fbpx Press "Enter" to skip to content

इंदिरा गांधी और सीताराम केसरी की जयंती मनायी गयी

राष्ट्रीय खबर

रांचीः इंदिरा गांधी और सीताराम केसरी की जयंती आज कांग्रेस द्वारा मनायी गयी।

झारखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के तत्वावधान में भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न

स्व. श्रीमती इन्दिरा गांधी एवं स्व. सीताराम केशरी की जयन्ती प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय,

कांग्रेस भवन, रांची में मनाई गयी। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में कांग्रेस

विधायक दल के नेता सह माननीय ग्रामीण विभाग के मंत्री श्री आलमगीर आलम

उपस्थित हुए। इस अवसर पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री सुबोधकांत सहाय उपस्थित हुए तथा

दोनों नेताओं के चित्र पर माल्यार्पण किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश कांग्रेस के

कार्यकारी अध्यक्ष श्री केशव महतो कमलेश ने की तथा संचालन प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता

श्री शमशेर आलम ने किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि माननीय मंत्री श्री आलम ने

पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी और स्व. सीताराम केशरी के चित्र पर माल्यर्पण किया

तथा पुष्प समर्पित कर दिवंगत महान नेताओं को श्रद्धासुमन अर्पित किया। प्रदेश कांग्रेस

कमिटी द्वारा आयोजित जंयती सभा में अपने उद्गार व्यक्त करते हुए श्री आलम ने कहा

कि पूरी दुनिया श्रीमती इंदिरा गांधी को नारी शक्ति व नारी नेतृत्व के रूप में जानती है

और देश को हीं नहीं दुनिया को भी उन्होंने नई रोशनी दिखाई। सर्वधर्म, समभाव और

धर्मनिरपेक्षता की जड़ों को मजबूत करने वाली नेत्री ने सामाजिक और राजनैतिक क्षेत्र में

कांग्रेस के योगदान को देश की जनता के सामने अनुकरणीय बना दिया है। श्री आलम ने

कहा कि भुवनेश्वर की सभा में श्रीमती इंदिरा गांधी का अंतिम वाक्या कि मैं रहूं या ना

रहूं, मेरे खून का एक-एक कतरा देश के काम आयेगा। आज सही साबित हो रहा है। बैंको

का राष्ट्रीयकरण, 1971 में बांग्लादेश, 126 गुटनिरपेक्ष देशों का नेता बनी।

इंदिरा गांधी की श्रद्धांजलि में शामिल हुए सुबोध कांत

पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री सुबोधकांत सहाय ने कहा कि स्व. श्रीमती गांधी का चार मूल मंत्र दूर

दृष्टि, पक्का इरादा, कड़ी मेहनत, अनुशासन आज भी उतने ही प्रासंगिक है। देश के प्रति

सच्ची सेवा और समर्पण ने उनको एक महान् व्यक्तित्व की संज्ञा दी तो दूसरी ओर कांग्रेस

संगठन को उनके नेतृत्व में एक नई दिशा मिली। विकासशील देशों की पंक्तियों में भारत

को स्थापित करने में उनकी भूमिका अविस्मरणीय रहेगी। उन्होंने कहा कि प्रियदर्शिनी

इन्दिरा गाँधी वर्ष 1966 से 1977 तक लगातार 3 पारी के लिए भारत गणराज्य की

प्रधानमन्त्री रहीं और उसके बाद चौथी पारी में 1980 से लेकर 1984 में उनकी राजनैतिक

हत्या तक भारत की प्रधानमंत्री रहीं। वे भारत की प्रथम और अब तक एकमात्र महिला

प्रधानमंत्री रहीं। अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष स्व. सीताराम केशरी के

सांगठनिक क्षमता की भी वक्ताओं ने सराहना की। इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस के

कार्यकारी अध्यक्ष श्री मानस सिन्हा, संजय लाल पासवान, जोनल कोर्डिनेटर रमा खलखो,

प्रवक्ता शमशेर आलम, राजीव रंजन प्रसाद, आलोक कुमार दूबे, लाल किशोर नाथ

शाहदेव, डॉ राजेश गुप्ता, डॉ एम तौसीफ, विनय सिन्हा दीपू, संजय पांडेय, सुरेश बैठा,

नेली नाथन, तनवीर आलम, केदार पासवान, सुनील सिंह, दीपक लाल, राजन वर्मा, विष्णु

सिंह, आनंद जालान, नागो चौधरी, भानू प्रताप बड़ाईक, नीरज भोक्ता, रेश्मि चन्द्र पिंगुवा,

संगीता टोप्पो, कंचन चौधरी, अनिता सिन्हा, राकेश सिन्हा, छोटू सिंह, अजय सिंह, सुषमा

हेम्ब्रम, मौसमी मिंज, सुरेन राम, किरण प्रसाद, इम्तियाज अली, अर्जुन मांझी, मुकेश

बाल्मिकी, बिरसा एक्का, हुसैन अंसारी, रीना देवी, नवीन कुमार जॉर्ज, आईनुल हक

अंसारी, अख्तर अली, तनवीर गद्दी, अरूण मिश्रा, अनिता सिन्हा, रामानंद केशरी सहित

सैकड़ो कांग्रेसजनों ने श्रद्धासुमन अर्पित किया।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from इतिहासMore posts in इतिहास »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from नेताMore posts in नेता »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: