fbpx Press "Enter" to skip to content

पिछले दो वर्षों में उप्र में 127 वर्ग किमी ग्रीन क्षेत्र बढा

इटावाः पिछले दो वर्षों में वन के मामले में उत्तर प्रदेश का रिकार्ड बेहतर हुआ है। उत्तर

प्रदेश में पिछले दो वर्षो में 127 वर्ग किलोमीटर हरियाली (ग्रीन) क्षेत्र में वृद्धि हुई है तथा इसे

और बढाने के लिए इस साल करीब 25 करोड़ पौधे और लगाए जाएगे। पिछले दो वर्षों की

इस उपलब्धि को देखते हुए प्रमुख वन संरक्षक राजीव कुमार गर्ग ने बताया कि वन

विभाग ने प्रदेश में वर्ष 2020 में 25 करोड पौधे लगाए जाने का लक्ष्य रखा है जो कि पिछले

वर्ष की तुलना में तीन करोड अधिक है। इसके लिए विभाग ने अभी से तैयारी शुरु कर दी

है। उन्होंने कहा कि यह प्रयास होगे कि जो पौधे लगाए जाएं उनमें से ज्यादा से ज्यादा पौधे

सुरक्षित रहें और बड़े हो सकें। श्री गर्ग ने इटावा सफारी पार्क मे पत्रकारो से कहा कि पूरे

प्रदेश में ग्रीन कवर बढाने की कवायद हो रही है। हालांकि अभी चीन के बाद भारत ऐसा

दूसरा देश है जहां ग्रीन कवर बढ रहा है जबकि अन्य देशों में नहीं है। उन्होने बताया कि

पृथ्वी का तापमान बढ रहा है। इससे होने वाले खतरों के लिए ग्रीन कवर बढाया जाना

जरुरी है और ग्रीन कवर बढाए जाने का काम तेजी से किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में

पिछले दो वर्षों में 127 वर्ग किलोमीटर ग्रीन कवर बढाया गया है। उन्होंने बताया कि एक

बाहरी संस्था से पौधारोपण के बाद पौधों की स्थिति के बारे में जांच कराई जा रही है और

जहां कमियां रह गई हैं उन्हें दूर किया जाएगा। उन्होने बताया कि चम्बल में पर्यटन की

काफी गुंजाइश है। यहां घडियाल आदि देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं।

पिछले दो वर्षों में इसी वजह से पर्यटन भी बढ़ा है

इसे सफारी के साथ जोडा जाएगा। इससे पर्यटकों को सफारी के साथ चम्बल क्षेत्र में भी

प्राकृतिक दृश्य देखने को मिलेगें और पर्यटक इटावा आने के लिए ज्यादा प्रोत्साहित होंगे।

इससे सफारी के साथ ही इटावा में पर्यटन बढेग उन्होंने बताया कि जिले के सरसईनावर

क्षेत्र में वेटलैंड है। जहां बडी संख्या में सारस व अन्य पक्षी आते हैं। इस वर्ष इस वेटलैंड को

अन्तर्राष्ट्रीय पटल पर स्थान मिला है। इसके बाद वन विभाग ने इसके विकास की तैयारी

शुरू कर दी है। उन्होने बताया कि सरसई नावर की वेटलैंड तथा उसके आसपास के क्षेत्र का

बहुमुखी विकास किया जाएगा। इस तरह आकर्षक बनाया जाएगा जिससे इटावा तक आने

वाले पर्यटक सरसईनावर भी पहुंचे और विदेशों से आने वाले सारस व अन्य पक्षियों का

दीदार करें।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

Open chat
Powered by