fbpx Press "Enter" to skip to content

झारखंड प्रदेश कांग्रेस ने केंद्र से राहत और जीएसटी मांगा

रांची : झारखंड प्रदेश कांग्रेस राहत निगरानी समिति (कोविड-19) की आज रांची स्थित

पार्टी मुख्यालय में बनाये गये कंट्रोल रूम में बैठक की। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सह वित्त

एवं खाद्य आपूर्ति मंत्री रामेश्वर उरांव की अध्यक्षता में हुई बैठक में विधायक दल के नेता

सह ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, कृषि मंत्री बादल

पत्रलेख , सांसद धीरज प्रसाद साहू, वरिष्ठ नेता रोशन लाल भाटिया, प्रदीप तुलस्यान,

आलोक कुमार दूबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव और डा. राजेश गुप्ता उपस्थित थे। इस

बैठक में पार्टी नेताओं की ओर से यह मांग की गयी कि संकट की इस घड़ी में केंद्र सरकार

झारखंड को विशेष पैकेज उपलब्ध कराये तथा जीएसटी का बकाया पैसा तुरंत उपलब्ध

कराये। कहा गया कि वैश्विक महामारी से निपटने के लिए सरकार अपना काम कर रही है

और पार्टी भी अपने दायित्वों के निर्वहन में जुटी है। उन्होंने बताया कि राज्य में 58 लाख

राशन कार्डधारियों के अलावा, राशन कार्ड के लिए आवेदन देने वाले आठ लाख परिवारों,

गरीबी रेखा से जीवन बसर करने लाखों परिवारों को एक रुपये किलो की दर से अनाज

उपलब्ध करायी जा रही है। इसके अलावा सभी जिला, प्रखंड और प्रमुख स्थानों बनाये गये

दाल-भात केंद्रों के अलावा सभी थानों में बनाये गये सामुदायिक रसोईघर के माध्यम से

प्रतिदिन लाखों लोगों को भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके अलावा प्रत्येक जिलों

में आपात स्थिति में लोगों को राहत उपलब्ध कराने के लिए चूड़ा-गुड़ के पैकेट की भी

व्यवस्था की गयी है। ये सभी योजनाएं किस तरह से धरातल पर उतर रही है, इसके लिए

फीडबैक जरूरी है।

झारखंड प्रदेश कांग्रेस राज्य से फीडबैक भी ले रही है

इस लिए कांग्रेस आलाकमान के निर्देश पर प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डा. रामेश्वर

उरांव पार्टी कार्यकर्ता गांव, पंचायत, प्रखंड और जिला मुख्यालय से रिपोर्ट प्राप्त कर

मुख्यालय को सौंप कर रहे है, इस रिपोर्ट के आधार पर पार्टी की ओर से सरकार को

आवश्यक सुझाव दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि संकट की इस घड़ी में राज्य में किसी

की भी भूख से मौत न हो, इसके लिए सरकार और संगठन के बीच समन्वय बनाये रखना

जरूरी है। प्रदेश अध्यक्ष डा. उरांव ने कहा कि इतनी योजनाओं के बावजूद यदि कहीं कोई

चूक हो जाती है, तो पार्टी की ओर से अलग से राहत कार्य की जाएगी। हालांकि राज्य

सरकार की ओर से सभी आवश्यक सेवाओं के अलावा पशु आहार की समुचित व्यवस्था

की जा रही है। इसके अलावा पूर्ववर्ती सरकार में जिन लोगों को उज्ज्वला योजना का लाभ

दिया गया था, उन परिवारों तक रसोई गैस सिलेंडर पहुंचे, इसके लिए भी आवश्यक कदम

उठाये गये है। संकट की इस घड़ी में सिर्फ वीडियो कांफ्रेंस से बात कर समस्या का

समाधान नहीं होगा, झारखंड जनजातीय बाहुल्य और पिछड़ा क्षेत्र है, इस इलाके पर विशेष

ध्यान देने की जरूरत है।

झारखंड को काफी समय से बकाया जीएसटी का पैसा भी मिले

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार का केंद्र सरकार के पास जीएसटी का भी काफी पैसा

बकाया है,तत्काल केंद्र सरकार उसे उपलब्ध कराया गया, इसके अलावा अर्थव्यवस्था

छिन्न-भिन्न हो रही है, इसलिए झारखंड जैसे राज्यों को विशेष पैकेज मिलना चाहिए।

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि इस महामारी के वक्त बातों से समस्या को डायर्वट

करने या राजनीति करने की जगह सभी को मिलकर संघर्ष करने की जरूरत है। उन्होंने

कहा कि यदि इस वक्त भाजपा के लोग भी बीमार होंगे, तो उन्हें गले लगाकर उनके इलाज

की व्यवस्था की जाएगी। ग्रामीण विकास मंत्री सह विधायक दल नेता आलमगीर आलम

ने कहा मुखिया के माध्यम से गरीबों तक सरकार की योजनाओं को पहुंचाया जा रहा है।

मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि प्रखण्ड स्तर पर योजनाओं के निरीक्षण के बिना धरातल

की वस्तु स्थिति की जानकारी संभव नहीं है। गठबंधन की सरकार ने प्रधानमंत्री से

अनुरोध किया कि संसाधनों की कमी दूर करने में सहायता दी जाए। राज्य स्तर पर कंट्रोल

रुम प्रतिदिन पूर्वाहन 11.30 बजे से संध्या पांच बजे तक कार्यरत रहेगी


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

4 Comments

Leave a Reply