fbpx Press "Enter" to skip to content

जांबाज पुलिस अधिकारी कहलाने वाले के चंद्रा ने खुद को गोली मारी

दीपक नौरंगी

भागलपुर: जांबाज पुलिस अधिकारी के तौर पर परिचित के चंद्रा ने खुद को गोली मार ली

है। इस खबर पर उस अधिकारी को जानने वाले लोग सहज ही विश्वास नहीं कर पा रहे हैं।

उसके जैसा पुलिस अफसर अपने आप को गोली मार लेगा, इस बात पर अधिकांश लोगों

को भरोसा नहीं है। अपने कार्यकाल में कई वीरता के कारनामे करने वाले इस अधिकारी को

विभाग में एनकाउंटर स्पेशलिस्ट के तौर पर भी ख्याति मिली हुई थी। भागलपुर के कई

बुद्धिजीवी और आम लोगों के बीच यह बात काफी सुर्खियों में है कि के चंद्रा के इस मामले

की तह तक पुलिस को जांच करनी चाहिए कि आखिर सच्चाई क्या है लेकिन फ़िलहाल के

चंद्रा का लिखा गया और घटना की जो स्थिति है उससे यह साफ दिख रहा है की रिटायर्ड

डीएसपी के चंद्रा ने आत्महत्या की है। घटना मंगलवार सुबह करीब आठ बजे की है। मौके

से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है, जिसमें डीएसपी ने बीमारी से परेशान रहने और

पड़ोसी पर तंग करने का आरोप लगाया है। रिटायर्ड डीएसपी का नाम कृष्ण चंद्रा है और

तेजतर्रार पुलिसकर्मियों में उनकी गिनती होती थी। घटना बेऊर थाना क्षेत्र के मित्रमंडल

कॉलोनी फेज-2 की है। के चंद्रा भागलपुर में कई थानों में थानेदार रह चुके हैं। भागलपुर

जिले में के चंद्रा पुलिस इस्पेक्टर रहते हुए कई महत्वपूर्ण सफलताएं उनको प्राप्त हुई है

भागलपुर में कई अपराधियों को भी इनकाउंटर में मार गिराया था वर्तमान एडीजी एके

अंबेडकर उस समय भागलपुर के ए एसपी हुआ करते थे घटना के संबंध में बताया जा रहा

है कि रिटायर्ड डीएसपी कई बीमारी से जूझ रहे थे। इसका जिक्र उन्होंने सुसाइड नोट में भी

किया है। उन्होंने लिखा है कि अपनी बीमारी का इलाज दिल्ली, मुंबई समेत कई जगहों पर

कराया लेकिन इससे कोई सुधार नहीं हुआ है।

जांबाज पुलिस अधिकारी अभी काफी बीमार चल रहे थे

इसी वजह से वे पिछले कई दिनों से परेशान चल रहे थे। रिटायर्ड डीएसपी ने पड़ोसी पर

आरोप लगाया है कि लोहे की फैक्ट्री से निकलने वाला कचरा उनके घर के सामने लाकर

फेंक दिया। बार-बार कहने के बाद भी कचरा नहीं उठाया, जिसकी वजह से घर के आगे

जलजमाव हो गया। इस वजह से उन्हें पिछले कई दिनों से दिक्कत हो रही थी। पुलिस का

कहना है डीएसपी ने लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मारी है। पड़ोसी को हिरासत में

लेकर पूछताछ की जा रही है। यह घटना बेउर थाना के मित्रमंडल कॉलोनी फेज 2 की है।

मौके पर आला अधिकारी और फॉरेंसिक लैब की टीम पहुंच चुकी है। पुलिस को कमरे से

सुसाइड नोट और पिस्टल मिला है। अभी तक जो जानकारी मिल रही है उसके अनुसार

रिटायर्ड डीएसपी अपने पड़ोसी से काफी परेशान थे।

गैलेंट्री अवॉर्ड नहीं मिला है तो डीजीपी से की थी शिकायत

मुंगेर के खड़कपुर एसडीपीओ के पद पर रहे के चंद्रा ने उस समय के डीजीपी को अपने एक

मामले में गैलंट्री अवार्ड नहीं मिलने को लेकर उन्होंने शिकायत की थी। सूत्र बताते हैं कि

एक मामले में के चंद्रा ने अपराधियों से लोहा लेते समय उनको गोली लगी थी उसके बाद

पुलिस मुख्यालय के द्वारा गैलंट्री अवॉर्ड के लिए लिखा गया था लेकिन उनको गैलंट्री

अवॉर्ड क्यों नहीं मिला इसके लेकर उनको काफी वह दुखी भी थे कि पुलिस विभाग के लिए

काफी कुछ किया लेकिन मुझे आज तक गैलंट्री अवॉर्ड नहीं मिला है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from भागलपुरMore posts in भागलपुर »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!