fbpx Press "Enter" to skip to content

प्रतिबंध के बावजूद भी फल-फूल रहा इचाक में अवैध लॉटरी का कारोबार

  • गृहणियों को हो रही है काफी परेशानी

  • लॉटरी विक्रेता ऊंची पहुंच तक की बात करते हैं

  • युवा, फुटपाथ दुकानदार हो रहे हैं लॉटरी का शिकार

इचाक: प्रतिबंध के बावजूद इचाक में अवैध लॉटरी का धंधा फल-फूल रहा है। प्रतिदिन

लगभग पांच लाख की लॉटरी खरीद बिक्री किया जा रहा है। इचाक क्षेत्र के कई धंधेबाज

इस कारोबार से जुड़े हुए हैं। इस गोरखधंधे के जरिए लोगों को मालामाल करने का लालच

दिया जा रहा है। भोले-भाले लोगों को इस कारोबार में फंसाया जा रहा है। खासकर निर्धन

तबके के लोगों को मामूली हिस्से का लालच देकर धंधा कराया जा रहा है। इससे न केवल

सरकार को राजस्व का नुकसान हो रहा है, बल्कि लोग अपनी गाढ़ी कमाई को भी गंवा रहे

हैं। चंद मिनटों में करोड़पति बनने के लालच में लोग लॉटरी की खरीदारी कर रहे हैं। लेकिन

पुलिस प्रशासन का इस ओर ध्यान नहीं जा रहा है। इचाक बाजार सहित इचाक मोड़ में

गोरखधंधा काफी पनप रहा है। चोरी-छिपे लॉटरी की बिक्री की जा रही है। सूत्र बताते हैं कि

इस गोरखधंधे से जुड़े कारोबारी खुद करोड़पति बन चुके हैं। जबकि लॉटरी खरीदने वाले

लोग मेहनत की गाढ़ी कमाई गंवा रहे हैं। खासकर रिक्शा चालक, फुटपाथी दुकानदार,

युवा,मजदूर आदि इन कारोबारियों की जाल में आसानी से फंस रहे हैं। शुरुआत में चंद

हजार रुपए जीतकर लोग इन कारोबारियों से जुड़ रहे हैं और फिर बाद में धीरे-धीरे सारा

रुपए कारोबारियों के पास चला जाता है। सबसे ज्यादा प्रभावित मजदूर परिवार के लोग हो

रहे हैं जिनका सारा पैसा लॉटरी में चला जा रहा है एवं घर परिवार गृहणियों को चलाने में

काफी परेशानी हो रही है।

प्रतिबंध के बावजूद अवैध लॉटरी संचालक बेखौफ हैं

लॉटरी का धंधा प्रतिबंधित होने के बावजूद कारोबारी बेखौफ हैं। पुलिस ऐसे लोगों पर कोई

कार्रवाई नहीं कर रही है। इचाक के पोस्ट ऑफिस रोड, पुरना काली मंडा, नया काली मंडा,

बुढ़िया माता मंदिर एवं इलाहाबाद बैंक के आसपास के सहित विभिन्न चौक-चौराहों पर

लॉटरी खरीदते-बेचते आसानी से लोग देखे जा सकते हैं। इन सारे जगह में थाना से

लगभग 100 से 200 मीटर दूरी में सारा खेल होता है। लेकिन, पुलिस की इस पर नजर नहीं

पड़ रही है। सूत्रों के अनुसार लॉटरी के हुए शिकार युवाओं ने गांव गांव में जाकर छोटे-छोटे

चोरी घर में घुस कर करते नजर आ रहे हैं। लॉटरी विक्रेता ऊंची पहुंच तक की बात करते

हैं और अपना कुछ नहीं बिगड़ने का दावा करते हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from घोटालाMore posts in घोटाला »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from हजारीबागMore posts in हजारीबाग »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: