fbpx Press "Enter" to skip to content

कार्तिक उरांव की जयंती पर कांग्रेस प्रदेश मुख्यालय में समारोह

रांचीः कार्तिक उरांव की जयंती पर प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में प्रोफशनल्स कांग्रेस द्वारा

भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया। झारखंड में कांग्रेस संगठन को मजबूती प्रदान

करने वाले पूर्व केन्द्रीय मंत्री कार्तिक उरांव की जयंती पर आज रांची स्थित प्रदेश कांग्रेस

भवन में उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी गयी। झारखंड प्रदेश प्रोफेशनल कांग्रेस कमेटी द्वारा

आयोजित कार्तिक उरांव जयंती समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित प्रदेश

अध्यक्ष सह राज्य के वित्त तथा खाद्य आपूर्ति मंत्री डॉ. रामेश्वर उरांव ने दीप प्रज्ज्वलित

कर कार्यक्रम का उदघाटन किया और उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

समारोह की अध्यक्षता प्रदेश प्रोफेशनल कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष आदित्य विक्रम

जायसवाल ने किया, जबकि प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल

किशोर नाथ शाहदेव, डा राजेश गुप्ता छोटू विशिष्ट अतिथि के रुप में उपस्थित थे।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डा रामेश्वर उराँव ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा

कि यह उनके लिए सौभाग्य की बात है कि उन्हें कार्तिक बाबू का सानिध्य प्राप्त करने का

मौका मिला। जब वे यूपीएससी और प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे थे, तब कई

मौके पर उन्हें दिल्ली स्थित कार्तिक उरांव के आवास पर जाने का अवसर मिलता था। वे

हमेशा कहते थे कि जनप्रतिनिधियों और सेवा कार्य में लगे अधिकारियों को क्षेत्र में जाकर

लोगों की समस्याएं सुननी चाहिए, तभी उनका समुचित समाधान संभव है। वे अक्सर

अपने लोगों को पत्र भी लिखते रहते थे, इसी कारण जब भी वे गांव और अपने क्षेत्र में जाते

थे, तो लोगों से यह सुनने को मिलता था कि कार्तिक बाबू का पत्र उन्हें मिला है। उन्होंने

कहा कि एक अभियंता और राजनेता के रूप में कार्तिक बाबू ईमानदारीपूर्वक काम

किया,उनकी सादगी और आदर्श की चर्चा अब भी पूरे इलाके में होती है।

कार्तिक उरांव अपनी सादगी के लिए देश में चर्चित रहे

एकीकृत में कांग्रेस संगठन को मजबूती प्रदान करने और खासकर झारखंड जैसे

आदिवासी बाहुल इलाकों में पार्टी संगठन को मजबूत करने में उनका बड़ा योगदान रहा।

संगठन में योगदान के कारण ही बिहार में भी पार्टी को मजबूती मिली। अपने अध्यक्षीय

संबोधन में प्रोफेशनल कांग्रेस अध्यक्ष आदित्य विक्रम जयसवाल ने कहा एक छोटे से गांव

से निकलकर देश प्रेम और राज्य प्रेम ने उन्हें राजनीति में लाया और उनकी राजनीति ने

झारखण्ड अलग राज्य का सपना देखा और पूरा हुआ। कार्तिक बाबू ने आदिवासी समूह की

वेदना को राष्ट्रव्यापी मंच प्रदान करते हुए अखिल भारतीय आदिवासी परिषद की नींव

रखी, इतना ही नहीं 1976 में कांग्रेसी शासन के वक्त जब इंदिरा गांधी जी ने आदिवासी

समूह की जमीन वापस करने हेतु कानून लाने की घोषणा की जिसमें आदिवासी समाज

सदैव सशक्त बने इस संदर्भ में कार्तिक उरांव जी ने आदिवासी समूह को एकजुटता के सूत्र

में राष्ट्रीय स्तर पर एकजुट किया। आदित्य विक्रम जयसवाल ने कहा कि कुरुख समुदाय

के हीरो कहे जाने वाले लोकप्रिय नेता ने आदिवासी समाज के मूल सभ्यता के संरक्षण,

आदिवासी समाज के जंगल और जमीन, खेती हल अभ्यासों को और प्रगतिशील बनाने का

सदैव प्रयत्न किया।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from नेताMore posts in नेता »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from लाइफ स्टाइलMore posts in लाइफ स्टाइल »

2 Comments

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: