fbpx Press "Enter" to skip to content

बीमा कर्मचारी संघ ने की दिन भर हड़ताल का आयोजन




कोडरमा:  बीमा कर्मचारी संघ झुमरीतिलैया के कर्मचारियों की ओर से गुरुवार को एक

दिवसीय हड़ताल का आयोजन किया गया। हड़ताल में संयुक्त मोर्चा के तहत एनएफआई

एफडब्ल्यूआई के विकास अधिकारी तथा क्लास वन फेडरेशन के अधिकारी भी शामिल

थे। हड़ताल में लियाफी तथा सीआईटीयू के साथी भी शामिल हुए। हड़ताल मे वक्ताओं ने

कहा कि भारतीय जीवन बीमा निगम में आईपीओ लाकर शेयर मार्केट में सूचीबद्ध करने

की सरकार की कोशिश जिससे भारतीय जीवन बीमा निगम निजीकरण की ओर अग्रसर

हो जाएगी। अध्यक्षता करते हुए संघ के अध्यक्ष महावीर यादव ने कहा कि एलआईसी मे

आईपीओ लाकर सरकार एलआईसी का निजीकरण करना चाह रही है तथा बीमा क्षेत्र में

एफडीआई की सीमा 50 से बढ़ाकर 74 प्रतिशत कर बीमा क्षेत्र को विदेशी पूंजी के हवाले

करना चाहती है।

बीमा कर्मचारी संघ ने की दिन भर हड़ताल में संयुक्त मोर्चा

सचिव मनोरंजन कुमार ने कहा कि पांच करोड़ रुपए की पूंजी से शुरू की गई जीवन बीमा

निगम की परिसंपत्ति आज 32 लाख करोड़ हैं, और यह परिसंपत्ति एलआईसी के 42

करोड़ बीमाधारकों की गाढ़ी मेहनत से कमाई गई पूंजी से निर्मित है। एन एफ आई एफ

डब्ल्यू आई हजारीबाग मंडल के अध्यक्ष संजय कुमार ने कहा कि एलआईसी भारतीय

अर्थव्यवस्था में सबसे बड़ी निवेशक है इसे किसी विदेशी पूंजी निवेश की जरूरत नहीं है।

इसमें आईपीओ लाना आत्मघाती कदम है। सीआईटीयू के राज्य सचिव संजय पासवान ने

कहा कि वर्तमान सरकार किसान मजदूर नौजवान और कर्मचारी विरोधी है। सार्वजनिक

क्षेत्र के उपक्रमों को बेचकर सरकार देश को पुंजी पतियों के हाथों गुलाम बनाना चाहती है।

सभा को कुमार अशोक सौरव शंकर, विशाल कुमार ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर

राम कुमार लाल दास, पंकज कुमार, अमर कुमार, संजय पासवान, कुमार कृष्णम, अभय

सुबोध शर्मा, अनिल कुमार रजक, सुरेंद्र राम, लक्ष्मी ठाकुर, विशाल कुमार, सुनील कुमार

साह गोंड, रामेश्वर प्रसाद, संजय कुमार, प्रदीप प्रसाद, कुमार सिंह, श्रेया विश्वकर्मा,

अलीशा नाग, स्नेहा जीवांशी, श्वेता पांडे, खुशबू कुमारी, मनोरंजन कुमार, महावीर यादव,

कुमार अशोक, कृष्णा कुमार उपस्थित थे।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from कामMore posts in काम »
More from कोडरमाMore posts in कोडरमा »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from विवादMore posts in विवाद »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: