fbpx Press "Enter" to skip to content

चीनी नागरिक समझकर भारतीय को पीटा इजरायल में

  • देश के अंदर भी मिली है ऐसी शिकायतें

  • कोरोना कोरोना चिल्लाकर युवक को मारा गया

  • भारतीय नागरिक पर हमले से वहां की सरकार चौकन्नी

  • गृह मंत्रालय चौकन्ना घटना पर जताया कड़ा ऐतराज

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटीः चीनी  नागरिक समझकर पूर्वोत्तर भारत के नागरिकों पर भी इजरायल में

हमला होने लगा है। दरअसल कोरोना वायरस के खौफ का असर है कि नाक नक्शा चीनी

नागरिक जैसा नजर आते ही लोग विवेक खो रहे हैं। इस घटना के बारे में पता चला है कि

पूर्वोत्तर के लोग जो अभी इजरायल में हैं, उन्हें चीनी समझ कर नस्लवाद और भेदभाव

का शिकार होना पड़ रहा है।

उल्लेखनीय है कि चीन और उत्तर पूर्वी भारत सहित कई देशों के नागरिक मंगोलियाई

मूल के हैं। इस वजह से उनके शारीरिक बनावट में भी समानता पायी जाती है। अब

कोरोना का खौफ इस तरीके से भी तमाम वैसे लोगों के खिलाफ उन्माद के तौर पर बाहर

आ रहा है जो दरअसल किसी अन्य देश का नागरिक होने के बाद भी मंगोलियाई चेहरे की

वजह से चीनी नागरिक समझे जा रहे हैं। नस्लीय भेदभाव के मामलों की बढ़ती संख्या के

बीच, गृह मंत्रालय ने उत्पीड़न के ऐसे मामलों के खिलाफ सभी राज्यों और केंद्र शासित

प्रदेशों को पत्र लिखा है। मंत्रालय को यह पता चला है कि देश में कोविड 19 19 की घटना के

बाद नॉर्थ ईस्ट के लोग उत्पीड़न का सामना कर रहे हैं। ऐसे मामले सामने आए हैं जिनमें

एथलीटों और खेल के लोगों सहित उत्तर पूर्व के लोगों को कोरोना वायरस से जोड़कर

परेशान किया गया है। यह नस्लीय भेदभावपूर्ण, असुविधाजनक और उनके लिए दर्दनाक

है। गृह मंत्रालय ने आगे कहा है कि उत्पीड़न के मामलों में उचित कार्रवाई करने के लिए

हर राज्य / केंद्रशासित प्रदेश में सभी कानून लागू करने वाली एजेंसियों को सूचित किया

जाए। इस नोटिस पर भारत के शासन के गृह मंत्रालय के उप सचिव आर के पांडे ने

हस्ताक्षर किए थे।

चीनी नागरिक की गलतफहमी मंगोलियन आकृति से

दूसरी ओर, इजरायल में मणिपुर के रहने वाले नागरिक को कोरोना वायरस के नाम पर

फैल रही अफवाह का शिकार होना पड़ा। यहां स्थानीय युवकों ने भारतीय नागरिक को

चीनी समझकर उसके साथ मारपीट की। इजरायली लोगों ने उसे चीनी समझ लिया और

कोरोना-कोरोना के नारे लगाते हुए उसके साथ मारपीट शुरू कर दी ।भारत के मणिपुर के

रहने वाले शालेम शिंदसोन को पिछले दिनों दो इजरायली लोगों ने चीनी समझकर उसके

साथ मारपीट की । इजरायली लोगों ने शालेम को एक चीनी नागरिक समझा और

कोरोना-कोरोना कहकर पीटने लगे। शालेम शिंदसोन, मणिपुर की बनई मेनाशे समुदाय

का हिस्सा हैं और 2017 से इजरायल में ही रहते हैं. इस मामले में पुलिस ने केस दर्ज कर

लिया है । शालेम ने पुलिस को दिए अपने बयान में कहा कि मैंने दोनों से कहा कि वो चीनी

नहीं है बल्कि एक यहूदी ही है, लेकिन लोगों ने उनकी नहीं सुनी. अभी तक मारपीट करने

वाले गिरफ्तार नहीं हो पाए हैं। लेकिन खबर है कि भारतीय नागरिक को इजरायल में पीटे

जाने की सूचना के बाद इजरायल सरकार भी गंभीर हुई है और पूरे मामले की जांच की जा

रही है। वहां के लोगों की हरकत को लेकर वहां की सरकारी एजेंसियां सतर्क है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

3 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat