fbpx Press "Enter" to skip to content

पूरे देश में 21 दिन का लॉक डाउन कर्फ्यू जैसाः नरेंद्र मोदी

  • देश के नाम प्रधानमंत्री ने फिर से संबोधित किया

  • 21 दिनों तक पूरे देश में जारी रहेगा प्रतिबंध

  • नहीं चेते तो पूरा देश 21 साल पीछे चला जाएगा

  • सोशल डिस्टेंसिंग सबके लिए समान रुप से लागू

एजेंसियां

नईदिल्लीः पूरे देश में अब पूरी तरह लॉक डाउन का एलान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने

राष्ट्र के नाम संबोधन में कर दिया है। उन्होंने साफ कर दिया कि इस लॉक डाउन को

अत्यंत गंभीरता के साथ लेना होगा। उन्होंने कहा कि देश का हर नागरिक जहां हैं वहीं बना

रहेगा। यह लॉक डाउन रात के 12 बजे से लागू कर दिया जाएगा। उनकी घोषणा के

मुताबिक अभी के फैसले के हिसाब से यह व्यवस्था आगामी 21 दिनों तक के लिए जारी

रहेगी। उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि देश के हर नागरिक को इसे कर्फ्यू के तौर पर ही

लेना होगा। श्री मोदी ने कहा कि इन 21 दिनों में देश को कोरोना से बचाने के लिए ऐसा

करना जरूरी है। इस कोरोना के चक्र को तोड़ने के लिए यह कड़ाई जरूरी है। प्रधानमंत्री ने

कहा कि अगर देश के हर नागरिक ने इसका जिम्मेदारी से पालन नहीं किया तो देश को

इसकी बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी। हो सकता है कि कोरोना का प्रसार पूरे देश को

आर्थिक तौर पर भी 21 साल पीछे धकेल देगा।

पूरे देश में जनता कर्फ्यू के जैसा एकजुटता चाहिए

श्री मोदी ने कहा कि जनता कर्फ्यू के दौरान देश की जनता ने जिस तरीके से आगे बढ़कर

अपनी जिम्मेदारियों का पालन किया, वह सराहनीय है। उन्होंने कहा कि राष्ट्र के नाम

अपने संबोधन में पहली बार ही पूरे देश से कुछ सप्ताह मांगे थे। अब भी कुछ लोग इस

संक्रमण की गंभीरता को नहीं समझ पाये हैं। इसकी खास वजह यह है कि संक्रमित होने

वाला व्यक्ति सैकड़ों लोगों तक इस बीमारी को फैला देता है। लेकिन अजीब स्थिति है कि

खुद संक्रमित आदमी भी खुद को पूरी तरह स्वस्थ महसूस करता है। पूरी दुनिया में

अचानक से इसके विस्फोट की वजह से सारे देश की चिकित्सा पद्धति भी इससे निपट नहीं

पा रही है। लिहाजा इससे निपटने का सबसे बेहतर विकल्प यही है कि लोग एक दूसरे से

दूरी बनाकर रखें। इसके लिए जरूरी है कि पूरे देश में जारी होने वाले लॉक डाउन को अब

कर्फ्यू की तरह ही समझें और कड़ाई के साथ उसका पालन करें।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

Open chat
Powered by