पाकिस्तान को ईरान ने दी जवाबी कार्रवाई की चेतावनी

पाकिस्तान को ईरान ने दी जवाबी कार्रवाई की चेतावनी
Spread the love
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

प्रतिनिधि
नईदिल्लीः पाकिस्तान भी अब भारतीय सीमा के साथ साथ ईरान से सटी सीमा पर भी सतर्क मुद्रा में है।

ईरान ने अपने यहां हुई आतंकवादी कार्रवाइयों के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार माना है।

इसी संदर्भ में ईरान ने अपनी तरफ से पाकिस्तान की जमीन पर स्थापित

आतंकवादी कैंपों पर हमला करने की बात कही है।

इस लिहाज से अब पाकिस्तान भी दोतरफा सैनिक कार्रवाई के दवाब में घिरा हुआ है।

ईरान ने दो टूक लहजे में कहा है कि पाकिस्तान उसके धैर्य का इम्तहान नहीं ले।

अनेकों बार पाकिस्तानी आतंकवादी उसके क्षेत्र में भारी तबाही मचा चुके हैं।

बार बार याद दिलाने के बाद भी पाकिस्तानी इन आतंकवादी समूहों के खिलाफ

कोई कार्रवाई नहीं करता है।

लिहाजा ऐसे में यही विकल्प बचता है कि ईरान अपनी तरफ से पाकिस्तानी सीमा के अंदर

चल रहे आतंकवादी शिविरों पर हमला कर उन्हें नष्ट कर दे।

आईआरजीसी कुर्द सेना के प्रमुख जनरल कासिम सोलेमानी ने पाकिस्तानी सरकार और उसके सैन्य प्रतिष्ठान को यह चेतावनी दी है।

जनरल सोलेमानी ने कहा, “मेरा पाकिस्तान की सरकार से यह सवाल है : आप किस ओर जा रहे हैं?

आपने अपनी सभी पड़ोसी देशों की सीमा पर अशांति फैला रखी है।

क्या आपका कोई ऐसा पड़ोसी बचा है जहां आप असुरक्षा फैलाना चाहते हैं।”

जनरल सोलेमानी ने कहा, “आपके पास तो परमाणु बम हैं, लेकिन आप इस क्षेत्र में एक आतंकी समूह को खत्म नहीं कर पा रहे जिसके सदस्यों की संख्या सैकड़ों में है।

पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद पर ईरान अब भारत के साथ

बीते कुछ सालों में भारत और ईरान ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहयोग बढ़ाया है।

विदेश मंत्रालय के बीच आपसी बाचतीत में यह मुद्दा सबसे ऊपर होगा।

सीमा पर टकराव की वजह से विदेश सचिव विजय गोखले की बीते हफ्ते होने वाली ईरान यात्रा टाल दी गई थी।

13 फरवारी को पाकिस्तान से सटी ईरान के सिस्तान बलूचिस्तान सीमा में एक आत्मघाती हमले में ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड के 27 जवान शहीद हो गए थे।

ईरान का कहना है कि उनके खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए पाकिस्तान अपने देश में आतंकवाद को पनाह दे रहा है।

कुर्द सेना के कमांडर जनरल कासिम सोलेमानी ने कहा है कि

अगर उसने अपनी जमीन पर पनप रहे आतंकवाद को खत्म नहीं किया

तो उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.