fbpx Press "Enter" to skip to content

वोडाफोन-आइडिया और ऐयरटेल के साथ-साथ जियो की सेवाओ का भी बढेगा दर







नई दिल्ली : वोडाफोन-आइडिया और ऐयरटेल के साथ-साथ जियो की सेवाओ का दर भी बढने के मिले संकेत.

कम्पनी की जारी बयान में यह तय हो गया कि जियो भी जल्द ही मोबाइल सेवाओ का दर बढाने वाला है.

इतनी कम्पीटीशन बाज़ार में टेलीकौम सेक्टर में मंदी का दौर जारी है.

जिसमे मुख्यत: वोडाफोन-आइडिया और ऐयरटेल की स्थिती ज्यादा खराब है.

इतना कम नही कि वोडाफोन-आइडिया और ऐयरटेल पर सुप्रीम कोर्ट की अलग गाज़ गिरी है

जिसमें कम्पनियो पर बकाया एक बोझ की तरह बन गया है.

हालांकि इस मामले में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने टेलीकाम कम्पनियो को बाज़ार में बने रहने के लिये कोशिशे जारी रखने की सलाह दी है.

जिसके लिये सरकार जल्द ही कुछ निर्णय ले सकती है और कम्पनियो को कुछ सहायता पहुचा सकती है.

इस मामले में वोडाफोन की अधिकारिक ब्यान भी आ चुकी है कि अगर स्थिती ऐसी ही बनी रही तो वोडाफोन अपना व्यापार भारत से समेट लेगा.

गौरतलब है कि वोडाफोन-आइडिया को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 50,922 करोड़ रुपये का एकीकृत घाटा हुआ है।

किसी भारतीय कंपनी का एक तिमाही में यह अब तक का सबसे बड़ा नुकसान है।

वही एयरटेल को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 23,045 करोड़ रुपये का घाटा दर्ज किया है।

इन सभी पर गौर करते हुए जियो कम्पनी अपनी चाल भी चल चुका और प्रति मिनट कौल दरे तय कर छह पैसे फिक्स कर दिया है.

हालांकि इतने में ग्राहको के जेब पर खासा असर नही पडा था

इसलिये जियो कम्पनी ने कहा है मोबाइल सेवाओं की दरें बढ़ाने के लिये ठोस कदम तय किये जा रहे है.

बता दे कि स्थिती ऐसी हो सकती है कि आने वाले दिनों में ग्राहको को किसी से फोन पर पहले की तरह लगातार बाते करते रहना महंगा हो जाएगा.

इस मामले में जियो ने आज कहा है कि वह अगले कुछ सप्ताह में मोबाइल सेवाओं की दरें बढ़ाएगी।

कंपनी की तरफ से ये बयान एक दिन के बाद आया जब वोडाफोन-आइडिया और एयरटेल ने 1 दिसंबर से टैरिफ बढ़ाने के लिए कहा है।

हालांकि जियो ने यह भी कहा है कि वह दर में वृद्धि इस तरह करेगा ताकि डेटा उपभोग पर प्रतिकूल असर न पड़े।

जियो ने जानकारी देते हुए बताया कि भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) मोबाइल सेवाओं की दरों में संशोधन पर संभवत: परामर्श की शुरुआत करने वाला है।

ट्राई करेगी समीक्षा

ट्राई की आधिकारिक सूत्रो द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार नियामक अभी दूरसंचार कंपनियों द्वारा शुल्क वृद्धि को अमल में लाने का इंतजार करेगा।

जिसके लिये नियामक उसके बाद इन दरो की और इससे सम्बंधित ग्राहको को दिये गये फायेदो की समीक्षा करेगा

जिससे यह निषकर्श निकल पाये कि शुल्क वृद्धि नियामकीय दायरे में किया गया है या नहीं।

इस संदर्भ में कम्पनी ने उद्योग जगत को मजबूत बनाने और उपभोक्ताओं को लाभ देने के लिये नियामकीय व्यवस्था पर खाश ध्यान देगा.

कंपनी ने बयान में कहा कि अन्य कंपनियों की तरह हम भी सरकार के साथ मिलकर काम करेंगे।

हम अगले कुछ सप्ताह में शुल्क बढ़ाने समेत अन्य कदम इस तरह उठायेंगे कि इसका डेटा के उपभोग या डिजिटलीकरण पर प्रतिकूल प्रभाव न पड़े तथा निवेश भी मजबूत बना रहे।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply