fbpx Press "Enter" to skip to content

मानवीय संवेदना आज भी जिंदा है अनाथ बच्चे की मदद में अनेक आगे आये

बोकारो: मानवीय संवेदना आज भी जिंदा है, जरूरतमंद की मदद के लिए लोग आगे आ ही

जाते है। सिदियू देवगम का इलाज रांची के रिम्स में चल रहा है। उसकी उम्र 10 साल है।

इस अनाथ बच्चें को दो बार पैरालाईसिस अटैक आ चुका है। सामाजिक कार्यकताओं के

सहयोग से सिदियू का इलाज के लिए रांची रिम्स भेजा गया। जहां बाल रोग विभाग में डॉ

वर्मा के देख- रेख में उपचार चल रहा है। इलाज के दौरान कई महंगे जांच की आवश्यकता

हुई। रांची के युवा नेता राज उरांव की पहल पर ट्रस्ट डाईगोनोस्टिक सेंटर रांची के

संचालक अंशु सहाय ने सिदियू के वस्तु स्थिति को जान कर उक्त सेंटर में एमआरआई

तथा अन्य जांच निःशुल्क किया। रिम्स में रांची के प्रवीण कुमार बच्चे के देखरेख में जुटे

हुए है।

सर पे स्ट्रोक्स, लंबी इलाज की जरूरत

सिदियू देवगम जब वह दो वर्ष का हुआ तब उसके पिता का साया उठ गया। अब उसे पिता

का चेहरा भी याद नही। उनकी मां भी अपने पति के असमय चले जाने से मानसिक

स्थिति ठीक नहीं रहने लगी। सिदीयू जहां जो कुछ मिलता उसे खाकर गुजर-बसर करने

लगा। सिदियू देवगम का मूल गांव चाईबासा के बोडदोर है। उसकी इस अवस्था को देख

गांव के ही नानिका पूर्ति अपने साथ बोकारो ले आई। आसस विद्यालय में नाम लिखा

दिया और वह क्लास एक में पढ़ता है। सिदियू की देखरेख कर रहे नानिका पूर्ति के अनुसार

चार दिन पूर्व घर के पास ही मैदान में अपने दोस्तों के साथ फुटबॉल खेल रहा था।

अचानक चक्कर से आने के बाद बाएं साइड का हाथ, पैर और मुंह खिंचने लगा। आधे घंटे

में दो बार प्रलाइसिस अटैक आया। बोकारो के सदर अस्पताल ने उच्च स्तरीय जांच के

लिए रिम्स भेजा। रिम्स के डॉक्टरों का कहना है बच्चे का सर पे स्ट्रोक्स है और उसे लंबी

इलाज की जरूरत है।

मानवीय संवेदन में इनलोगों ने भी मदद की

जानकारी मिलते ही पुलिस इंस्पेक्टर राजीव कुमार वीर ने इलाज के अभाव में आगे

दिक्कत न हो इसको देखते हुए आसस स्कूल पहुंचकर रिम्स में इलाजरत सिदियू की

मदद के लिए आर्थिक सहयोग विद्यालय के निदेशक को दी। इलाज में आर्थिक मदद

करने वालों में मजदूर नेता राजकुमार गोराई, सिरामिक आर्टिस्ट अनिल गोप, चित्रकार

रंजीत कुमार आदि है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बोकारोMore posts in बोकारो »
More from लाइफ स्टाइलMore posts in लाइफ स्टाइल »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!