Press "Enter" to skip to content

दंतेवाड़ा में जवानों ने नक्सली की मां के इलाज का जिम्मा उठाया

दंतेवाड़ाः दंतेवाड़ा में केन्द्रीय सुरक्षा बल के 195 वीं बटालियन के जवान ने आत्म समर्पित

नक्सली की बीमार के इलाज का जिम्मा उठाया है। जिले के बड़े गुडरा स्थित केन्द्रीय

सुरक्षा बल के कैम्प के सहायक कमांडेड संजय चौहान ने बताया कि कटे कल्याण एरिया

कमेटी के खूंखार नक्सली पांच लाख का इनामी गुढरा सोड़ी, जो हाल ही में पुलिस के

सामने आत्म सर्मपण किया। पिछले कई सालों से उसकी मां दुले सोढ़ी बीमार है।

कटेकल्याण विकासखण्ड के पखनाचुंआ गांव की रहने वाली दुले त्वचा रोग के साथ-साथ

कई बीमारियों से पीड़ित है। श्री चौहान ने बताया कि जब पता लगा कि उसकी मां विभिन्न

बीमारियों से पीड़ित है, तो जवानों ने गांव पहुंच कर उसके इलाज का बीड़ा उठाया और

साथ ही जरूरी सामग्री भी दी। श्री चौहान ने बताया कि दुर्लभ बीमारी से जूझ रही दुले के

पास जब सीआरपीएफ का दस्ता जरूरी साजो-सामान, डॉक्टर एवं एंबुलेंस लेकर पहुंचा, तो

उनकी आंखों में आंसू छलक आए। दुले सोढ़ी को अपने बेटे के किए पर पछतवा तो, है

लेकिन वह बेबस है। दंतेवाड़ा पूरा परिवार खाने को मोहताज हो गया है। आर्थिक तंगी का

ये हाल है कि पिछले 8 सालों से बीमारी से तिल-तिल कर मरती मां का इलाज कराने में

परिवार असमर्थ है। बुडरा के बुजुर्ग पिता हिड़मा सोढ़ी और भाई बबलू का कहना है कि

बुडरा ने हमें कहीं का नहीं छोड़ा है। पूरा परिवार आज बेसहारा और बेबस है। पिता कहते हैं

कि बुडरा भले ही नक्सलियों का बड़ा नेता हो, लेकिन उसे न तो मां और न ही परिवार की

कोई फिक्र है और न ही हम उससे कोई संबंध रखना चाहते हैं।

दंतेवाड़ा में नक्सली गतिविधियां अधिक होती हैं

दंतेवाड़ा अपेक्षाकृत दुरुह इलाका होने की वजह से यहां नक्सली गतिविधियां अधिक होती

है। इसी क्षेत्र में अब तक नक्सली हमले की कई बड़ी घटनाएं घटित हो चुकी हैं। लगातार

सुरक्षा बलों के अभियान के जारी रहने की वजह से यहां अनेक नक्सली मारे गये हैं। दूसरी

तरफ दबाव बढ़ने की वह से अनेक नक्सलियों ने आत्मसमर्पण भी कर दिया है।

[subscribe2]

Spread the love
More from आतंकवादMore posts in आतंकवाद »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!