fbpx Press "Enter" to skip to content

भारतीय सेना और चीन की सेना का बड़ा अंतर स्पष्ट हो गया

  • सीमा पर तनाव के बीच चौंकाने वाली खबर

  • पीएलए ने अरुणाचल में पांच का अपहरण किया

  • भारतीय सेना ने संकट में फंसे तीन चीनियों को बचाया

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : भारतीय सेना और चीन की सेना के बीच बड़ा अंतर दिखाई दे रहा है। भारतीय

सेना हमेशा मानवाधिकार संस्कृति को बढ़ावा देकर स्वतंत्रता का का काम करती है।

लेकिन चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने हमेशा हमेशा लड़ाई – झगड़ा करके

उग्रवाद को समर्थन करके काम हासिल करना चाहता है । लद्दाख में भारत और चीन की

सेना के बीच तनाव बना हुआ है। इस बीच अरुणाचल प्रदेश से पांच लोगों को चीन की सेना

के जरिए अपहरण किये जाने की सूचना है। भारतीय सेना और चीन की सेना का अंतर का 

घटनाक्रम दरअसल उत्तरी सिक्किम के पठार क्षेत्र में चीनियों को बचाया, वहीं पीएलए ने

अरुणाचल प्रदेश से 5 लोगों को पकड़कर ले गई है। भारतीय सेना के सूत्रों ने आज कहा कि

चीन के पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) द्वारा भारतीय नागरिक में अरुणाचल प्रदेश के

ऊपरी सुबनसिरी जिले के पांच लोगों का कथित तौर पर अपहरण ’कर लिया गया है।

अरुणाचल प्रदेश की पुलिस ने शिकार के लिए चीन-भारत सीमा पर स्थित ऊपरी

सुबनसिरी जिले के जंगल में गए पांच लोगों को चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी द्वारा

कथित तौर पर अपहृत किए जाने की खबर आने के बाद जांच शुरू कर दी है। वरिष्ठ

अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी।

भारतीय सेना और चीन की सेना की गतिविधियां अलग रही

अपहृत लोगों के परिवारों ने बताया कि यह घटना शुक्रवार को जिले के नाचो इलाके में हुई।

लापता लोगों के साथ गए दो लोग किसी तरह बचकर आने में कामयाब हुए और उन्होंने

पुलिस को घटना की जानकारी दी। पुलिस अधीक्षक तरु गुस्सर ने कहा, ‘मैंने नाचो पुलिस

थाने के प्रभारी को इलाके में तथ्यों की पुष्टि करने के लिए भेजा है और तत्काल रिपोर्ट देने

को कहा है। हालांकि, रिपोर्ट रविवार सुबह तक ही मिल पाएगी। चीनी सेना द्वारा कथित

तौर पर जिन लोगों का अपहरण किया गया है। उनकी पहचान तोच सिंगकम, प्रसात

रिगलिंग, दोंगतू इबिया, तनू बाकर और नागरु दिरी के तौर पर की गई है और पांचों

तागिन समुदाय के हैं। उल्लेख करें कि कुछ महीने पहले, इसी तरह की घटना हुई थी। बता

दें कि इस साल मार्च में 21 वर्षीय युवक तोगली सिनकम को पीएलए ने मैकमहोन रेखा के

नजदीक असापिला सेक्टर में पकड़ लिया था । जबकि उसके दो दोस्त बचकर भागने में

कामयाब हुए थे । पीएलएल ने करीब 19 दिन तक बंधक बनाए रखने के बाद युवक को

रिहा किया । अरुणाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक निनॉन्ग एरिंग ने दावा किया है कि

अरुणाचल प्रदेश की सीमा से चीनी सेना द्वारा पांच से अधिक लोगों का अपहरण किया

गया है।

साढ़े सत्रह हजार फीट की ऊंचाई पर फंस गये थे चीनी नागरिक

दूसरी ओर, भारतीय सेना ने 17,500 की ऊंचाई पर मुश्किसल में फंसे तीन चीनियों को

बचाया है। इंडियन आर्मी ने चीनी नागरिकों को दवा, ऑक्सीजन, भोजन, गर्म कपड़े दिए

और पूरा मार्गदर्शन दिया, जिसके बाद वे अपने गंतव्य5 पर लौट आए। यह वाकया उत्तरी

सिक्किम के पठार क्षेत्र में बीते 3 सितंबर का है। इंडियन आर्मी ने कहा, भारतीय सेना ने 3

चीनी नागरिकों को बचाया है।, जो 3 सितंबर को उत्तरी सिक्किम के पठार क्षेत्र में 17,500

फीट की ऊंचाई पर अपने मार्ग से भटक गए थे। इंडियन आर्मी ने उन्हें चिकित्सा सहायता,

ऑक्सीजन, भोजन और गर्म कपड़े दिए। सेना ने उन्हें उचित मार्गदर्शन भी दिया, जिसके

बाद वे अपने गंतव्य पर लौट गए। वहीं, अरुणाचल प्रदेश की पुलिस ने शिकार के लिए

चीन-भारत सीमा पर स्थित ऊपरी सुबनसिरी जिले के जंगल में गए पांच लोगों को चीन

की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) द्वारा अपहृत किए जाने की सूचना के बाद जांच

शुरू कर दी है।अपहृत लोगों के परिवारों ने बताया कि यह घटना शुक्रवार को जिले के नाचो

इलाके में हुई। लापता लोगों के साथ गए दो लोग किसी तरह बचकर आने में कामयाब हुए

और उन्होंने पुलिस को घटना की जानकारी दी। एसपी तरु गुस्सर ने कहा, ”मैंने नाचो

पुलिस थाने के प्रभारी को इलाके में तथ्यों की पुष्टि करने के लिए भेजा है और तत्काल

रिपोर्ट देने को कहा है। हालांकि, रिपोर्ट रविवार सुबह तक ही मिल पाएगी।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from आतंकवादMore posts in आतंकवाद »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

One Comment

Leave a Reply