fbpx Press "Enter" to skip to content

पूर्वोत्तर में चीन को टक्कर देने भारतीय सेना के टैंक और बीएमपी रेजिमेंट तैयार

  • अरुणाचल प्रदेश की सीमा पर सेना अग्रिम मोर्चे तक पहुंची

  • भारी तोपखाना को भी चीन सीमा के करीब लाया गया

  • वायुसेना के विमानों की टुकड़ियां भी पूरी तरह तैयार

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : पूर्वोत्तर में भारतीय सेना वास्तविक युद्ध की तैयारी में है। वास्तविक नियंत्रण

रेखा (एलएसी) के पास भारतीय वायुसेना के विमानों की गूंज और सामने डटे जवानों के

हौसले ने चीन के विस्तारवादी मंसूबों पर पानी फेर दिया। भारतीय वायुसेना देश के अन्य

हिस्सों से महज तीस मिनट में टैंक, तोपखाना और जवानों को पूरे पूर्वोत्तर और

अरूणाचल-सिक्किम पहुंचा सकती है। जून 2020 के पहले सप्ताह में, भारतीय सेना के 17

माउंटेन स्ट्राइक कोर के पांच हजार से अधिक सैनिक अरुणाचल प्रदेश की चीन के साथ

सीमा के पास युद्धाभ्यास कर रहे हैं। इस बीच, सेना और वायु सेना के चार कोर को

मिलाकर 17 माउंटेन स्ट्राइक कोर का गठन किया गया था।। इन सैनिकों को बाद में देश

की पूर्वी सीमा पर तैनात किया गया है। चीनी सीमा पर ऐसा युद्धाभ्यास पहली बार हुआ है।

लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) के पास चीन की सेना के हेलिकॉप्टर दिखने के

बाद भारतीय वायुसेना सतर्क हो गई।भारतीय वायुसेना ने भी सुखोई समेत दूसरे फाइटर

जेट (लड़ाकू विमानों) से पेट्रोलिंग शुरू कर दी। सुखोई-30 एमकेआई 2400 किमी प्रति घंटे

से ज्यादा की रफ्तार से 5 हजार किलोमीटर तक उड़ान भर सकता है। 18 हजार किलोग्राम

वजन ले जाने में सक्षम ये विमान एयर टू एयर री-फिलिंग के चलते अपनी रेंज को और

ज्यादा बढ़ा सकता है। एलएसी के पास चीन के हेलिकॉप्टर उसी दौरान देखे गए, जब

उत्तरी सिक्किम के इलाके में चीनी सैनिकों और भारतीय सैनिकों में झड़प हुई थी।

पूर्वोत्तर में चीन की सीमा पर पहली बार इतने सैनिक 

भारतीय सेना मुख्यालय तेजपुर की पूर्वी कमान की आधिकारिक रिपोर्ट के अनुसार चीन

के हेलिकॉप्टरों ने एलएसी को क्रॉस नहीं किया, लेकिन पहले कई बार ऐसा हो चुका है।

आर्मी ने कहा कि एलएसी पर हमारी और चीन की सेना के बीच झड़प होती रहती है।

भारतीय सेना के 20 हजार सेना के साथ चीन को टक्कर देने भारतीय सेना के टैंक और

बीएमपी रेजिमेंट तैयार हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from उत्तर पूर्वMore posts in उत्तर पूर्व »
More from चीनMore posts in चीन »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »

Be First to Comment

Leave a Reply