fbpx Press "Enter" to skip to content

भारतीय सेना ने म्यांमार सीमा पर चीन समर्थित 13 उग्रवादी कैंप तबाह किये

गुवाहाटी : भारतीय सेना ने कल रात म्यांमार सीमा पर चीन द्वारा समर्थित 13

आतंकवादी शिविरों को नष्ट कर दिया। सेना ने म्यांमार की सेना के साथ मिलकर चलाए

गए एक अभियान में म्यांमार सीमा पर एक उग्रवादी समूह से संबंधित 13 शिविरों को

नष्ट कर दिया। जिसमें चीन द्वारा समर्थित कचिन इंडिपेंडेंट आर्मी के एक उग्रवादी

संगठन, अराकान आर्मी को निशाना बनाया गया। भारतीय सेना ने म्यांमार को अभियान

के लिए हार्डवेयर और उपकरण मुहैया कराए, जबकि इसने सीमा पर बड़ी संख्या में बलों

को तैनात किया। यह अभियान इस बात की जानकारी मिलने के बाद चलाया गया कि

उग्रवादी कोलकाता को समुद्र मार्ग के जरिए म्यांमार के सितवे से जोड़ने वाली विशाल

अवसंरचना परियोजना निशाना बना रहे हैं। कोरोना वायरस के लिए लॉकडाउन का

फायदा उठाकर उग्रवादी संगठनों ने यह परियोजना कोलकाता से सितवे के रास्ते

मिजोरम पहुंचने के लिए एक अलग मार्ग मुहैया कराने वाली है। सेना के सूत्रों ने कहा कि

ऑपरेशन का निशाना खासतौर से आतंकी अड्डे को बनाया गया था, ताकि नागरिकों को

नुकसान न हो। यह ऑपरेशन पूरी तरह आतंकियों के खिलाफ था, न की कोई मिलिट्री

ऑपरेशन।

खुफिया एजेंसियों को कुछ ऐसी सूचनाएं मिली हैं कि कुछ इलाकों में उग्रवादी गुट सिर

उठाने के लिए मौके की तलाश में हैं। उग्रवादी गुटों से बातचीत के लिए बना तंत्र काम हर

रहा है। नागा विद्रोही गुटों व पूर्वोत्तर राज्यों के अन्य विद्रोही गुटों जैसे असम के उल्फा,

एनडीएफबी, केएलएनएलएफ और मणिपुर के केएनओ एवं यूडीएफ से वार्ता का काम

अलग-अलग वार्ताकार पहले से कर रहे हैं।

भारतीय सेना के पास उग्रवादी गुटों का पूरा विवरण मौजूद

पूर्वोत्तर के अलग-अलग राज्यों में करीब 20 प्रमुख विद्रोही गुट सक्रिय हैं। असम में चार

संगठन यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम, नेशनल बोडोलैंड फ्रंट ऑफ बोडोलैंड,

कामतापुर लिबरेशन आर्गेनाइजेशन, कार्बी लांगरी एन सी हिल्स लिबरेशन फ्रंट

-केएनएलएफ सक्रिय हैं। मेघालय में गारो नेशनल लिबरेशन आर्मी,हाइनीवट्रेप नेशनल

लिबरेशन काउंसिल की सक्रियता बनी हुई है। त्रिपुरा में नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ त्रिपुरा

– एनएलएफटी, ऑल त्रिपुरा टाइगर फोर्स की गतिविधियां चल रही हैं।सबसे ज्यादा

विद्रोही गुट मणिपुर में हैं। यहां 11 संगठन सक्रिय हैं। इनमें यूनाइटेड नेशनल लिबरेशन

फ्रंट – यूएनएलएफ, रिवोल्यूशनरी पीपुल्स फ्रंट – आरपीएफ, पीपुल्स लिबरेशन आर्मी,

पीपुल्स रिवोल्यूनरी पार्टी आफ कांगलेईपाक, कांगलेई यावोल कन्ना लुप, कांगलेईपाक

कम्युनिस्ट पार्टी, अलायंस फॉर सोशलिस्ट यूनिटी कांगलेईपाक, मणिपुर पीपुल्स

लिबरेशन फ्रंट, कोआर्डिनेशन कमेटी कोर काम, कुकी नेशनल ऑर्गेनाइजेशन – केएनओ,

यूनाइटेड प्रोग्रेसिव फ्रंट शामिल हैं।

अजीत डोभाल खुद रखते हुए इस क्षेत्र पर नजर

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के इस ऑपरेशन से जुड़े एक अधिकारी ने बताया

कि स्पेशल प्लेन से भारत आ रहे इन उग्रवादियों में से कुछ को पहले मणिपुर की

राजधानी इंफाल मे उतारा जाएगा। बचे हुए उग्रवादियों को गुवाहाटी में स्थानीय पुलिस को

सौंपा जाएगा। उन्होंने कहा कि यह पहली बार है कि म्यांमार सरकार ने पूर्वोत्तर विद्रोही

समूहों के नेताओं को सौंपने के भारत के अनुरोध पर काम किया है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

  1. […] भारतीय सेना ने म्यांमार सीमा पर चीन सम… गुवाहाटी : भारतीय सेना ने कल रात म्यांमार सीमा पर चीन द्वारा समर्थित 13 आतंकवादी शिविरों … […]

Leave a Reply

error: Content is protected !!