fbpx Press "Enter" to skip to content

जिनपिंग ने चीन-नेपाल ने रिश्ते मजबूत करने पर सहमति जतायी







काठमांडूः जिनपिंग और नेपाल की राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी ने दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय रिश्तों को

मजबूत करने और विकास तथा आपसी साझेदारी में सहयोग करने पर सहमति जतायी।

चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग शनिवार को नेपाल दौरे पर काठमांडू पहुंचे थे

जिसके बाद उन्होंने वहां की राष्ट्रपति सुश्री भंडारी से मुलाकात की।

दोनों नेताओं के बीच चर्चा के बाद यह घोषणा की गयी। श्री जिनपिंग ने नेपाल की राष्ट्रपति भंडारी के

इस बात से भी सहमति जतायी कि नेपाल और चीन के बीच दोस्ती और आपसी साझेदारी है।

उन्होंने कहा कि मैं नेपाल के लोगों के चेहरे पर हंसी देख सकता हूं और यह मुझे दोस्ती का अहसास कराती है।

चीनी राष्ट्रपति ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि दोनों देशों के बीच व्यापारिक दोस्ती बढ़ेगी

और इस दौरे से हमारे द्विपक्षीय रिश्ते एक नयी ऊंचाईंयों को छुएंगे।

नेपाल में चीन के राष्ट्रपति का शानदार स्वागत

श्री जिनपिंग ने नेपाल के वन चाइना नीति का समर्थन करने लिए उसकी सराहना की और कहा कि

चीन हमेशा नेपाल द्वारा उसके देश की राष्ट्रीय सुरक्षा, संप्रुभता और क्षेत्रीय अखंडता का समर्थक रहा है।

उन्होंने कहा कि दोनों देशों को हर क्षेत्र में एक दूसरे का सहयोग करना चाहिए

और ट्रांस-हिमालय कनेक्टिविटी नेटर्वक का कार्य शुरु करना चाहिए।

चीन के पिपुल्स रिपब्लिक ऑफ चीन (पीआरसी) के 70वीं वर्षगांठ मनाने को लेकर

श्री जिनपिंग ने कहा कि चीन लगातार व्यवस्था में सुधार करता रहेगा जिससे देश का विकास होता रहे।

उन्होंने कहा कि एक स्थिर, खुला और समृद्ध चीन हमेशा नेपाल और दुनिया के अन्य देशों के लिए

विकास का अवसर होगा।

इस बीच नेपाल की राष्ट्रपति ने श्री जिनपिंग का नेपाल में स्वागत करते हुए उन्हें पीआरसी के 70वें वर्षगांठ की

बधाई दी और कहा कि नेपाल हमेशा चीन के सफलतापूर्वक विकास के अनुभव को सीखने की कोशिश करता है।

सुश्री भंडारी ने कहा कि चीन के लोग कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के नेतृत्व में राष्ट्रीय कायकल्प का

अनुभव करते होंगे जो जाहिर तौर पर नेपाल के लिए भी फायदेमंद है और यह क्षेत्रीय शांति, विकास

और समृद्धि के लिए काफी जरुरी है।

उल्लेखनीय है कि श्री जिनपिंग पिछले 23 वर्षों में नेपाल की यात्रा करने वाले पहले चीनी राष्ट्रपति हैं।

सुश्री भंडारी ने कहा कि इस ऐतिहासिक यात्रा से दोनों देशों के बीच व्यापारिक दोस्ती और आपसी साझेदारी

के रिश्ते मजबूत हुए हैं।

नेपाल दौरे से पहले चीन के राष्ट्रपति दो दिनों के भारत दौरे पर तमिलनाडु के महाबलीपुरम गए

जहां उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दूसरी अनौपचारिक वार्ता की।

जिनपिंग ने कहा नेपाल को दो वर्षों में 56 अरब रुपये की सहायता देंगे

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने नेपाल को अगले दो वर्षों में 56 अरब रुपये की सहायता प्रदान करने की घोषणा की।

आधिकारियों के मुताबिक नेपाल की राष्ट्रपति भंडारी के साथ बैठक के दौरान श्री जिनपिंग ने नेपाल को

अगले दो वर्षों तक 56 अरब रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की।

उन्होंने कहा कि चीन की ओर से नेपाल के विकास के कार्यों के लिए अगले दो वर्षों के दौरान यह राशि

मेजबान देश को दी जाएगी।

श्री जिनपिंग शनिवार को नेपाल दौरे पर पहुंचे थे जहां उनका गर्मजोशी से स्वागत किया गया था।

अपने स्वागत से अभिभूत चीनी राष्ट्रपति ने नेपाल की राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी से बैठक में कहा,

‘‘जिस तरह हवाई अड्डे पर मेरा स्वागत किया गया मैं उससे काफी अभिभूत हूं।’’

श्री जिनपिंग ने सुश्री भंडारी के इस बात से भी सहमति जतायी कि नेपाल और चीन के बीच

दोस्ती और आपसी साझेदारी है।

आधिकारियों मुताबिक नेपाल की राष्ट्रपति भंडारी के साथ बैठक के दौरान

श्री जिनपिंग ने नेपाल को अगले दो वर्षों तक 56 अरब रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.