोक झोक

हो गई जिसके सीसीएल कर्मी शंकर ने सेठी पर मारपीट करने का आरोप लगाया। जबकि आरोपी सेठी इन बाते से

इंकार करते हुए कहा कि उक्त सुरक्षा कर्मी नशे में पुरी तरह धृत था हमने लोड हाइवा को छोड़ने की बात कि तो उन्होने

मेरे साथ गाली गलौज किया।

जबकि उक्त कर्मी ने नशे में धुत होने की पुष्टि वाशरी सुरक्षा प्रभारी रामनाथ ने भी की।

बहरहाल समाचार लिखे जाने तक दोनो ओर से मामला दर्ज नही हुआ था। वही दूसरी तरह बीते रात्रि लोडिंग प्वाइंट के

रिसिवर रियाज अंसारी ने कथारा वाशरी मुख्य द्वार के समीप एक लोड हाइवा को रोका और सीसीएल के उच्च

अधिकारियों को इसकी सूचना देते हुए बताया कि उक्त ट्रांसपोर्टिंग कंपनी रिजेक्ट के आड़ में वाशरी का सैलरी रैक मे

भेज रहा है।

कथारा में बार बार ऐसी घटना क्यों के सवाल पर चुप हैं सारे अधिकारी

उक्त हाइवा को किस अधिकारी ने कब और क्यो छोड़ा यह बताने के लिए कोई भी अधिकारी फोन ही उठाना बंद दिया।

मगर इस मामले की गंभीर को भांपते हुए रविवार को स्वयं कथारा जीएम जांच टीम के साथ वाशरी रेलवे साइडिंग पहुचे

और सभी लोड रैको से नमुना संग्रह करने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दी।

कहा कि जांच के बाद ही पता चलेगा कि रैक मे कौन सा कोयला ले जाया जा रहा है। बताता चलू कि वाशरी रिजेक्ट कोल

स्टॉक के ठीक सटा हुआ वाशरी का सैलरी प्वाइंट है और जिस लापरवाही से वाशरी प्रबंधन रिजेक्ट उठाव की छूट

ट्रांसपोर्टिंग कंपनी को दे रखी उपरोक्त बाते सत्य भी हो सकती है और अगर यह सत्य है तो निश्चित ही वाशरी प्रबंधन

ट्रांसपोर्टिंग कंपनी को लुट मे छुट दे रखी है और वाशरी प्रबंधन कोल इंडिया को रिजेक्ट सेल की आड़ में करोड़ों करोड़ का

चुना लगाने लिफटर व ट्रांसपोर्टिंग कंपनी को मदद पहुचा रही है।

मगर आज के लोगो के आक्रोश को देख साफ प्रतित होता है कि यह गोरख धंधा अब नही चल पायेगा।

ज्ञात हो कि रिजेक्ट कोल और सैलरी कोल की विक्री दर में जमीन आसमान का अंतर बताया जाता है।

कुल मिलाकर फिलवख्त कथारा वाशरी रेलवे साइडिंग मे सब कुछ ठीक ठाक नही चल रहा है

जो गंभीर जांच का विषय है।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.