fbpx Press "Enter" to skip to content

झारखंड मुक्ति मोर्चा का ओरमांझी में कार्यालय का उद्घाटन

प्रतिनिधि

ओरमांझीः झारखंड मुक्ति मोर्चा का प्रखण्ड स्तरीय कार्यालय का उद्घाटन सोमवार को

रांची जिलाध्यक्ष मुस्ताक आलम व अन्य अतिथियों के कर कमलों द्वारा विधिवत फीता

काटकर किया गया। कार्यालय उद्घाटन समारोह में विभिन्न राजनीतिक दलों के दर्जन

नेता एवं कार्यकर्ताओं ने मुक्ति मोर्चा की सदस्यता ग्रहण किया जिन्हें अतिथियों

द्वारा फूल माला पहनाकर पार्टी में स्वागत किया गया। वही प्रखंड स्तरीय संगठन को

मजबूती दिलाने के लिए कई कार्यकर्ताओं को पदभार दिया गया जिसमें हेन्देबिली निवासी

ममता पाहन को झामुमो महिला मोर्चा का प्रखंड अध्यक्ष एवं ईरबा निवासी मो. शम्स

नदीम को झामुमो अल्पसंख्यक मोर्चा का, प्रखंड अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। इस

अवसर पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष मुशताक आलम ने कहा कि

आज बहुत सारे लोग पार्टी का झंडा बुलंद करने के लिए आदरणीय गुरूजी और आदरणीय

श्री हेमन्त सोरेन जी की नीति और सिद्धांतों को अपनाते हुए पार्टी में शामिल हुए हैं मैं सभी

को पार्टी की ओर से हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज ये पार्टी के लिए खुशी का पल है पार्टी

के कार्यकर्ता धैर्य रख कर काम करें।

झारखंड मुक्ति मोर्चा में कार्यकर्ता ही सबसे प्रमुख हैं


पार्टी में एक एक कार्यकर्ता पार्टी का रीढ़ होता है। उन्होंने प्रखंड के तमाम पदाधिकारियों

को निर्देश दिया है कि कार्यालय का संचालन सही ढ़ंग से करें और जन समस्याओं का

समाधान कराएं। उक्त अवसर पर जिला सचिव डॉ हेमलाल कुमार मेहता, केन्द्रीय सदस्य

सह महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष प्रो चिन्तामनी सांगा, अल्पसंख्यक मोर्चा के केन्द्रीय

उपाध्यक्ष, कुदुस अन्सारी, जिला संयुक्त सचिव श्री आदिल इमाम, सह सचिव नरेश

यादव, साजिद कौशर, मधु तिर्की, हारून रसीद , नागेश्वर महतो , सालो देवी, प्रखंड

अध्यक्ष नागेश्वर महतो, प्रखंड सचिव तौहिद आलम अन्सारी, संगठन सचिव दिनेश

महतो, मनान अन्सारी, मकबूल अन्सारी, मुस्लिम फैजी, विजय आनंद आदि शामिल थे।



 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

3 Comments

Leave a Reply