fbpx Press "Enter" to skip to content

झारखंड में पांच चरण में होगा नये विधायकों का फैसला







रांचीः झारखंड में पांच चरण में विधानसभा चुनाव होने जा रहा है।

इसकी औपचारिक घोषणा चुनाव आयोग द्वारा कर दी गयी है।

अब आयोग की घोषणा के मुताबिक पांच चरण में क्रमवार तरीके से झारखंड

में यह चुनाव संपन्न कराया जाएगा। वर्तमान झारखंड विधानसभा का

कार्यकाल पांच जनवरी 2020 को समाप्त हो रहा है। इससे पहले नई सरकार

का चयन हो जाना है। चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों

की घोषणा कर दी है। पांच चरणों में राज्य की 81 सीटों पर चुनाव कराए जाएंगे।

मतगणना 23 दिसंबर को होगी।

झारखंड में राज्य की 81 विधानसभा सीटों में 28 अनुसूचित जनजाति

और 9 अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित हैं।

आयोग के अनुसार, राज्य के 19 जिले नक्सल प्रभावित हैं।

इनमें से 13 जिले अति संवेदनशील हैं। 67 नक्सल प्रभावित विधानसभा क्षेत्र हैं।

झारखंड में पांच चरण में चुनाव का कार्यक्रम

प्रथम चरण : मतदान 30 नवंबर : 13 विधानसभा सीट

चतरा (एससी), गुमला (एसटी), बिशुनपुर (एसटी), लोहरदगा (एसटी), मनिका (एसटी), लातेहार (एसटी), पांकी, डालटगनंज, विश्रामपुर, छतरपुर (एससी), हुसैनाबाद, गढ़वा और भवनाथपुर।

दूसरा चरण : मतदान सात दिसंबर : 20 विधानसभा सीटें

बहरागोड़ा, घाटशिला (एसटी), पोटका (एसटी), जुगसलाई (एससी), जमशेदपुर पूर्वी, जमशेदपुर पश्चिमी, सरायकेला (एसटी), चाईबासा (एसटी), मझगांव (एसटी), जगन्नाथपुर (एसटी), मनोहरपुर (एसटी), चक्रधरपुर (एसटी), खरसावां (एसटी), तमाड़ (एसटी), तोरपा (एसटी), खूंटी (एसटी), मांडर (एसटी), सिसई (एसटी), सिमडेगा (एसटी), कोलेबिरा (एसटी)।

तीसरा चरण : वोटिंग 12 दिसंबर : विधानसभा सीटें 17

कोडरमा, बरकट्ठा, बरही, बड़कागांव, रामगढ़, मांडू, हजारीबाग, सिमरिया (एससी), धनवार, गोमिया, बेरमो, ईचागढ़, सिल्ली, खिजरी (एसटी), रांची, हटिया, कांके (एससी)।

चौथा चरण : मतदान 16 दिसंबर : 15 सीटें

मधुपुर, देवघर (एससी), बगोदर, जमुआ (एससी), गांडेय, गिरिडीह, डुमरी, बोकारो, चंदनक्यारी (एससी), सिंदरी, निरसा, धनबाद, झरिया, टुंडी, बाघमारा।

पांचवा चरण : मतदान 20 दिसंबर : विधानसभा सीटें 16

राजमहल, बोरियो (एसटी), बरहेट (एसटी), लिट्टीपाड़ा (एसटी), पाकुड़, महेशपुर (एसटी), शिकारीपाड़ा (एसटी), नाला, जामताड़ा, दुमका (एसटी), जामा (एसटी), जरमुंडी, सारठ, पोड़ैयाहाट, गोड्डा, महगामा।

सभी विस क्षेत्रों में होगा वीवीपैट का उपयेाग

आयोग ने निर्वाचन प्रक्रिया की पारदर्शिता और विश्वसनीयता बढ़ाने के लिए

प्रत्येक मतदान केंद्रों में इलेक्ट्रानिक मशीन (ईवीएम) के साथ वोटर वेरीफाएबल

पेपर ऑडिट ट्रायल (वीवीपैट) के उपयोग का निर्णय लिया है।

वीवीपैट के उपयोग से कोई मतदाता जान सकेगा कि जिसे उसने वोट दिया

वास्तव में उसे पड़ा या नहीं। इस चुनाव में राज्य के 2,27,67,964 मतदाता

नेताओं का भविष्य तय करेंगे। इनमें 1।18 करोड़ पुरुष तथा 1।09 करोड़

महिला मतदाता शामिल हैं। 248 थर्ड जेंडर भी अपने मताधिकार का

प्रयोग करेंगे।

चुनावों में कब पड़े कितने वोट

वर्ष विस चुनाव लोस चुनाव
2004/2005 57।56 54।26
2009 58।28 50।98
2014 66।42 63।82
2019 पांच चरण में चुनाव
सभी आंकड़े प्रतिशत में हैं।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

3 Comments

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.