fbpx Press "Enter" to skip to content

भारत में मोबाइल ऑक्सीजन प्लांट पहुंच रहा है शीघ्र

नईदिल्लीः भारत में मोबाइल ऑक्सीजन प्लांट लाने की तैयारी अंतिम चरण में है।

दरअसल कोरोना की दूसरी लहर ने पूरे देश की स्वास्थ्य व्यवस्था को तोड़कर रख दिया

है। इसी के बीच हर इलाके के अस्पतालों से ऑक्सीजन की कमी से मरीजों की मौत की

सूचनाएं भी आम हो रही है। अब भारत की तरफ स जर्मनी से मोबाइल ऑक्सीजन प्लांट

लाया जा रहा है। इन प्लांटो को जरूरत के मुताबिक एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले

जाया जा सकेगा। मिली जानकारी के मुताबिक हर प्लांट की क्षमता प्रति मिनट चालीस

लीटर यानी हर घंटा 24 सौ लीटर ऑक्सीजन उत्पादन की है। रक्षा मंत्रालय की तरफ से

कुल 27 ऐसे प्लांट अगले सप्ताह तक भारत पहुंच जाएंगे। रक्षा मंत्रालय की तरफ से इसके

दस्तावेजी औपचारिकताओं को पूरा करने का काम भी लगभग समाप्त हो चुका है। यह

सारे मोबाइल ऑक्सीजन प्लांट सेना के अधीन होंगे। मिली जानकारी के मुताबिक उन्हें

सेना के अस्पतालों के अधीन ही रखा जाएगा। वायुसेना के विमानों को भी तैनात कर दिया

गया है ताकि जर्मनी से आने वाले ऐसे ऑक्सीजन प्लांट आने के साथ साथ सेना की

तैयारी के मुताबिक पूरे देश में भेजे जा सके।

भारत में मोबाइल ऑक्सीजन सेना के अधीन होगी

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पहले ही यह एलान कर रखा था कि आवश्यकता के

मुताबिक देश में सेना की सुविधाओं का कहीं भी इस्तेमाल किया जा सकेगा। इन मोबाइल

प्लाटों को तत्काल काम पर लगाने के पहले उनका परीक्षण भी कर लिया गया है।

वायुसेना के सी 17 विमान में आठ क्रायोजेनिक ऑक्सीजन कंटेलन बेगमपेट से लाये गये

हैं। इसी तरह एक अन्य विलाम को इंदौर से जामनगर लाया गया है। सी 130 विमान को

असम के जोरहाट से हिंदन हवाई अड्डे तक लाया गया है, जिसमें आवश्यक चिकित्सा

उपकरण थे। इस बीच सेना चिकित्सा कोर से रिटायर होने वाले 238 चिकित्सकों को सेवा

विस्तार दे दिया गया है ताकि वे आगामी 31 दिसंबर तक सेना चिकित्सा कोर के साथ जुड़े

रहेंगे। सेना की तरफ से पूरे देश में ऐसी व्यवस्थाएं की गयी है। अब ऑक्सीजन की कमी

दूर करने के लिए तैयार और रेडिमेड ऑक्सीजन प्लांट ही जर्मनी से लाने की तैयारियां चल

रही है। 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »
More from रक्षाMore posts in रक्षा »

One Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: