fbpx Press "Enter" to skip to content

झारखंड की शिक्षा व्यवस्था बदलने का विचार रखते हैं पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी

  • सरकार बनी तो हर छात्र-छात्रा को 10वीं और 12वी के बाद मिलेगा लैपटॉप : मरांडी

रांची : झारखंड की शिक्षा व्यवस्था में परिवर्तन करने का एक बड़ा फैसला लिया।

झारखंड के प्रथम मुख्यमंत्री और झारखंड विकास मोर्चा पार्टी के अध्यक्ष श्री बाबूलाल मरांडी ने कहा कि

अगर उनकी सरकार बनती है तो यहां के हर छात्र छात्रा को 10वीं और 12वी के बाद लैपटॉप मिलेगा।

कार्यक्रम में विभिन्न माध्यमों से जुड़े पत्रकारों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज की।

आज का मुख्य मुद्दा झारखंड की शिक्षा व्यवस्था से ही जुड़ा था।  ।जिसमे सुप्रीमो बाबूलाल ने बाबूलाल लैपटॉप

योजना के बारे में लोगों को बताया। यह अनोखी योजना है छात्रों को तकनीक से जोड़ने की।

इस योजना में सभी छात्रों को लैपटॉप दिये जानी की घोषणा हुई। लैपटॉप वितरण योजना में किसी भी छात्र

.छात्रा से उसकी जाति, धर्म अथवा किसी भी प्रकार से कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा। यह योजना झारखंड के हर

छात्र छात्रा के लिए होगी। इस सुविधा का लाभ राज्य के प्रत्येक वर्ग के छात्र-छात्राओं को मिलेगा।

इस योजना के लाभ से झारखंड के प्रत्येक छात्र-छात्रा अब देश के बाकी राज्यों से पीछे नही रहेंगे।

इस लैपटॉप के साथ सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए अच्छी गुणवत्ता के वीडियो कोर्स भी इसमें

उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके सभी कोर्स बिना इंटरनेट के राज्य के किसी भी सुदूर क्षेत्र में देखा जा सकता है।

झारखंड की शिक्षा पर बोले तो साइकिल बांटने का लाभ भी गिनाया

ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले सभी छात्र-छात्राओं के लिए सभी वीडियो कोर्स हिंदी में उपलब्ध कराये जायेंगे

कार्यक्रम में टोल फ्री नंबर 9773681682 जारी किया गया। इसमें ऑटोमेटिक रजिस्ट्रेशन होंगे और रजिस्ट्रेशन की

आखिरी तिथि 31 अक्टूबर है। बाबूलाल ने कहा कि बीजेपी ने हाथी उड़ाने में जितना पैसा खर्च किया उससे कम ही

खर्च शिक्षा की इस मुहिम में लगेगा।

5 साल तक बीजेपी ने कुछ नहीं किया यह सब देख रहे हैं। कार्यक्रम में श्री बाबूलाल ने कहा कि पढ़ाई का सारा खर्च

सरकार की तरफ से मिलेगा। तकनीकी शिक्षा ट्रेनिंग का भी खर्च सरकार उठाएगी। तकनीकी शिक्षा की सुविधा दी

जाएगी और छात्राओं को ट्रेनिंग कराएंगे। उन्होंने कहा कि हम इंग्लिश के साथ साथ हिंदी को भी बढ़ाना चाहते हैं।

जब हम पहले मुख्यमंत्री बने थे तब हमने साइकिल बांटी थी ताकि छात्राएं स्कूल जा सकें।

अब अगर हमें मौका मिलता है तो हम लैपटॉप बाटेंगे ताकि झारखंड के हर बच्चा तकनीक की रफ़्तार के

साथ शिक्षित हो सके।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

3 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!