यूनिसेफ में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस समारोह पर कार्यक्रम

यूनिसेफ में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस समारोह पर कार्यक्रम
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

संवाददाता

रांचीः यूनिसेफ ने नवभारत जागृति केंद्र के साथ मिलकर अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया।

बहरागोड़ा विधानसभा के विधायक कुणाल षाड़ंगी इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे।

उन्होंने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि झारखंड की अनेक महिलाओं और लड़कियों ने उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल कर राज्य का मान बढ़ाया है।

इसलिए समाज को महिलाओं की आवाज और सोच को सही स्थान देने की जरूरत है।

इससे समाज का चौमुखी विकास संभव होगा।

समारोह में उपस्थित आरती कुजूर ने कहा कि यह दिन ही

हमें बार बार इस बात की याद दिलाता है कि समाज के विकास में महिलाओं की भागीदारी क्यों जरूरी है।

लेकिन आज भी महिलाएं अनेक अवसरों पर शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना झेलने पर विवश हैं।

इस स्थिति को बदलने की जरूरत है।

और यह बदलाव सिर्फ समाज की सोच में परिवर्तन से ही संभव है।

इसके लिए बच्चियों में शिक्षा का स्तर बेहतर होना चाहिए।

इसके साथ ही बच्चियों की शादी रोकने की दिशा में भी बहुत काम करना ह गा।

इसमें सभी संगठन महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकते हैं।

इस क्रम में उन्होंने अपने बचपन की प्रताड़ना का भी उल्लेख करते हुए कहा कि

मैंने इसके आगे घुटने नहीं टेके बल्कि सभी को पूरा जवाब दिया।

इस मौके पर कर्नल अमित डंगवाल ने कहा कि एनसीसी

और यूनिसेफ ने इस मुद्दे पर झारखंड में मिलकर काम किया है ।

हम आगे भी ऐसे प्रयासों के लिए कदम से कदम मिलाकर चलते रहेंगे।

कर्नल डंगवाल ने कहा कि समाज के अंदर बच्चों और महिलाओं के खिलाफ

हो रहे अत्याचार के खिलाफ निरंतर काम करने की जरूरत है।

यूनिसेफ की प्रोग्राम अधिकारी मोइरा दावा ने कहा कि

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस स्पष्ट तौर पर बराबरी के विचार को आगे बढ़ाने की प्रेरणा देता है।

इसलिए वर्तमान युग में सूचना एवं जनसेवा के क्षेत्र में महिलाओं को अधिकाधिक अवसर प्राप्त होने चाहिए।

इस मौके पर रानी मिस्त्री, सुनीता देवी, मुखिया शांति कुमारी मुंडा, बीना कुमारी, फूल कुमारी, प्रिया सृजन, मणि कुमारी आदि महिलाओं ने भी अपने अपने अनुभव सांझा किये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.