Press "Enter" to skip to content

ब्याज दरों में हुई कटौती, घर गाड़ी खरीदना हुआ सस्ता

नई दिल्ली : ब्याज दरों में कटौती के साथ देश के बड़े बैंक ने लॉकडाउन 5 की अच्छी शुरुआत की है. बढती मंदी को

देखते हुए देश के दुसरे बड़े सरकारी बैंक ने ग्राहकों की सुविधानुसार अपने ब्याज दरों में कटौती का ऐलान किया है.

दूसरे बड़े सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने कर्ज पर रेपो दर से जुड़ा ब्याज 0.40 प्रतिशत सस्ता करने की

सोमवार को घोषणा की है. जो ब्याज दर पहले 7.05 प्रतिशत थी अब घटकर 6.65 प्रतिशत हो जायेगी.

ब्याज में कटौती गिरती अर्थव्यवस्था के लिए चुनौती

विशेषज्ञों की माने तो यह अब तक का सबसे सस्ता कर्ज का दर है जो मुख्यत: घर या कार खरीदने का प्लान बना रहे

लोगों के लिए काफी कम है. और इसका सीधा फायदा लोन लेने वाले ग्राहकों को मिलने वाला है. हालांकि इस लगातार

चलते लॉकडाउन, गिरती अर्थव्यवस्था और बढ़ती बेरोजगारी में फिलहाल तो बहुत कम ही लोग ऐसे होंगे जिन्होंने घर या

कार खरीदने की योजना बनाई होगी. पर जिसने भी ऐसा कुछ सोंच रखा है उनके लिए बैंक की ओर से यह एक बड़ा

उपहार साबित होने वाला है. बैंक ने इस संदर्भ में जारी एक बयान में बताया है कि इसके अलावा सभी परिपक्वता अवधि

के कर्ज के लिये सीमांत लागत आधारित ब्याज दर (एमसीएलआर) में 0.15 प्रतिशत कम की गयी है. बैंक ने बचत खातों

पर ब्याज दर को भी 0.50 प्रतिशत घटाकर 3.25 प्रतिशत कर दिया है. बैंक ने इस मामले में कोशिशे जताते हुए कहा है

कि यह सभी संशोधित दरें इस माह के बाद ही लागू की जाएगी जो पूर्णत: एक जुलाई से प्रभावी होगी.

दो अन्य बैंकों ने भी की थी कटौती

उल्लेखनीय है कि इस मामले में इससे पहले पिछले सप्ताह बैंक ऑफ बड़ौदा और यूको बैंक ने भी ब्याज दरों में कटौती

की थी. हालांकि इसका कोई ख़ास असर अबतक बाज़ार व बैंक के ग्राहकों में देखने को नहीं मिला है जिसकी वजह

जारी लॉकडाउन है. पर आने वाले वक़्त व अर्थव्यवस्था को बूस्ट करने के साथ-साथ ऑटो सेक्टर में आई मंदी पर भी

काफी ज्यादा अच्छा असर देखने को मिलेगा.

Spread the love
More from कामMore posts in काम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from देशMore posts in देश »
More from पर्यटन और यात्राMore posts in पर्यटन और यात्रा »
More from बयानMore posts in बयान »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

One Comment

... ... ...