ईरान और भारत के बीच व्यापारिक सहयोग पर चर्चा

ईरान और भारत के बीच व्यापारिक सहयोग पर चर्चा
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

तेहरान: ईरान ने अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद तेहरान में भारत-ईरान के व्यापार को जारी रखने में माध्यमों पर चर्चा की।

भारत के ईरान के लिए राजदूत सौरभ कुमार और ईरान के अधिकारी मसूद खानसारी ने

अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद दोनों देशों के बीच व्यापार जारी रखने के माध्यमों की समीक्षा की।

समाचार एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार, श्री खानसारी ने कहा कि

अमेरिकी प्रतिबंधों ने ईरान-भारत संबंधों के लिए नये अवसर पैदा किये हैं।

ईरान और भारत को बैंकिंग और वित्तीय सहयोग की प्रणालियों पर अपना ध्यान केंद्रित करना होगा।

श्री खानसारी ने भारत-ईरान के सहयोग को बढ़ाने में चाबहार बंदरगाह की भूमिका का भी उल्लेख किया।

ईरान के साथ भारत ने चाबहार बंदरगाह पर भी बात की

उन्होंने कहा, “चाबहार बंदरगाह को अब अमेरिकी प्रतिबंधों से छूट मिल गयी है।

दोनों देशों को इस अवसर का लाभ उठाना चाहिए।”

ईरान और भारत को अमेरिकी प्रतिबंध के अवसर का लाभ उ

श्री खानसारी ने कहा, “प्रतिबंधों से बहुत सी समस्याएं पैदा होती हैं लेकिन इससे हमारे लिए यह अवसर भी उत्पन्न हुआ है कि

हम अभी तक उपेक्षित क्षमताओं और संभावनाओं पर काम करे।

तेहरान चैंबर भारत समेत क्षेत्रीय व्यापार साझेदारों के साथ आयात-निर्यात को लेकर अध्ययन कर रहा है।”

भारतीय राजदूत श्री कुमार ने वहां 1000 ऐसे उत्पादों की सूची सौंपी जिनका  भारत से आयात किया जा सकता है

श्री कुमार ने कहा, “सौभाग्य से दोनों देशों का मुद्रा आधारित व्यापार एक स्पष्ट और पारदर्शी प्रणाली है।

इसलिए वह अपनी महत्वपूर्ण आवश्यकताओं की पूर्ति के एक हिस्से के रूप में भारतीय रुपये का इस्तेमाल कर सकता है।”

भारतीय राजदूत ने कहा कि अमेरिकी छूट के आधार पर भारत अगले छह महीने तक

ईरान से प्रतिदिन 3,00,000 बैरल कच्चे तेल का आयात कर सकता है।

इसके बदले में वह भारत से प्रतिबंधों से छूट प्राप्त आवश्यक वस्तुओं भोजन, दवा,

मानवीय व्यापार वस्तुएं इत्यादि की खरीद कर सकता है।

भारत के तेल आयात में खर्च होने वाली आधी राशि भारतीय बैंकों के जरिए

रुपये के रूप में वहां के बैंकों को अदा की जाएगी।

शेष आधी राशि का भुगतान यूरो या अन्य विदेशी मुद्रा के रूप में किया जा सकता है।

इस रूप में पैसे को भारत से बाहर भेजने के लिए एक प्रणाली विकसित किये जाने की आवश्यकता है।

ईरान के सर्वोच्च नेता ने इराक पर हमदर्दी जतायी

वहां के सर्वोच्च नेता अयातुल्लाह अली खामनई ने ईरान और इराक के बीच मजबूत संबंधों का आह्वान किया है।

समाचार पत्र तेहरान टाइम्स ने यह जानकारी दी।

श्री खामनई ने अपने देश की यात्रा पर आये इराकी राष्ट्रपति बरहाम सालिह के साथ बैठक में कहा,

“ईरान के अधिकारी इराक के साथ संबंधों को मजबूत करने के प्रति काफी गंभीर और दृढ़संकल्प हैं।

शक्तिशाली,स्वतंत्र और विकास दोनों के लिए बहुत लाभदायक होगा और हम अपने इराकी भाइयों के साथ खड़े होंगे।”

ईरान के नेता ने इराकियों के बीच एकता का भी आह्वान करते हुए कहा, “इसी से देश दुश्मनों पर जीत हासिक कर सकेगा।

इराकी समूहों अरब, कुर्द, शिया और सुन्नी में एकता को बढ़ाना ही दुश्मनों से लड़ने का एकमात्र तरीका है। ”

श्री सालिह ने कहा कि यहां के नेता के साथ बैठक करना उनके लिए गर्व की बात है।

उन्होंने कहा, “मैं स्पष्ट संदेश के साथ इस देश की यात्रा पर आया था।

दोनों राष्ट्रों को एक सूत्र में बांधने वाले तत्वों और कारकों की जड़ें इतिहास तक जाती हैं और इन्हें बदला नहीं जा सकता।

इराक सरकार देश के पुनर्निर्माण के लिए सहयोग की उम्मीद रखती है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.