fbpx Press "Enter" to skip to content

चीनी एप्स पर पाबंदी लगने के बाद आगे आया भारतीय एप ‘मैगटैप’

  • संवाददाता

रामगढ़ः चीनी एप्स पर पाबंदी के बाद और चीन के साथ सीमा पर हुई झड़प और भारतीय

जवानों के शहादत के बाद से ही भारत में एक बार फिर चीनी सामान और ऐप्स के

बहिष्कार करने की मांग जोरों से उठने लगी और अब भारत सरकार ने 59 चीनी ऐप्स को

बैन कर दिया है। ऐसे में भारतीय युवाओं द्वारा बनाया गया एक खास वेब ब्राउजर बहुत

सारे चीनी ऐप्स को चुनौती दे रहा है। दरअसल 5 युवाओं ने ‘मैगटैप’ नामक वेब ब्राउज़र

बनाया है जो इस केटेगरी के चाइनीज ऐप्स (यूसी ब्राउज़र) से कई मायनों में कहीं बेहतर

साबित हो रहा है। इस ऐप की सबसे बड़ी खासियत इसकी ‘विजुअल डिक्शनरी’ है, जिससे

बड़ी आसानी से किसी भी दूसरी भाषा के शब्द का अर्थ चित्र सहित अपनी भाषा में देखा-

सुना जा सकता है।

चीनी एप्स से बेहतर सुविधाएं जोड़ी गयी हैं भारतीय एप में 

इसमें तीन चायनीज एप्स के अलग-अलग फीचर इस एक भारतीय ऐप में एक साथ मिल

सकती है। गूगल प्ले स्टोर पर लॉन्चिंग के कुछ दिनों में ही इसे 10 लाख से ज्यादा बार

डाउनलोड किया जा चुका है। इसकी रेटिंग 4.8 है और 28,000 से ज्यादा रिव्यु के साथ

मैगटैप दुनिया का सबसे ज्यादा टॉप रेटेड ऐप है।इस ऐप के फाउंडर और सीईओ सत्यपाल

चंद्रा बताते हैं कि ‘मैगटैप’ पूरी तरह से ‘मेड इन इंडिया’ है। ‘मैगटैप’ एक ‘विजुअल

ब्राउज़र’ के साथ-साथ डॉक्यूमेंट रीडर, ट्रांसलेशन और ई-लर्निंग की सुविधा देने वाला

अनोखा ऐप है। इस ऐप को ख़ास तौर पर देश के हिंदीभाषी स्टूडेंट्स को ध्यान में रखकर

बनाया गया है। मैगटैप ऐप बनाने वाली कंपनी ‘मैगटैप टेक्नोलॉजी’ का मुख्यालय मुंबई

में है। यह कंपनी भारत सरकार के स्टार्टअप योजना से भी जुडी है। कंपनी फाउंडर

सत्यपाल चंद्रा, रोहन सिंह और अभिषेक बिहार के रहने वाले हैं जबकि सागर मल्होत्रा जो

इस ऐप के फाउंडर और मार्केटिंग हेड हैं वह सहारनपुर (यूपी) के रहने वाले हैं। कंपनी के

पूरे ऑपरेशन का जिम्मा आशीष विरकर ने संभाल रखा है जो की इस कंपनी के फाउंडर

और ऑपरेशन हेड हैं। इसके ब्रांडिंग हेड और फाउंडर सौम्या रंजन भी हैं। ‘मैगटैप’ को

रोहन ने डिजाईन किया है और इसके टेक्निकल पक्षों को अभिषेक सिंह संभालते हैं।

बाजार में इस भारतीय उत्पादन को मिल रहा है अच्छा समर्थन

मैगटैप एप के मार्केटिंग हेड सागर मल्होत्रा ने बताया कि इस एप को स्टूडेंट्स ने बहुत

पसंद किया है इसके फ्री और मल्टीपर्पस होने के कारण इस साल के अंत तक मैगटैप एप

एक करोड़ से ज्यादा भारतीय लोगो के पास होगा। यह ऐप अकेले 10 से ज्यादा ऐप की

जरूरत पूरी करता है। इसके अलावा इस ऐप में 10,000 से ज्यादा किताबे फ्री में उपलब्ध हैं

जिससे कोई भी यूजर किसी भी कम्पटीशन एग्जाम की तैयारी कर सकता है। इस ऐप में

8000 से ज्यादा वीडियो भी है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »
More from साइबरMore posts in साइबर »

One Comment

Leave a Reply