fbpx Press "Enter" to skip to content

भारतीय सेना की वर्दी में होगा बदलाव उग्रवादियों से निपटने की नई योजना

  • अगले वर्ष में होगी नई वर्दी, नई पहचान

  • नई वर्दी से सेना की अलग पहचान होगी

  • पहनने में अधिक सुविधाजनक भी होगा

  • मोदी ने नमूना समीक्षा को अंतिम रूप दिया

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी: भारतीय सेना की वर्दी में बदलाव किया जाएगा। भारत में चीन के सहायता से

उग्रवाद संगठनों ने अशांत फैलाने के लिए पूरी कोशिश कर रहा है। इसे लेकर भारत

सरकार कि गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय ने परेशान हो रहा है। भारतीय सेना की तेजपुर

स्थित 4 कोर गजराज मुख्यालय के वरिष्ठ अधिकारी ने इस संवाददाता से बात करते हुए

कहा कि उग्रवादी संगठनों ने भारतीय सेना जैसे वर्दी पहनकर लोगों को भ्रमित कर रहा है।

इसके बाद खुफिया एजेंसी ने भारत सरकार को सुझाव दिया है कि भारतीय सेना जो 8 वर्दी

है उसको थोड़ा अदल बदल करना पड़ेगा। भारतीय खुफिया एजेंसी के यह रिपोर्ट आने का

बाद प्रधानमंत्री सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने नया वर्दी के लिए बहुत सारे नमूना

परीक्षण शुरू कर दिया था।अब भारतीय सेना की वर्दी में बदलाव की प्रक्रिया तेज हो गई

है। इसके लिए सैंपल का रिव्यू किया जा रहा था। अधिकारी ने इस संवाददाता के साथ

इसके बारे में बताते हुए कहा कि शीघ्र ही भारतीय सेना की वर्दी में बदलाव होगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने पहले ही नमूना समीक्षा को अंतिम रूप दे दिया है। भारतीय सेना

अगले वर्ष में नई वर्दी, नई पहचान बनाएगी। मिली जानकारी के मुताबिक वर्दी को ज्यादा

आरामदायक और स्मार्ट बनाने के लिए इंडस्ट्री से कुछ सैंपल मंगाए गए थे जिनकी इन

दिनों जांच पूरा हो गई है। वर्दी में बदलाव का मकसद यह है कि उसे ज्यादा आरामदायक

और स्मार्ट बनाने के साथ ही अफसरों की वर्दी में एकरूपता लाई जा सके। ताकि ऊंची

पोस्ट वाले अफसरों की वर्दी को देखकर यह न पता चले कि वह किस रेजिमेंट के या फिर

किस आर्म्स डिविजन के हैं। इसके अलावा पूरी सेना एक जैसी दिखाई दे।

भारतीय सेना ने इसके लिए कई नमूने मंगाये थे

रिपोर्ट्स के मुताबिक वर्दी में बदलाव के लिए इंडस्ट्री से सैंपल मांगे गए थे जो मिल चुके हैं

और उनका रिव्यू किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक सेना की गर्मी-सर्दी की रेग्युलर वर्दी,

समारोहों और मेस की वर्दी समेत जंगी भूमिका में इस्तेमाल की जाने वाली वर्दी को भी

बदला जा सकता है। दरअसल, रिव्यू में वर्दी के कपड़े और डिजाइन के साथ-साथ उसका

कंफर्ट लेवल भी चेक किया जा रहा है। रक्षा मंत्रालय से गृह मंत्रालय तक सारे नमूना

पहुंचने के बाद प्रधानमंत्री ने इस पर अंतिम रूप दे दिया है ।सूत्रों के अनुसार अगले सालों

में भारतीय सेना की नया वर्दी और नया पहचान होगा इस वर्दी में बुलेट प्रूफ होगा और

सर्दी या गर्मी में कोई असर नहीं पड़ेगा। बता दें कि पिछले साल वर्दी में बदलाव की प्रक्रिया

उस वक्त शुरू हुई थी जब भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत थे। भारतीय सेना के तेजपुर

स्थित 4 कोर मुख्यालय के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यह भारतीय सेना की मानक क्षेत्र

की वर्दी है। वर्दी के विघटनकारी पैटर्न में वन छलावरण पैटर्न है और इसलिए, इसे “जंगल

ड्रेस” भी कहा जाता है। सर्दियों में, इसके ऊपर एक स्वेटर या जैकेट पहना जाता है। इस

पोशाक पर रैंक फ्लैप पर कढ़ाई की जाती है और सामान्य धातु रैंक नहीं पहनी जाती है।

उग्रवादी भी ऐसी वरदी पहनकर भ्रम फैला रहे हैं

सेना के एक व्यक्ति को नागरिकों की तीन चीजों से विशिष्ट रूप से पहचाना जाता है –

उनके बाल कटवाने, जिस तरह से वे खुद को ले जाते हैं और जिस तरह से वे कपड़े पहनते

हैं। भारतीय सेना एक ऐसा संगठन है जहाँ हर आदमी एक संभावित नेता है। और यह

बहुत अच्छी तरह से प्रतिबिंबित करता है जिस तरह से वे खुद को ले जाते हैं और कपड़े

पहनते हैं। लेकिन ये कपड़े, ये वर्दी एक कीमत पर आती हैं। भारतीय सेना में 8 प्रकार की

वर्दी हैं।।भारतीय सेना की वर्दी में पहले तीन बार बदलाव हो चुके हैं। पहली बार वर्दी में

इसलिए बदलाव हुआ था ताकि भारत और पाकिस्तान की सेना में अंतर दिखाई दे। दूसरी

बार वर्दी को साल 1980 में परिवर्तित किया गया उस वक्त इसे युद्धक पोशाक कहा गया।

हालांकि, इसे फिर से बदल दिया गया क्योंकि पॉलिस्टर से बनी वर्दी गर्मी के मौसम में

काफी असहज थी और तीसरी बार वर्दी को 2005 में बदला गया। ताकि सीमा सुरक्षा बल

(बीएसएफ) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) से अलग दिखाई दे और अब

चौथी बार वर्दी में परिवर्तन किए जाने की जानकारियां निकलकर सामने आ रही हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from आतंकवादMore posts in आतंकवाद »
More from उत्तर पूर्वMore posts in उत्तर पूर्व »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रक्षाMore posts in रक्षा »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: